Search

शिवाजी स्मारक के बारे में 9 रोचक तथ्य

पूना में 1630 में जन्मे शिवा जी को मराठा साम्राज्य की स्थापना और मराठों के विरुद्ध छापामार युद्ध के लिए जाना जाता है| उनकी वीरता को यादगार बनाने के लिए प्रधाममंत्री मोदी ने अरब सागर में शिवाजी की 192 मीटर ऊंची प्रतिमा वाले स्मारक की स्थापना की आधारशिला 24 दिसम्बर 2016 को रखी है | 15 एकड़ के द्वीप पर प्रस्तावित इस स्मारक की कुल लागत 3600 करोड़ रूपये है |
Dec 26, 2016 12:01 IST
facebook Iconfacebook Iconfacebook Icon

पूना में 1630 में जन्मे शिवा जी को मराठा साम्राज्य की स्थापना और मराठों के विरुद्ध छापामार युद्ध के लिए जाना जाता है| उनकी वीरता को यादगार बनाने के लिए प्रधाममंत्री मोदी ने अरब सागर में शिवाजी की 192 मीटर ऊंची प्रतिमा वाले स्मारक की स्थापना की आधारशिला 24 दिसम्बर 2016 को रखी है | मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस के अनुसार,‘शिवाजी स्मारक’ देश ही नहीं बल्कि पूरी दुनिया में सबसे लंबा स्मारक होगा। आइये इस स्मारक के बारे कुछ और रोचक तथ्यों पर नजर डालते हैं |

1. प्रधानमंत्री मोदी ने 24 दिसम्बर को ‘अरब सागर’ में छत्रपति शिवाजी स्मारक की आधारशिला रखी है |
2. इस परियोजना की कुल लागत 3600 करोड़ रूपये है जिसमें से पहले चरण की लागत 2500 करोड़ रूपये होगी।
3. यह स्मारक 15 एकड़ के द्वीप पर प्रस्तावित है और यह समंदर के किनारे से 1.5 किलोमीटर अंदर होगा।

Jagranjosh

Image source:http://inwww.rediff.com

4. इस स्मारक मे शिवाजी महाराज के पुतले की घोड़े सहित ऊंचाई 192 मीटर होगी ।
5. घोडे पर बैठे हुए छत्रपती शिवाजी महाराज के पुतले की उंचाई 114.4 मीटर होगी।
6. यह समुद्र में 13 हेक्टेयर की एक विशाल चट्टान पर बनेगा। उच्च ज्वार (हाई टाइड) के समय भी यह चट्टान पानी से 2-3 मीटर ऊपर रहती है। 
7. इस स्मारक में एक समय में 10 हजार लोग एक साथ आ सकते है।
8. इस स्मारक में एम्पीथिएटर, मंदिर, फूड कोर्ट, लाइब्रेरी, ऑडियो गायडेड टूर, थ्री डी-फोर डी फिल्म, मछलीघर जैसी सुविधाए होंगी।
9. यहाँ पर गिरगांव चौपाटी से स्पीड बोट से 10 मिनट और सादा इंजन बोट से 20 मिनट में वहां पहुंचा जा सकता है।

स्मारक से जुड़े विवाद:

1. एक अनुमान के मुताबिक इस परियोजना से करीब 3500 मछुआरे प्रभावित होंगे क्योंकि वे अब यहाँ मछली पकड़ने पानी में नहीं जा सकेंगे।
2. पर्यावरणविदों का कहना है कि इस निर्माण से मुम्बई की गिरगाव चौपाटी ख़त्म हो सकती है। साथ ही, इससे समुद्री पर्यावरण को गंभीर खतरा पैदा होगा।

शाहजहाँ की तरह भारत में एक और शख्स ने खड़ा कर दिया ताजमहल

पूना में 1630 में जन्मे शिवा जी को मराठा साम्राज्य की स्थापना और मराठों के विरुद्ध छापामार युद्ध के लिए जाना जाता है| उनकी वीरता को अमर बनाने के लिए प्रधाममंत्री मोदी ने अरब सागर में शिवाजी की 192 मीटर ऊंची प्रतिमा वाले स्मारक की स्थापना की आधारशिला 24 दिसम्बर 2016 को रखी है | मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस के अनुसार,शिवाजी स्मारकदेश ही नहीं बल्कि पूरी दुनिया में सबसे लंबा स्मारक होगा। आइये इस स्मारक के बारे कुछ और रोचक तथ्यों पर नजर डालते हैं |

1.      प्रधानमंत्री मोदी ने 24 दिसम्बर कोअरब सागरमें छत्रपति शिवाजी स्मारक की आधारशिला रखी है |

2.      इस परियोजना की कुल लागत 3600 करोड़ रूपये है जिसमें से पहले चरण की लागत 2500 करोड़ रूपये होगी।

3.      यह स्मारक 15 एकड़ के द्वीप पर प्रस्तावित है और यह समंदर के किनारे से 1.5 किलोमीटर अंदर होगा।

Image source:http://inwww.rediff.com

4.      इस स्मारक मे शिवाजी महाराज के पुतले की घोड़े सहित ऊंचाई 192 मीटर होगी

5.      घोडे पर बैठे हुए छत्रपती शिवाजी महाराज के पुतले की उंचाई 114.4 मीटर होगी।

6.      यह समुद्र में 13 हेक्टेयर की एक विशाल चट्टान पर बनेगा। उच्च ज्वार (हाई टाइड) के समय भी यह चट्टान पानी से 2-3 मीटर ऊपर रहती है। 

7.      इस स्मारक में एक समय में 10 हजार लोग एक साथ सकते है।

8.      इस स्मारक में एम्पीथिएटर, मंदिर, फूड कोर्ट, लाइब्रेरी, ऑडियो गायडेड टूर, थ्री डी-फोर डी फिल्म, मछलीघर जैसी सुविधाए होंगी।

9.      यहाँ पर गिरगांव चौपाटी से स्पीड बोट से 10 मिनट और सादा इंजन बोट से 20 मिनट में वहां पहुंचा जा सकता है।

स्मारक से जुड़े विवाद:

1.      एक अनुमान के मुताबिक इस परियोजना से करीब 3500 मछुआरे प्रभावित होंगे क्योंकि वे अब यहाँ मछली पकड़ने पानी में नहीं जा सकेंगे।

2.      पर्यावरणविदों का कहना है कि इस निर्माण से मुम्बई की गिरगाव चौपाटी ख़त्म हो सकती है। साथ ही, इससे समुद्री पर्यावरण को गंभीर खतरा पैदा होगा।

शाहजहाँ की तरह भारत में एक और शख्स ने खड़ा कर दिया ताजमहल