Search

कर्नाटक ने सौराष्ट्र को हराकर तीसरी बार विजय हजारे ट्रॉफी जीती

मयंक अग्रवाल ने 79 बॉल पर 11 चौके और 3 छक्कों की मदद से 90 रन बनाए. मयंक अग्रवाल को उनके 90 रनों की पारी के लिए मैन ऑफ द मैच चुना गया.

Mar 1, 2018 11:11 IST

कर्नाटक ने 27 फरवरी 2018 को नई दिल्ली में खेले गये फाइनल मैच में सौराष्ट्र को 41 रन से हराकर तीसरी बार विजय हजारे ट्रॉफी राष्ट्रीय एकदिवसीय चैंपियनशिप जीती.

इस सत्र में रणजी ट्रॉफी में सर्वाधिक 1160 रन बनाने वाले 27 वर्षीय बल्लेबाज अग्रवाल ने 90 रन की जबरदस्त पारी खेली.

सौराष्ट्र के कप्तान चेतेश्वर पुजारा ने पहले फील्डिंग का फैसला किया. इसके जवाब में कर्नाटक की शुरुआत बेहद खराब रही और दूसरे ही ओवर में कप्तान करुण नायर अपना खाता खोले बिना ही पवेलियन लौट गए. इसके बाद आए के एल राहुल भी शून्य के स्कोर पर रन आउट हुए. इसके बाद मयंक अग्रवाल ने टीम को संभाला उन्होंने 79 बॉल पर 11 चौके और 3 छक्कों की मदद से 90 रन बनाए. मयंक अग्रवाल को उनके 90 रनों की पारी के लिए मैन ऑफ द मैच चुना गया.

मयंक अग्रवाल ने 3 शतक और 4 अर्धशतक की मदद से टूर्नामेंट में सबसे ज्यादा 723 रन बनाये. हैदराबाद के मोहम्मद सिराज ने सबसे ज्यादा 23 विकेट लिए, जिसमें उन्होंने एक पारी में तीन बार 5 विकेट लिए.

 

 

संक्षिप्त स्कोरकार्ड
कर्नाटक: 253 (मयंक अग्रवाल 90, कमलेश मकवाना 4/34)
सौराष्ट्र: 212 (चेतेश्वर पुजारा 94, कृष्णप्पा गौतम 3/27)

विजय हजारे ट्रॉफी
विजय हजारे ट्रॉफी को रणजी वनडे ट्रॉफी के नाम से भी जाना जाता है. इसकी शुरुआत वर्ष 2002-03 में एक सीमित ओवरों के रूप में शुरू किया गया था. यह रणजी ट्रॉफी प्लेट के राज्य की टीमों से जुड़ी घरेलू प्रतियोगिता है. इसे प्रसिद्ध भारतीय क्रिकेटर विजय हजारे के नाम पर रखा गया है. तमिलनाडु ने अब तक सबसे अधिक पांच बार यह ख़िताब जीता है जबकि कर्नाटक तीन बार यह ख़िताब जीत चुका है.