1. Home
  2. Hindi
  3. Personality test: जानें आपका बैठने का तरीका आपके व्यक्तित्व के बारे में क्या बताता है?

Personality test: जानें आपका बैठने का तरीका आपके व्यक्तित्व के बारे में क्या बताता है?

क्या आपको पता है कि आपके बैठने का तरीका आपके व्यक्तित्व के बारे में बताता है। तो क्या आपने कभी आपने बैठने पर गौर किया है। आज हम आपको बैठने के कुछ ऐसे ही तरीकों के बारे में बताएंगे, जिसमें घुटनों को सीधा करके बैठना, घुटने अलग कर बैठना, टखने पार कर बैठना, पैर पार या फिगर-फोर लेग लॉक कर  बैठना शामिल है।

Sitting positions personality test
Sitting positions personality test

विशेषज्ञों द्वारा किए गए व्यवहारिक अध्ययन में यह पाया गया है कि पैर की स्थिति व्यक्तित्व को प्रकट करती है। यानि हमारे पैर बता सकते हैं हम किस तरह के व्यक्तित्व के व्यक्ति हैं। विशेषज्ञों का कहना है कि पैर हमारे अवचेतन मन के माध्यम से दिए गए आदेशों के आधार पर कार्य करते हैं, जो या तो हम जो चाहते हैं उस दिशा में जाने या खतरे या नकारात्मक भावनाओं जैसे घबराहट, चिंता, ऊब और असुरक्षा आदि के मामले में दूर चले जाते हैं।

अध्ययनों से पता चला है कि उड़ानों में एयरलाइन कर्मियों को घबराहट या सेवा मांगने की चिंता के संकेत के रूप में टखनों को पार करके बैठे लोगों को देखने के लिए प्रशिक्षित किया जाता है। अपने प्रशिक्षण के दौरान केबिन स्टाफ को इन यात्रियों से आमतौर पर एक से अधिक बार पूछना सिखाया जाता है, ताकि वे यह जान सके कि क्या वे कुछ और चाहते हैं, साथ ही इससे यात्रियों को भी खुलने और आराम करने में मदद मिले।

आइए अब जानते हैं अलग-अलग तरह से बैठने वाले व्यक्ति किस प्रकार के व्यक्तित्व के होते हैं और उन्हें देखकर आप उनके किन लक्षणों के बारे में जान सकेंगे। 

1.घुटने सीधे करके बैठना

 

 

प्रमुख गुण: बुद्धिमान, तर्कसंगत तरीके से सोचने वाला, समयनिष्ठ, स्मार्ट तरीके से काम करने वाला, स्वच्छता से प्यार करने वाला, अंदर से ईमानदार, लेकिन आरक्षित।

ओहियो स्टेट यूनिवर्सिटी के शोधकर्ताओं द्वारा किए गए एक अध्ययन में यह बात सामने आई कि जो लोग घुटनों के बल सीधे बैठते हैं, उन्हें साक्षात्कार के दौरान नौकरी की भूमिका के लिए योग्य माना जाता है।  ऐसे भी व्यक्तियों को खुद पर और अपने कौशल पर विश्वास करने वाला भी माना जाता है। ऐसे व्यक्तियों का अपने प्रति एक स्वस्थ और सकारात्मक दृष्टिकोण होता है। ऐसे में इस तरह के व्यक्तियों में असुरक्षा की भावना कम पाई जाती है।

घुटनों को सीधा करके सीधे बैठना उच्च स्तर के आत्मविश्वास को बताता है। इस तरह के लोग बुद्धिमान और तर्कसंगत होने के साथ अपने दैनिक जीवन में समय के पाबंद होते हैं। उनके किसी भी जगह, मीटिंग या इंटरव्यू में देर से पहुंचने की संभावना सबसे कम होती है।

