जानें यह सामान्य गुण जो हर IAS टॉपर्स में होते हैं

IAS टॉपरों को देश में सबसे अच्छे विचारधारा वाले लोगो में से एक माना जाता है और प्रत्येक IAS टॉपर में कुछ अनोखी गुणवत्ता होती है जो अन्य लोगों से टॉपर को अलग करती है। निम्नलिखित लेख में हमने 8 गुणों को समझने की कोशिश की है जो सभी IAS टॉपर में आम हैं और कैसे एक IAS उम्मीदवार अपने जीवन में इन गुणों को अपनाये।

Updated: Nov 2, 2018 16:18 IST
Top 8 common qualities of IAS toppers
Top 8 common qualities of IAS toppers

IAS टॉपर्स को अक्सर हमारे समाज में आदर्श माना जाता है क्योंकि उन्होंने देश की सबसे मुश्किल परीक्षा में सफ़लता पाई है। IAS टॉपर दूसरे क्षेत्र के टॉपरों की तरह ही पहले एक अच्छा छात्र बनता है और फिर एक टॉपर बन पाता है। इन व्यक्तियों के गुणों का विश्लेषण करना महत्वपूर्ण है।

IAS Prelims Exam Guide

यहां इस लेख में हमने 8 अद्वितीय गुणों को समझने की कोशिश की है जो IAS टॉपरों में आम हैं।

1. अनुशासन और इच्छा शक्ति:

सबसे पहले और सबसे महत्वपूर्ण अनुशासन जो कि लंबी अवधि में सफलता प्राप्त करने के लिए सर्वोत्तम गुणवत्ता है। किसी भी अन्य निष्ठावान छात्र जैसे IAS टॉपर्स अपने अध्ययन के दौरान समय और ऊर्जा के महत्व को समझते हैं इसलिए वे अपने अध्ययन समय सारणी तथा अन्य दैनिक क्रिया में समय बिताने के बारे में बेहद अनुशासित होते हैं। अनुशासन का यह अर्थ है कि इच्छा शक्ति से जीवन के हर मोड़ में सफ़लता प्राप्त होगी और यह अनुशासन की शुरुआत एक उचित अध्ययन टाइम-टेबल को बनाए रखने से ही संभव होग सकता है। इच्छा-शक्ति की ही आवश्यकता केवल लंबे समय तक अभ्यास करने के लिए ही नहीं होती है बल्कि जब उम्मीदवार जीवन में हताश हो तो यही इच्छा-शक्ति अभ्यास को फिर से शुरू करने की एक नई ऊर्जा प्रदान करता है।

IAS Toppers की IAS Prelims की रणनीति

2. समर्पण और संगतता:

IAS टॉपर और असफल IAS उम्मीदवार के बीच बुनियादी अंतर समर्पण और निरंतरता का है जो अभ्यास के साथ आता है। नई चीजें सीखने के लिए समर्पित होने और सीखने के तरीके में लगातार सुधार लाने के लिए एक कला की आवशकता है जो IAS उम्मीदवारों द्वारा अध्ययन के लिए एक सख्त टाइम-टेबल के द्वारा प्राप्त किया जा सकता है। IAS में टॉप करने वाले छात्रों में अध्ययन की नियमितता में स्थिरता के महत्व का एहसास होता है और हर दिन संशोधन करने के लिए समय अवश्य निकालते हैं।

IAS Prelims 2018 Analysis

 

3. कभी हार ना मानने का रवैया:

IAS टॉपरों के पास कभी हार ना मानने का रवैया होता है जो उन्हें IAS परीक्षा की पूरी प्रक्रिया मंम प्रेरित करता रहता है। जब किसी व्यक्ति में कभी कभी हार ना मानने का रवैया नहीं होता है तब वे आसानी से हार मान लेता है और ऐसी परिस्थिति IAS परीक्षा की तैयारी के दौरान बहुत घातक सिद्ध हो सकता है। IAS उम्मीदवारों को इस तरह के दृष्टिकोण से महत्वपूर्ण रूप से ढल जाना चाहिए क्योंकि सिविल सर्विस सभी के लिए जीवन परिवर्तक हैं और इससे उन्हें IAS परीक्षा से जुड़े जोखिमों का एहसास करने में मदद मिलेगी।

4. चिंतनशील सोच:

सिविल सर्विस के लिए अध्ययन की प्रक्रिया के दौरान IAS टॉपरों की एक चिंतनशील सोच विकसित होती है जो उन्हें समस्या की स्थिति में आगे बढ़ने की कल्पना करने में मदद करती है। विश्लेषणात्मक तर्क का कौशल भी IAS परीक्षा देने के दौरान कुछ अलग सोचने में मदद करता है। ऐसी दूरदर्शी सोच अन्य उम्मीदवारों से IAS टॉपरों के उत्तर को अलग करती है क्योंकि इसमें छात्रों के बहुमत की तुलना में एक अनूठा समाधान होता हैं।

