Search

74वें स्वतंत्रता दिवस की पूर्व संध्या पर राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद का देश के नाम संबोधन

राष्ट्रपति ने अपने संबोधन में कोरोना महामारी के दौर में देश की स्थिति, सरकार के कार्यों एवं समाज के सहयोग पर जोर दिया. उन्‍होंने कहा कि कोरोना संकट के दौर में सरकार ने किसानों, छोटे व्‍यापारियों के लिए कारगर कदम उठाए हैं.

Aug 14, 2020 20:21 IST
facebook IconTwitter IconWhatsapp Icon

राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद ने 74वें स्वतंत्रता दिवस की पूर्व संध्या पर देश के नाम संबोधन दिया. राष्ट्रपति ने सबसे पहले हिंदी और फिर अंग्रेजी में देश को संबोधित किया. इस साल कोरोना वायरस महामारी के बीच स्वतंत्रता दिवस मनाया जा रहा है.

राष्ट्रपति ने अपने संबोधन में कोरोना महामारी के दौर में देश की स्थिति, सरकार के कार्यों एवं समाज के सहयोग पर जोर दिया. उन्‍होंने कहा कि कोरोना संकट के दौर में सरकार ने किसानों, छोटे व्‍यापारियों के लिए कारगर कदम उठाए हैं. हमारे युवाओं के लिए यह स्वाधीनता के गौरव को महसूस करने का दिन है.

राष्ट्रपति के संबोधन की बड़ी बातें

• राष्ट्रपति कोविंद ने आगे कहा कि, इन असाधारण प्रयासों के बल पर, घनी आबादी और विविध परिस्थितियों वाले हमारे विशाल देश में, इस चुनौती का सामना किया जा रहा है.

• राज्य सरकारों ने स्थानीय परिस्थितियों के अनुसार कार्रवाई की. जनता ने पूरा सहयोग दिया. इन प्रयासों से हमने वैश्विक महामारी की विकरालता पर नियंत्रण रखने और बहुत बड़ी संख्‍या में लोगों के जीवन की रक्षा करने में सफलता प्राप्त की है.

• राष्ट्रपति ने कहा कि यह पूरे विश्‍व के सामने एक अनुकरणीय उदाहरण है. राष्ट्र उन सभी डॉक्टरों, नर्सों तथा अन्य स्वास्थ्य-कर्मियों का ऋणी है जो कोरोना वायरस के खिलाफ इस लड़ाई में अग्रिम पंक्ति के योद्धा रहे हैं.

• उन्होंने कहा कि इस वर्ष स्वतंत्रता दिवस के उत्सवों में हमेशा की तरह धूम-धाम नहीं होगी. इसका कारण स्पष्ट है. पूरी दुनिया एक ऐसे घातक वायरस से जूझ रही है जिसने जन-जीवन को भारी क्षति पहुंचाई है और हर प्रकार की गतिविधियों में बाधा उत्पन्न की है.

• राष्ट्रपति ने कहा कि इन कोरोना-योद्धाओं की जितनी भी सराहना की जाए, वह कम है. ये सभी योद्धा अपने कर्तव्य की सीमाओं से ऊपर उठकर, लोगों की जान बचाते हैं और आवश्यक सेवाओं की उपलब्धता सुनिश्चित करते हैं.

• उन्होंने कहा कि इस महामारी का सबसे कठोर प्रहार, गरीबों और रोजाना आजीविका कमाने वालों पर हुआ है. संकट के इस दौर में, उनको सहारा देने के लिए, वायरस की रोकथाम के प्रयासों के साथ-साथ, अनेक जन-कल्याणकारी कदम उठाए गए हैं.

• राष्ट्रपति ने कहा कि 'प्रधानमंत्री गरीब कल्याण योजना' की शुरूआत करके सरकार ने करोड़ों लोगों को आजीविका दी है, ताकि महामारी के कारण नौकरी गंवाने, एक जगह से दूसरी जगह जाने तथा जीवन के अस्त-व्यस्त होने के कष्ट को कम किया जा सके.

• राष्ट्रपति कोविंद ने आगे कहा कि, लॉकडाउन और उसके बाद क्रमशः अनलॉक की प्रक्रिया के दौरान शासन, शिक्षा, व्यवसाय, कार्यालय के काम-काज और सामाजिक संपर्क के प्रभावी माध्यम के रूप में सूचना और संचार प्रौद्योगिकी को अपनाया गया है.

Take Weekly Tests on app for exam prep and compete with others. Download Current Affairs and GK app

एग्जाम की तैयारी के लिए ऐप पर वीकली टेस्ट लें और दूसरों के साथ प्रतिस्पर्धा करें। डाउनलोड करें करेंट अफेयर्स ऐप

AndroidIOS