ऐसे व्यक्ति स्मार्ट काम करने और अपने स्थान, घर, रसोई, या कार्यालय की जगह और कार्यक्षेत्र को साफ और क्रम में रखने की अधिक संभावना रखते हैं। उनके घरों या कार्यस्थल के साफ होने की सबसे अधिक संभावना होती है। साथ ही ऐसे व्यक्तियों को अधिकांश सामान इधर-उधर बिखरे रहने के बजाय अपनी जगह पर होता है। 

इस तरह के व्यक्ति ईमानदार होते हैं, लेकिन काफी आरक्षित होते हैं। ऐसे व्यक्ति गपशप करने या लोगों के पीछे से बात करने से बचेंगे। ऐसे लोग लोगों के आगे माहौल के बनाने या किसी विवाद में शामिल होने के बजाय अपनी भावनाओं को अपने तक ही सीमित रखेंगे। 

इसके साथ ही इस तरह के व्यक्तियों में विपरीत परिस्थितियों में भी शांत रहने की क्षमता होती है। यही वजह है कि यह किसी भी घटना को लेकर अपना नजरिया खोने नहीं देते। उनका शांत दिमाग उन्हें पर्यावरण में किसी भी बदलाव या रोजमर्रा की जिंदगी में होने वाली सामान्य घटनाओं का पता लगाने में भी मदद करता है।

2. घुटने अलग कर बैठना

 

 

मुख्य विशेषताएं: आत्म-केंद्रित, अभिमानी, आलोचनात्मक, कम ध्यान देने वाला और जल्दी ऊबने वाला।

जो लोग अपने घुटनों को अलग करके बैठते हैं उनके बारे में एक आत्मकेंद्रित होने की बात पाई जाती है। वे अहंकारी और न्यायप्रिय भी प्रतीत होते हैं। हालांकि, अध्ययनों से पता चला है कि सतह पर जो दिखता है, उसके बिल्कुल विपरीत है। ऐसे व्यक्तियों के चिंतित व्यक्तित्तव होने की सबसे अधिक संभावना है। इस तरह के लोग किसी भी चीज को पूरा करने का लक्ष्य इस तरह से रखते हैं कि वे हमेशा कुछ न कुछ गलत होने के डर से भरे रहते हैं। 

शोध से पता चला है कि जो लोग घुटनों के अलग कर बैठते हैं, उनका दिमाग और शेड्यूल बहुत अराजक होता है। उनका ध्यान कम होता है और ध्यान केंद्रित करने में परेशानी होती है। वे हमेशा हर नई चीज क खोजने और उसके पीछे मोहित रहते हैं। हालांकि, ऐसे लोग एक समय में एक कार्य को भी ठीक से पूरा नहीं कर पाते हैं।

ऐसे लोगों को लगता है कि वे जो बहुत ही बुद्धिमानी वाली बात बोल रहे हैं। इस तरह के लोग अपने शब्दों के नतीजों को भूल जाते हैं या बातचीत के बीच में ही अपनी बात को भूल जाते हैं। 

वे आसानी से ऊब जाते हैं। वे उदासीन भी हो सकते हैं और रिश्तों को छोड़ सकते हैं। इन लोगों को अपने आसपास बहुत अधिक उत्तेजक ऊर्जा की आवश्यकता होती है। ऐसे लोगों को रिश्तों या काम में संगठित तरीके से काम करने के लिए निरंतर पीछे से आगे बढ़ाने के लिए किसी व्यक्ति और अनुशासन की आवश्यकता होती है।

 आमतौर पर पुरुष घुटनों को फैलाकर बैठते हैं या जिसे मैनस्प्रेडिंग भी कहा जाता है, हालांकि इन्हें आमतौर पर मनोविज्ञान में पुरुष बच्चे के रूप में देखा जाता है, जिन्हें खुद को संभालने के लिए मां या किसी शख्स की जरूरत होती है। 

3.पैर को क्रॉस कर बैठना

 

 

 

 

 

 

 

प्रमुख लक्षण: कलात्मक, रचनात्मक, कल्पनाशील, खुली आंखों से सपने देखने वाला व रक्षात्मक।

