Search

एस.एस. सी-जेई व आर.आर.बी-जेईका तुलनात्मक विश्लेषण

ऐसे बहुत से परीक्षार्थी  हैं जो एस.एस.सी.-जेई एवं आर. आर.बी.जेई दोनों ही परीक्षामें बैठते हैं एवं उनकी तैयारी भी साथ-साथ करते हैं l कभी-कभी तो परीक्षार्थी साक्षात्कारकेपश्चात दोनों ही परीक्षा में सफल हो जाते हैं ǀऐसी स्थिति में क्या सही है इसके चुनाव में दुविधा एवं गलती होना सामान्य सी बात है l

Nov 23, 2016 12:30 IST
facebook IconTwitter IconWhatsapp Icon

ऐसे बहुत से परीक्षार्थी  हैं जो एस.एस.सी.-जेई एवं आर. आर.बी.जेई दोनों ही परीक्षामें बैठते हैं एवं उनकी तैयारी भी साथ-साथ करते हैं l कभी-कभी तो परीक्षार्थी साक्षात्कारकेपश्चात दोनों ही परीक्षा में सफल हो जाते हैं ǀऐसी स्थिति में क्या सही है इसके चुनाव में दुविधा एवं गलती होना सामान्य सी बात है l इस लेख में हम इन परीक्षाओं के कुछ अत्यंत विचारणीय मानदंडों जैसे चयन की प्रक्रिया, वेतनमान, नौकरी की प्रकृति एवं तबादले इत्यादि के विषय में चर्चा करेंगे ǀ

चयन प्रक्रिय

आर.आर.बी-जेई

एस.एस. सी-जेई

यह कंप्यूटर आधारित परीक्षा है ǀ

यह आंशिक रूप में कंप्यूटर आधारित परीक्षा है ǀ

इसमें 150 बहुविकल्पीयप्रश्न पूछे जाते हैंǀ

इसमें बहुविकल्पीय प्रश्न पूछे जाते हैं जिसके पश्चात लिखित परीक्षा होती है ǀ

प्रश्न एप्टीटयूड के साथ-साथ अभियांत्रिक की सभी शाखाओं से पूछे जाते हैंǀ

 

प्रश्न सिर्फ उसी शाखा से पूछे जाते हैं जिसमें परीक्षार्थी ने स्नातक परीक्षा उत्तीर्ण की है ǀ

परीक्षार्थी सिर्फ क्षेत्रानुसार ही आवेदन कर सकते हैंǀ

उदाहरण के लिए यदि आपने सिकंदाराबाद से फार्म भरा है  तो चयन के पश्चात आपकी नियुक्ति सिकंदाराबाद में की जाएगी  ǀ 

 

जबकि यह परीक्षा पूरे भारत में नियुक्ति के लिए आयोजित होती है एवं आपकोदेश में कहीं पर भी नियुक्त किया जा सकता है ǀ  

चयन की दर प्रति हजार परीक्षार्थी में से लगभग 100-300 है ǀ  

जबकि एस.एस.सी जेई में यह अपेक्षाकृत कम है अर्थात प्रति हजार परीक्षार्थी में से लगभग 100-200ǀ  

 

एस.एस.सी-सी.जी.एलएवंआर.आर.बी.एन.टी.पी.सी. एक तुलनात्मक विश्लेषण

वेतनमान:

दोनों ही पदों के लियेवेतनमान समान है अर्थात  9300-34800 रूपये

नौकरी की प्रकृति :

एस.एस.सी.-जेई के द्वारा आप सी.पी. डब्लू डी, एम्.ई.एस एवं डाक विभाग मेंनियुक्त किये जा सकते हैंǀ  जबकि आर. आर. बी.जेई में आपको टी.आर.डी,आई.टी, कार्यशाला,पी-वे (P-way) एवं पुल संभाग में ट्रांसफर किया जा सकता हैंǀ  नौकरी की प्रकृति के विषय में कुछभी स्थायी नहीं है एवं यह आर.आर.बी तथाएस.एस.सी में आपके नियुक्ति स्थल पर निर्भर करती हैǀ

अन्य सुविधाएं 

 

आरआरबी जे ई

एसएससी जे ई

मकान

लगातार हानि की वजह से इस संस्थान द्वारा आवास मुहैया नहीं कराया जाता है l

जबकि यह आरआर बी जे ई से बेहतरहै l

यात्रा भत्ता

आपको प्रथम श्रेणी के वातानुकूलित (AC) शयनयान का किराया एवं रेलवे टिकट में अन्य छूट दी जाती हैǀ

आपको प्रतिवर्ष एक बार भारत में कहीं भी छुट्टी बिताने के लिए हवाई जहाज के टिकट का खर्चा मिलता हैǀ

कार्यक्षेत्र

इसमें अत्यधिक जमीनी कार्य अर्थात कार्यालय के बाहरअत्यधिक कार्य हैǀ

जबकि इसमें कार्यालय में ही कार्य करना होता है ǀ

प्रोमोशन

इसमें उन्नति के अवसर बहुत सीमित है ǀ

जबकि एस.एस.सी जेई आपको उच्चशिक्षा के लिये अध्ययन अवकाश देती है ताकि आप आगे पदोन्नति प्राप्त कर सकेंǀ

इस पूरे विश्लेषण के पश्चात हम इस निष्कर्ष पर पहुँच सकते हैं किएस.एस.सी-जेई आराम की नौकरी है जबकि आर.आर.बी –जेई एक मेहनत की नौकरी है l दोनों ही परीक्षाओं में अत्यधिक प्रतिस्पर्धा है एवं हर एक नौकरी के अपने- अपने लाभ एवं हानियां हैं l

कोई तब तक यहज्ञातनहीं कर सकता /सकती कि इनमें से कौन-सी नौकरी उनके लिये उपयुक्त है जब तक की वह इसका अनुभव नहीं कर लेता/लेतीहै l

Related Stories