Search

बोरिस जॉनसन ने इंग्लैंड के आम चुनावों में बहुमत हासिल किया

बोरिस जॉनसन की कंजरवेटिव पार्टी ने ब्रिटिश हाउस ऑफ कॉमन्स की कुल 650 सीटों में से 364 सीटें जीती हैं.

Dec 15, 2019 11:55 IST
facebook IconTwitter IconWhatsapp Icon

ब्रिटिश प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन की कंजर्वेटिव पार्टी ने ब्रेक्सिट के लिए आगे का मार्ग प्रशस्त करते हुए ब्रिटेन के आम चुनाव 2019 में एक बड़ा बहुमत हासिल किया है.

कंजरवेटिव्स ने ब्रिटिश हाउस ऑफ कॉमन्स की कुल 650 सीटों में से 364 सीटें जीती हैं, जबकि जेरेमी कॉर्बिन की लेबर पार्टी ने 203 सीटें जीती हैं. अन्य दलों में, स्कॉटिश नेशनल पार्टी ने 48 सीटें जीतीं, लिबरल डेमोक्रेट्स ने 11 और डेमोक्रेटिक यूनियनिस्ट पार्टी ने 7 सीटें जीतीं.

इस जीत से जनवरी 2020 में ब्रिटेन को यूरोपीय संघ छोड़ने के लिए एक मजबूत आधार प्राप्त हो गया है. गौरतलब है कि ब्रेक्सिट बोरिस जॉनसन के प्रमुख वायदों में से एक है.

यह भी पढ़ें: निर्मला सीतारमण फोर्ब्स की 100 सबसे शक्तिशाली महिलाओं की सूची में 34वें स्थान पर

ब्रिटिश चुनाव 2019

  • बोरिस जॉनसन की पार्टी एक बड़े बहुमत से जीती है. पार्टी ने 364 सीटों पर जीत दर्ज की है जबकि बहुमत के लिए 324 सीटों की आवश्यकता होती है. चुनावों में पार्टी का वोट शेयर 43.6 प्रतिशत था, जबकि लेबर पार्टी का वोट शेयर 32.2 प्रतिशत था.
  • लिबरल डेमोक्रेट नेता जो स्विन्सन स्कॉटिश नेशनल पार्टी के लिए अपनी सीट हार गए. जबकि, SNP ने स्कॉटलैंड में अपना वोट शेयर बढ़ाया है.
  • मुख्य विपक्षी दल, लेबर पार्टी के नेता, जेरेमी कॉर्बिन ने घोषणा की कि वे अपना पद छोड़ देंगे और पार्टी की अध्यक्षता नहीं करेंगे.

इंग्लैंड आम चुनाव 2019 परिणाम

पार्टी

परिणाम

कंजर्वेटिव पार्टी

364

लेबर पार्टी

203

स्कॉटिश नेशनल पार्टी

48

लिबरल डेमोक्रेट्स

11

डेमोक्रेटिक यूनियनिस्ट पार्टी

8

सिन फिन

7

प्लेड क्य्म्रू

4

ग्रीन पार्टी

1

ब्रेक्सिट पार्टी

-

यूके इंडिपेंडेंट पार्टी

-

अन्य दल

3

पृष्ठभूमि

वर्ष 1987 में मार्गरेट थैचर के बाद से ब्रिटेन के चुनावों में बोरिस जॉनसन का यह बहुमत उनकी पार्टी के लिए सबसे बड़ा बहुमत है. इससे उन्हें यूरोपीय संघ के साथ बातचीत करने के लिए अतिरिक्त समय मिलेगा और ब्रेक्सिट सौदे को मंजूरी देने के लिए पर्याप्त संख्या मिलेगी. यूरोपियन यूनियन से अलग होने के लिए ब्रिटेन की अंतिम तिथि 31 जनवरी 2020 है.

यह भी पढ़ें: नागरिकता (संशोधन) विधेयक क्या है, जिसे राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने दी मंजूरी

यह भी पढ़ें: संसद से SC-ST आरक्षण से जुड़ा बिल पास, जाने इस बिल के बारे में

Download our Current Affairs & GK app For exam preparation

डाउनलोड करें करेंट अफेयर्स ऐप एग्जाम की तैयारी के लिए

AndroidIOS