क्या आप कलात्मक हैं? क्या आप खुली आंखों से बहुत सपने देखते हैं? तो आप अपने पैरों को क्रॉस करके बैठते होंगे। अध्ययनों से पता चला है कि यदि आप क्रॉस लेग के साथ बैठने वाले व्यक्ति हैं, तो आप अक्सर आउट-ऑफ-बॉक्स रचनात्मक विचारों को सोचने वाले व्यक्ति हैं। आप कल्पनाशील सोच रखते हैं। आप काफी सपने देखने वाले हैं। लोगों के समूह में बैठकर आप अपने विचारों की दुनिया में खो सकते हैं। आपके पास आमतौर पर एक बड़ा व्यक्तित्व होता है।

हालांकि, इसका एक नकारात्मक पहलू भी है। क्रॉस लेग्स के साथ बैठना भी रक्षात्मक या बंद-बंद रवैये के रूप में सामने आता है। आप अपने जीवन में किसी को नहीं चाहते या उसे जगह नहीं दे सकते। आप या तो भयभीत हैं या अपनी असुरक्षाओं को छिपा रहे होते हैं।

हालांकि, बैठने की इन तरीकों में अंतर हैं। यदि आप अपनी कुर्सी पर अपने पैरों को क्रॉस करके आराम से बैठे हैं और आपका पैर आपके सामने वाले व्यक्ति की दिशा में है, तो आप आश्वस्त हैं और बातचीत का आनंद ले रहे हैं।

वहीं, अगर आप तंग होकर बैठे हैं या अपने पैरों को कसकर क्रॉस करके बेचैन हो रहे हैं, तो सबसे अधिक संभावना है कि आप असहज हैं। आपका दिमाग उस समय पूरी तरह से कहीं और है।

बातचीत के दौरान, पैरों को क्रॉस करके बैठने को उदासीन माना जाता है, खासकर यदि आपका पैर दरवाजे की ओर इशारा कर रहा हो या आप जिस व्यक्ति से बात कर रहे हैं उससे दूर हो। विशेषज्ञों ने पाया है कि एक बिजनेस मीटिंग में, पूरी तरह खुलकर बैठे लोगों की तुलना में एक पैर को पार करके बैठे व्यक्ति के विचारों को अस्वीकार करने, कम बोलने या यहां तक कि असावधान होने की संभावना अधिक होती है। वहीं, यदि आप अपनी बाहों को क्रास करते हैं, तो यह आपके बातचीत से पीछे हटने का एक स्पष्ट संकेत है।

4.टखनों को मोड़कर बैठना

 

 

 

 

 

 

 

 

प्रमुख गुण: सहज, स्पष्ट, जमीन से जुड़ा हुआ, आत्मविश्वासी, शाही, महत्वाकांक्षी व रक्षात्मक आचरण वाला व्यक्ति

क्या आपको पता है कि टखनों को मोड़कर बैठना ब्रिटिश शाही परिवार की एक सामान्य बैठने की स्थिति है? यदि आप टखनों को क्रॉस करके बैठते हैं, तो आपके पास जीवन जीने का एक शाही तरीका है। आप सहज, स्पष्ट और जमीन से जुड़े हुए व्यक्ति हैं। आप किसी भी स्थिति में अत्यधिक आत्मविश्वासी और सहज दिख सकते हैं। आप शायद ही कभी हड़बड़ाते हुए पाए जाते हैं, आप चीजों को अपनी गति से आगे बढ़ने के साथ ठीक रखते हैं। वास्तव में आपके पास अपने आस-पास के सभी लोगों को भी आश्वस्त करने की क्षमता है।

आप अपने लक्ष्यों को प्राप्त करने के लिए कड़ी मेहनत करते हैं। आपको दृढ़ विश्वास है कि आपकी मेहनत का फल मिलेगा।

