गुजरात के पूर्व मुख्यमंत्री केशुभाई पटेल का निधन

केशुभाई पटेल का जन्म जूनागढ़ में 24 जुलाई 1928 को हुआ था. वे काफी कम उम्र में ही राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ ज्वाइन कर लिया था. 

Created On: Oct 29, 2020 13:24 ISTModified On: Oct 29, 2020 13:31 IST

गुजरात के पूर्व मुख्यमंत्री केशुभाई पटेल का निधन हो गया है. वे 92 साल के थे. बताया जा रहा है कि उनका निधन कार्डियक अरेस्ट के कारण हुआ है. वे गुजरात के दो बार मुख्यमंत्री रहे. उन्हें कुछ समय पहले कोरोना भी हुआ था, लेकिन रिकवर हो गए थे. वे 30 सितंबर को ही सोमनाथ मंदिर ट्रस्ट के दोबारा अध्यक्ष चुने गए थे.

29 अक्टूबर 2020 को सुबह सांस लेने में तकलीफ होने के बाद केशुभाई पटेल को अस्पताल ले जाया गया, जहां उन्होंने अंतिम सांस ली. गुजरात के मुख्यमंत्री विजय रुपाणी ने केशुभाई पटेल के परिवार से बात की और दुख व्यक्त किया. केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने भी केशुभाई पटेल को श्रद्धांजलि दी.

प्रधानमंत्री मोदी ने शोक व्यक्त किया

केशुभाई पटेल के निधन पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी समेत बीजेपी के वरिष्ठ नेताओं ने शोक व्यक्त किया है. प्रधानमंत्री मोदी ने ट्वीट कर लिखा है कि केशुभाई ने जनसंघ और बीजेपी को मजबूत करने के लिए गुजरात की लंबी और चौड़ी यात्रा की. उन्होंने आपातकाल का विरोध किया. किसान कल्याण के मुद्दे उनके दिल के सबसे करीब थे. उन्होंने विधायक, सांसद, मंत्री और सीएम के रूप में योगदान दिया.

केशुभाई पटेल के बारे में

• केशुभाई पटेल का जन्म जूनागढ़ में 24 जुलाई 1928 को हुआ था. वे काफी कम उम्र में ही राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ ज्वाइन कर लिया था. इसके बाद जनसंघ और फिर बीजेपी के साथ लंबे समय तक रहे.

• उन्होंने दो बार गुजरात के मुख्यमंत्री का पद संभाला था. वे साल 1995 और साल 1998 में राज्य के मुख्यमंत्री बने थे. लेकिन साल 2001 में उन्हें पद से इस्तीफा देना पड़ा था. हालांकि, दोनों ही बार केशुभाई पटेल अपने कार्यकाल को पूरा नहीं कर पाए थे.

• इसके अलावा केशुभाई पटेल गुजरात के उपमुख्यमंत्री का भी पद संभाल चुके हैं. साल 2001 में मुख्यमंत्री पद से उनके इस्तीफा देने के बाद ही नरेंद्र मोदी गुजरात के मुख्यमंत्री बने थे और साल 2014 तक राज्य में सत्ता के केंद्र में रहे.

• केशुभाई पटेल की गिनती गुजरात में भारतीय जनता पार्टी के दिग्गज नेताओं में होती रही है, जिन्होंने जनसंघ के समय से ही पार्टी के लिए काम किया था.

• वे छह बार राज्य में विधानसभा चुनाव जीते. केशुभाई पटेल ने साल 2012 में बीजेपी छोड़ दी थी और अपनी नई पार्टी 'गुजरात परिवर्तन पार्टी' बनाई थी. हालांकि, साल 2014 में केशुभाई पटेल ने अपनी पार्टी का विलय फिर से बीजेपी में कर दिया था.

• केशुभाई पटेल ने साल 1945 में प्रचारक के रूप में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ ज्वाइन किया था. वे साल 1975 में आपातकाल के दौरान जेल भी गए थे.

• प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने राजनीतिक जीवन में लंबे समय तक केशुभाई के साथ काम किया है. प्रधानमंत्री मोदी हमेशा ही उनसे आशीर्वाद लेने जाया करते थे.

Take Weekly Tests on app for exam prep and compete with others. Download Current Affairs and GK app

एग्जाम की तैयारी के लिए ऐप पर वीकली टेस्ट लें और दूसरों के साथ प्रतिस्पर्धा करें। डाउनलोड करें करेंट अफेयर्स ऐप

AndroidIOS
Comment ()

Related Stories

Post Comment

4 + 0 =
Post

Comments