Search

हरियाणा द्वारा अनुबंध आधारित नियुक्तियों में साक्षात्कार समाप्त करने की घोषणा

नई पॉलिसी के अनुसार अनुबंधित पदों पर किसी भी विभाग का मुखिया बगैर किसी साक्षात्कार के भर्तियां कर सकता है.

Dec 5, 2017 16:45 IST
facebook IconTwitter IconWhatsapp Icon

सरकारी विभागों में निचले स्तर की भर्तियों में साक्षात्कार खत्म करने के बाद अब प्रदेश सरकार ने अनुबंध आधार की नियुक्तियों में भी साक्षात्कार प्रणाली समाप्त करने की घोषणा की.

इन नियुक्तियों का पूरा अधिकार विभागाध्यक्ष के पास होगा. इसके लिए आउटसोर्सिंग पॉलिसी-2 में बदलाव किया गया है.

अभी तक विभागाध्यक्ष स्वीकृत पदों पर एक वर्ष के लिए अनुबंध आधार पर कर्मचारियों की भर्ती की जा सकती थी लेकिन इसके लिए साक्षात्कार आवश्यक था. दो वर्ष के लिए स्वीकृत नियमित पदों पर भर्ती के लिए वित्त विभाग से मंजूरी लेनी पड़ती थी. अब सरकार ने साक्षात्कार की शर्त और वित्त विभाग से अनुमति लेने के नियम में बदलाव कर दिया है.

CA eBook


नई पॉलिसी के अनुसार अनुबंधित पदों पर किसी भी विभाग का मुखिया बगैर किसी साक्षात्कार के भर्तियां कर सकता है. इसके लिए सरकार की ओर से सभी प्रशासनिक सचिव, विभागाध्यक्षों, मंडलायुक्त, हाईकोर्ट के रजिस्ट्रार, उपायुक्तों और बोर्ड-निगमों के निदेशकों को लिखित आदेश जारी किए गए हैं.

पृष्ठभूमि
वर्ष 2015 में केंद्र सरकार द्वारा सभी राज्यों के मुख्यमंत्रियों से कहा गया कि वे भ्रष्टाचार को रोकने और गरीब और संसाधनहीन छात्रों की समस्या को काफी कम करने के लिए निचले स्तर के चिह्नित पदों के लिए साक्षात्कार (इंटरव्यू) लेने की प्रथा को समाप्त करें. केंद्रीय कार्मिक एवं प्रशिक्षण राज्यमंत्री जितेंद्र सिंह ने सभी राज्यों के मुख्यमंत्रियों को इस संबंध में पत्र लिखकर इस तरह के पदों की पहचान करने को कहा, जिनसे साक्षात्कार की प्रक्रिया को समाप्त किया जा सकता है. यह कदम तब उठाया गया जब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 2015 में स्वतंत्रता दिवस पर राष्ट्र के नाम अपने संबोधन में इस तरह का सुझाव दिया था.

यह भी पढ़ें: हरियाणा राज्य तालाब प्राधिकरण का गठन किया गया

यह भी पढ़ें: हरियाणा सरकार ने निम्न श्रेणी नौकरियों में साक्षात्कार खत्म किया

Download our Current Affairs & GK app For exam preparation

डाउनलोड करें करेंट अफेयर्स ऐप एग्जाम की तैयारी के लिए

AndroidIOS