Search

विजयनगर साम्राज्य: सलुव राजवंश

यह विजयनगर साम्राज्य पर राज करने वाला दूसरा राजवंश था.
Sep 19, 2014 12:09 IST
facebook Iconfacebook Iconfacebook Icon

यह विजयनगर साम्राज्य पर राज करने वाला दूसरा राजवंश था. सलुव राजवंश के राजाओं और उनके बारे संक्षिप्त विवरण निम्नलिखित है:

सलुव नरसिंह देवराय (1485 ईस्वी-1491ईस्वी)

इसने अपने साम्राज्य का विस्तार करने की कोशिश की, लेकिन इसे विद्रोही सरदारों से कड़े विरोध का सामना करना पड़ा. इसने मंगलौर, होन्नावर, बकनुर और भटकल की कन्नड़ देश के पश्चिमी बंदरगाहों पर विजय प्राप्त की, लेकिन गजपति कपिलेन्द्र के हाथों उदयगिरी को खो दिया. इसकी 1491 में मृत्यु हो गई.

थिम्मा भूपाल (1491ईस्वी)

यह अपने पिता नरसिंह देव राय के पश्चात शासक बना था. इसके शासन काल में इसके सेना कमांडर नें राजनीतिक अशांति का फायदा उठाया और उसकी हत्या कर दी थी. इसके पश्चात इसका छोटा भाई नरसिंह राय द्वितीय शासक बना.

नरसिंह राय द्वितीय (1491ईस्वी -1505ईस्वी)

एक राजा होने के बावजूद यह एक कठपुतली शासक बना रहा. अपने मृत्यु के अंतिम समय 1505 ईस्वी तक यह अपने कमांडर नरसा नायक के नियन्त्रण में बना रहा. यह नरसा नायक के पुत्र के द्वारा मार डाला गया. इसकी मृत्यु के पश्चात वीर नरसिंह नया राजा बना. वीरनरसिंह राय नरसा नायक की मृत्यु के बाद साम्राज्य के रीजेंट के रूप में काम कर रहा था. इस प्रकार सलुव राजवंश का अंत हो गया.