बिना परीक्षा के भी बन सकते हैं IAS

5. आत्मविश्वास और आत्म-सौष्ठव

जैसा कि गांधीजी ने कहा है की - "ज्ञान ही शक्ति है", अगर हर छात्र सीखता रहता है तो उनका आत्मविश्वास बढ़ता है। IAS टॉपरों के पास एक मजबूत विश्वास प्रणाली है जो उनके IAS की तैयारी में बेहतर प्रदर्शन करने के लिए निरंतर प्रेरणा शक्ति की तरह काम करती है। सभी IAS उमीद्वारो को भी अपने IAS सिलेबस को समय में पूरा करने की कोशिश करनी चाहिए ताकि संशोधन के लिए उनके पास पर्याप्त समय शेष हो।

6. स्पष्ट लक्ष्यों और संगठनात्मक कौशल:

IAS टॉपर्स हमेशा जीवन के रास्ते में एक परिप्रेक्ष्य रखते हैं। वे जानते हैं कि मन में स्पष्टता IAS परीक्षा लिखने के दौरान बहुत महत्वपूर्ण है जो परीक्षा की प्रक्रिया में स्पष्टता को दर्शाता है। लक्ष्य, चाहे अल्पावधि या दीर्घकालिक स्पष्ट होन चाहिए क्योंकि योजनाबद्ध लक्ष्य IAS टॉपरों को उनकी योग्यता के अनुसार अपनी पढ़ाई आयोजित करने में सहायता करता हैं। अध्ययन सामग्री को व्यवस्थित तरीके से पूरा किया जा सकता है और अगर IAS उम्मीदवारों ने IAS परीक्षा में परिप्रेक्ष्य प्राप्त किया हो तो सफ़लता प्राप्त की जा सकती है।

IAS टॉपर्स के रोचक IAS इंटरव्यू अनुभव

7. काम के लिए सम्मान:

"कार्य पूजा है"यह वाक्य वास्तव में एक IAS टोपर पर लागू होता है वह हमेशा यह महसूस करता है कि कार्य शब्द परिस्थितियों के लिए व्यक्ति-परक हैं जैसे जब वे IAS उम्मीदवार हैं, उनका काम अध्ययन करना है और जब वे IAS अधिकारी बन जाते हैं, तो उनका काम एक अच्छा प्रशासक बनना होता है। इसी तरह वह अपने काम का सम्मान करते है; वे ईमानदारी से समय समय पर आने वाली समस्याओं को हल करने में प्राप्त ज्ञान को लागू करने की कोशिश करते हैं।

8. आत्म निरीक्षण:

IAS टॉपरों को एहसास है कि कोई भी जीवन में परिपूर्ण नहीं हो सकता है और हर किसी की IAS तैयारी में सुधार के लिए जगह है ताकि वे अपने शिक्षण का समीक्षिक विश्लेषण करके अपनी रणनीति में सुधार कर सकें। IAS टॉपरों को पता है कि परीक्षा में किस तरह की जरूरत है आत्मनिरीक्षण सिर्फ एक नैतिक अभ्यास नहीं है; यह जीने के प्रत्येक चरण में बड़े पैमाने पर इस्तेमाल किया जा सकता है (एक छात्र के रूप में भी) ।

निष्कर्ष:

IAS टॉपर हमेशा देश के युवाओं के लिए प्रेरणा का स्रोत रहे हैं। इसके अलावा, इन गुणों को अगर छात्रों द्वारा अपनाये जाए तो जीवन में सफल होने के लिए उनकी यात्रा में बड़ा अंतर आ सकता है। टॉपर बनना हर किसी का सपना है, लेकिन IAS उम्मीदवारों को याद रखना चाहिए कि बड़ा सपना बड़ा प्रयास मांगता है।

IAS Interview में पूछे गए 25 रोचक प्रश्न एवं उनके सटीक उत्तर

Jagran Play
रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें एक लाख रुपए तक कैश
ludo_expresssnakes_ladderLudo miniCricket smash
ludo_expresssnakes_ladderLudo miniCricket smash

Related Categories

Related Stories

Comment (1)

Post Comment

5 + 2 =
Post
Disclaimer: Comments will be moderated by Jagranjosh editorial team. Comments that are abusive, personal, incendiary or irrelevant will not be published. Please use a genuine email ID and provide your name, to avoid rejection.
  • Krishna jha Aug 9, 2021
    To good
    Reply