वहीं, इसके अलावा भी बहुत सी खूबियां हैं। जैसे, आप एक अच्छे श्रोता हैं और सभी के राज अपने तक सीमित रखते हैं। हालांकि, आप कभी भी अपने राज या अपनी अगली चाल किसी और के साथ साझा नहीं करेंगे। आप अपने निजी मामलों को लेकर काफी स्वाभिमानी हैं।

आप अपने रूप-रंग को लेकर भी काफी चिंतित रहते हैं। आप अवसर के अनुसार अपने बाहरी रूप को बनाए रखेंगे। आप सहज तरीके से अपनी बेचैनी या असुरक्षा को छिपाने में सक्षम हैं।

व्यवहार विशेषज्ञों और मनोवैज्ञानिकों ने यह भी पाया है कि टखनों को क्रॉस करके बैठना भी कुछ मामलों में रक्षात्मकता और असुरक्षा का संकेत है। उदाहरण के लिए, कानून प्रवर्तन, सशस्त्र बलों और संबंधित क्षेत्रों में शोध से पता चला है कि पूछताछ के दौरान क्रॉस लेग वाले अधिकांश लोगों ने जानकारी को अपने तक ही सीमित रखा।

5.फिगर-फोर लेग लॉक

 

 

 

 

 

 

 

 

मुख्य विशेषताएं: आत्मविश्वासी, हावी, युवा, सुरक्षित, तार्किक व प्रतिस्पर्धी

बैठने के इस स्टाइल में आप अपने पैरों को क्रॉस करके, एक टखने को दूसरे घुटने के ऊपर रखकर फिगर फोर (नंबर 4) बनाते हैं। यदि आप फिगर फोर लेग लॉक सिटिंग पोजीशन में बैठते हैं, तो यह दर्शाता है कि आप आत्मविश्वासी और प्रभावशाली हैं। इन दिनों यह महिला लोगों के बीच सबसे आम होता जा रहा है। हालांकि, पुरुष भी फिगर फोर क्रॉस लेग्स के साथ बैठते हैं, तो आप अन्य सिटिंग पोजीशन वाले लोगों की तुलना में अधिक प्रभावी, तनावमुक्त, आत्मविश्वासी और युवा पाए जाते हैं। आप अपने आप में सुरक्षित और संतुष्ट हैं। किसी चीज की कमी महसूस होने पर भी आप अपनी इच्छाओं को पूरा करने में अपना मन और ऊर्जा लगा देंगे।

आप अपने लक्ष्य निर्धारित करेंगे और तब तक स्मार्ट तरीके से काम करेंगे, जब तक आप उन्हें हासिल नहीं कर लेते। अपना करियर और शिक्षा स्थापित करना आपके लिए प्राथमिकता है। इसका मतलब यह नहीं है कि आप जीवन के अन्य पहलुओं का आनंद नहीं लेते हैं, लेकिन आप हमेशा अपने करियर के लिए अलग से मेहनत करेंगे, फिर चाहे आपका मन हो या न हो।

जिस प्रकार यह पोजीशन अधिक भौतिक स्थान लेती है, वैसे ही बैठने की इस शैली वाले लोग भी अपने स्थान और गोपनीयता को पसंद करते हैं। वे आमतौर पर आपके क्षेत्र पर दावा करने के लिए बड़े कमरे, वार्डरोब या किसी भी भौतिक स्थान पर कब्जा कर लेते हैं।

व्यवहार विशेषज्ञों ने पाया है कि फिगर फोर स्टाइल वाले लोग यह मानते हैं कि हर चीज का अपना समय और स्थान होता है। वे हर चीज में एक ईश्वरीय आदेश देखते हैं।

ऐसे लोगों को अच्छी तरह से कपड़े पहनने और अच्छा दिखने की ओर भी बड़ा झुकाव होता है। हालांकि, उनके पास एक तर्कपूर्ण या प्रतिस्पर्धी प्रकृति भी है और अपने अलावा किसी भी राय को अस्वीकार करने की संभावना है।

सीधे घुटने अगल घुटने पैर पर पैर टखने मोड़कर फिगर-फॉर लेग लॉक