1. Home
  2. Hindi
  3. जानें कौन हैं MBA चायवाला, पढ़ें प्रफुल्ल बिल्लोरे की कहानी

जानें कौन हैं MBA चायवाला, पढ़ें प्रफुल्ल बिल्लोरे की कहानी

MBA Chaiwala:  जीवन में कोई भी काम बड़ा या छोटा नहीं होता है। बस इंसान की सोच बड़ी होनी चाहिए। आज हम इस लेख के माध्यम से ऐसी ही एक कहानी पढ़ेंगे, जिसमें एमबीए चायवाला के नाम से मशहूर प्रफुल्ल बिल्लोरे ने शून्य से सफलता के शिखर तक का सफर तय किया। 

जानें कौन हैं MBA चायवाला, पढ़ें प्रफुल्ल बिल्लोरे की कहानी
जानें कौन हैं MBA चायवाला, पढ़ें प्रफुल्ल बिल्लोरे की कहानी

MBA Chaiwala: वर्तमान में अधिकतर युवा अपना स्टार्टअप खोलना चाहते हैं। वहीं, कुछ युवा ऐसे भी होंगे, जिन्होंने अपना स्टार्टअप शुरू भी किया है, लेकिन शुरुआत में सफलता न मिलने पर परेशान होंगे। यदि आप भी इनमें से कोई एक है, तो आपके लिए प्रफुल्ल बिल्लोरे की कहानी प्रेरणादायक हो सकती है। इस लेख के माध्यम से आज हम आपको बताएंगे कि कैसे मध्यप्रदेश राज्य के एक लड़के ने तमाम मुश्किलों के बाद भी अपने फैसले से पीछे हटने का निर्णय नहीं लिया, बल्कि अपने निर्णय के साथ आगे बढ़ते रहे और आज उन्हें लोग एमबीए चायवाला के नाम से जानते हैं। 

प्रफुल्ल बिल्लोरे का जन्म 14 जनवरी 1996 को मध्यप्रदेश के इंदौर शहर में एक मिडिल क्लास परिवार में हुआ था। बेटे के जन्म के बाद परिवार को उम्मीद हुई  कि बेटा पढ़-लिखकर बड़े होकर एक बड़ी नौकरी करेगा, जिससे परिवार की आर्थिक स्थिति भी ठीक हो जाएगी।

 

पिता के कहने पर तीन बार दी कैट की परीक्षा, लेकिन हुए फेल 

प्रफुल्ल बिल्लोरे के पिता चाहते थे कि बेटा एमबीए करने के बाद किसी बड़ी कंपनी में नौकरी करे। उन्होंने अपने पिता का सपना पूरा करने के लिए इसके लिए पढ़ना शुरू किया और एमबीए की प्रवेश परीक्षा पास करने के लिए तैयारी शुरू करी दी। अपने पिता के कहने पर  CAT समेत अन्य परीक्षाएं दी, लेकिन कई दिनों तक कड़ी मेहनत करने के बावजूद परीक्षाओं में फेल हो गए। उन्होंने तीन बार कैट की परीक्षा दी और इसमें तीनों बार फेल रहे। जीवन में मिली इस असफलता  के बाद उनका सामना भी निराशा से हुआ और तब समझ नहीं आया कि अब जीवन में क्या करना चाहिए। 

 

 

McDonald में 35 रुपये से शुरू की नौकरी 

परीक्षाओं में असफल होने के बाद प्रफुल्ल घर में नहीं रूके, बल्कि नौकरी करने का निर्णय लिया। उन्होंने तब मैकडोनल्ड कंपनी में सिर्फ  35 रुपये से नौकरी शुरू की। इस कंपनी से करीब 4 साल तक जुड़े रहने के दौरान मिले अनुभव से इस कंपनी से सीखा।

मैकडोनल्ड कंपनी में नौकरी करने के बाद प्रफुल्ल बिल्लोरे अपना व्यापार शुरू करना चाहते थे। हालांकि, उस समय उन्हें समझ नहीं आ रहा था कि किस चीज का व्यापार शुरू किया जा सकता है। इस बीच उनके मन में चाय का व्यापार शुरू करने का विचार आया। हालांकि, यह इतना आसान नहीं था। पढ़ा लिखा बेटा चाय बेचे यह परिवार के लिए गवारा नहीं था, लेकिन प्रफुल्ल ने यह फैसला कर लिया था कि उन्हें अब चाय ही बेचनी है। इसके लिए उन्होंने घर में बात की और अपने स्टार्टअप के सपने को पूरा करने में लग गए।

 

घर से कुछ बर्तन लेकर सड़क पर लगाया ठेला

अपने निर्णय पर रहते हुए प्रफुल्ल ने अपने घर से कुछ बर्तन लिये और रोड पर चाय का ठेला लगाने के लिए निकल गए। उन्होंने लोग क्या कहेंगे, इस पर ध्यान लगाने के बजाय अपने चाय के व्यापार पर ध्यान दिया। हालांकि, अभी भी सफर आसान नहीं था। क्योंकि, उनकी सबसे बड़ी समस्या यह थी कि किसी ग्राहक का चाय पीने के लिए न आना। इस समस्या के समाधान के लिए प्रफुल्ल बिल्लोरे खुद ही लोगों के पास चाय बेचने के लिए जाते थे। वह लोगों के पास जाकर चाय बेचते थे और लोग पढ़े-लिखे युवक के हाथ में चाय की केतली देखकर हैरान हो जाते थे। हालांकि, प्रफुल्ल का चाय बेचने का अंदाज देखकर लोग उनकी चाय खरीद लेते थे। इसके बाद से उनका चाय का बिजनेस चलना शुरू हुआ और वह धीरे-धीरे तरक्की करने लगे। 

 

इस तरह पड़ा चाय के बिजनेस का नाम 

प्रफुल्ल ने अपने बिजनेस की शुरुआत की तो उसे नाम देने की भी जरूरत थी। हालांकि, शुरुआत में उन्होंने इसका कोई नाम नहीं रखा, लेकिन बिजनेस चलने पर उन्होंने इसका नाम देने पर विचार किया। पहले उन्होंने इसका नाम Mr. Billore दिया, लेकिन यह नाम उन्हें ज्यादा पसंद नहीं आया। फिर कई बार सोच-विचार करने के बाद उन्होंने चाय के बिज़नेस का नाम MBA Chai Wala नाम दिया, जिसका मतलब है, Mr. Billore Ahmedabad Chai Wala.

आज के समय में MBA चायवाला का बिजनेस का टर्नओवर 5 करोड़ से ऊपर का है। वहीं, MBA चायवाला की गिनती देश के मशहूर चायवालों में होती है। 

 

और पढ़ेः

B.Tech. के आखिरी साल में छोड़ी पढ़ाई, पढ़ें Alakh Pandey की ‘Physics Wallah’ बनने की कहानी