Search

खेल मंत्री किरेन रिजिजू ने खेलो इंडिया सामुदायिक कोच विकास कार्यक्रम को शुरू किया

खेल मंत्री किरेन रिजिजू ने कहा कि भारत के प्रत्येक कोने में स्थित बच्चे तक पहुंचने और उन्हें दैनिक जिंदगी में खेल और फिटनेस को अपनाने हेतु प्रेरित करने में सामुदायिक प्रशिक्षक और शारीरिक शिक्षा अध्यापक अहम भूमिका निभा सकते हैं.

Jun 3, 2020 10:54 IST
facebook IconTwitter IconWhatsapp Icon

केंद्रीय खेल मंत्री किरेन रिजिजू ने देश भर के 15,000 शारीरिक शिक्षा अध्यापकों और प्रशिक्षकों के लिये 01 जून 2020 को 25 दिवसीय खेलो इंडिया सामुदायिक प्रशिक्षक विकास कार्यक्रम का उदघाटन किया. खेल मंत्री किरेन रिजिजू ने इसे भारत के खेल राष्ट्र बनने के उद्देश्य हेतु बेहद महत्वपूर्ण कार्यक्रम करार देते हुए कहा कि इससे पहले स्कूलों में शारीरिक शिक्षा की तदर्थ व्यवस्था हुआ करती थी और इसे कभी बहुत अधिक महत्व नहीं दिया गया.

खेल मंत्री किरेन रिजिजू ने कहा कि भारत के प्रत्येक कोने में स्थित बच्चे तक पहुंचने और उन्हें दैनिक जिंदगी में खेल और फिटनेस को अपनाने हेतु प्रेरित करने में सामुदायिक प्रशिक्षक और शारीरिक शिक्षा अध्यापक अहम भूमिका निभा सकते हैं. अगर खेल संस्कृति विकसित की जा सकती है तो चैंपियन स्वत: ही तैयार होंगे.

खेल मंत्री किरेन रिजिजू ने कहा कि हम भारत के प्रत्येक स्कूल में इसे पहुंचाने हेतु मानव संसाधन विकास मंत्रालय के साथ मिलकर काम करेंगे. उन्होंने कहा कि फिटनेस दैनिक जिंदगी का हिस्सा होना चाहिए. यह वैकल्पिक नहीं होना चाहिए. यह शुरुआत है और कुछ वर्षों में इसके दूरगामी प्रभाव पड़ेंगे और भारत फिट राष्ट्र में बदल जाएगा.

खेलो इंडिया ई-पाठशाला का उद्घाटन

खेल मंत्री किरेन रिजिजू और आदिवासी कल्याण मंत्री अर्जुन मुंडा ने हाल ही में वेबिनार के साथ खेलो इंडिया ई-पाठशाला का उद्घाटन किया जिसमें देश भर के युवा तीरंदाजों, तीरंदाजी के कोचों और इस खेल से जुड़े विशेषज्ञों ने भाग लिया.

ई-पाठशाला के जरिए उन खिलाड़ियों को कोचिंग और शिक्षा मिल सकेगी जो दूरस्थ क्षेत्रों में रहते हैं. भारतीय खेल प्राधिकरण (साइ) ने राष्ट्रीय खेल महासंघों (एनएसएफ) के साथ मिलकर हाल में यह कार्यक्रम शुरू किया था. खेल मंत्री किरेन रिजिजू ने कहा कि इस तरह का कार्यक्रम समय की जरूरत है.

खेल मंत्री ने बयान में कहा कि यह विशेष कार्यक्रम भारत के दूरस्थ क्षेत्रों के खिलाड़ियों से जुड़ेगा जिन्हें हमेशा प्रतिष्ठित खिलाड़ियों या कोचों से सलाह लेने का मौका नहीं मिल सकता. मुझे पूरा विश्वास है कि यह कार्यक्रम अधिक युवा खिलाड़ियों को खेल को पेशेवर तौर पर अपनाने के लिये प्रेरित करेगा.

इस कार्यक्रम में 21 खेलों को शामिल किया गया हैं. इनमें ऐथलेटिक्स, तीरंदाजी, मुक्केबाजी, साइकिलिंग, तलवारबाजी, फुटबॉल, जिम्नास्टिक, हॉकी, जूडो, कयाकिंग एवं कैनोइंग, कबड्डी, पैरा खेल, रोइंग, निशानेबाजी, ताइक्वांडो, टेबल टेनिस, वॉलीबॉल, भारोत्तोलन, कुश्ती और वुशु शामिल हैं.

Download our Current Affairs & GK app For exam preparation

डाउनलोड करें करेंट अफेयर्स ऐप एग्जाम की तैयारी के लिए

AndroidIOS