रोजगार के अवसरों पर ऑटोमेशन का प्रभाव : विश्लेषण

ऑटोमेशन की वजह से रोजगार के अवसरों में कमी हाल के दिनों में चिंता का एक मुख्य कारण बना हुआ है. विश्व बैंक समूह और अंतर्राष्ट्रीय लौर संगठन जैसे बहुपक्षीय एजेंसियों की विभिन्न रिपोर्टों ने भारत सहित विकसित देशों को नौकरी के अवसरों पर ऑटोमेशन के प्रतिकूल प्रभावों को कम करने हेतु  उचित नीतिगत कदम उठाने के लिए सचेत किया है. अतः आज की इस पृष्ठभूमि में यह जानना जरुरी है कि ऑटोमेशन के सकारत्मक और नकारात्मक प्रभाव क्या होंगे तथा सरकार के पास इसका संभावित समाधान क्या है ?

Created On: Oct 9, 2017 15:49 ISTModified On: Oct 9, 2017 15:51 IST
रोजगार के अवसरों पर ऑटोमेशन का प्रभाव : विश्लेषण

ऑटोमेशन की वजह से रोजगार के अवसरों में कमी हाल के दिनों में चिंता का एक मुख्य कारण बना हुआ है. विश्व बैंक समूह और अंतर्राष्ट्रीय लौर संगठन जैसे बहुपक्षीय एजेंसियों की विभिन्न रिपोर्टों ने भारत सहित विकसित देशों को नौकरी के अवसरों पर ऑटोमेशन के प्रतिकूल प्रभावों को कम करने हेतु  उचित नीतिगत कदम उठाने के लिए सचेत किया है. अतः आज की इस पृष्ठभूमि में यह जानना जरुरी है कि ऑटोमेशन के सकारत्मक और नकारात्मक प्रभाव क्या होंगे तथा सरकार के पास इसका संभावित समाधान क्या है ?

CA eBook

ऑटोमेशन के बारे में

इंटरनेशनल स्टडीज एसोसिएशन (आईएसए) के अनुसार, ऑटोमेशन को उत्पादों और सेवाओं के उत्पादन और वितरण पर नजर रखने और नियंत्रित करने के लिए प्रौद्योगिकी के निर्माण और अनुप्रयोग के रूप में परिभाषित किया जाता है. ऑटोमेशन का विस्तार अर्थव्यवस्था के विभिन्न क्षेत्रों में है, जैसे कि विनिर्माण, परिवहन, उपयोगिताओं, रक्षा, सेवाओं आदि.

दिल्ली में ड्राइवरहीन मेट्रो का आगमन, ऑटोमेशन के कारण कॉग्निजेंट, इन्फोसिस और टेक महिंद्रा जैसी बड़ी आईटी कंपनियों में छंटनी की खबरें, सूचना और संचार प्रौद्योगिकी की वजह से रोजगार के अवसरों में कमी, कृत्रिम बुद्धि और सामग्री में रोबोटिक्स, बैंकिंग, फार्मास्यूटिकल्स, भोजन और पेय पदार्थ, रसद और सुरक्षा के क्षेत्र में रोजगार से सम्बन्धित समस्या ऑटोमेशन की वजह से उभरी हैं.

भारत-जापान संबंध : बदलते परिदृश्य और चीन फैक्टर

रोजगार पर ऑटोमेशन के सकारात्मक प्रभाव

देश में रोजगार के अवसरों पर ऑटोमेशन के कुछ सकारात्मक प्रभाव निम्नलिखित हैं-

• एक कंपनी जो ऑटोमेशन के लिए रिसॉर्ट्स पारंपरिक प्रदाताओं की तुलना में कम लागत पर सामान और सेवाएं प्रदान करती है, उसे कम लागत हेतु मुद्रास्फीति को नियंत्रण में रखना होता है और इसके परिणामस्वरूप व्यक्तियों और कंपनियों द्वारा अधिक बचत की जाती है. बचत में वृद्धि का उपयोग उद्योग द्वारा पूंजी के रूप में किया जा सकता है, जो संभवतः रोजगार  के निर्माण के लिए प्रेरित करेगा.

• ऑटोमेशन दक्षता और उत्पादकता को बढ़ाता है. यह सिद्धांत सार्वजनिक, निजी और गैर-लाभकारी क्षेत्रों में समान रूप से लागू होता है. उदाहरण के लिए  2016 में विश्व बैंक समूह द्वारा जारी एक रिपोर्ट डिजिटल लाभांश के अनुसार भारत सरकार द्वारा ई-खरीद पहल की प्रक्रिया में अधिक प्रतिस्पर्धा को सम्मिलित करने से इस परियोजना में विजेता बोलीदाताओं के बाहर से आने की संभावना बढ़ी है. उत्कृष्ट गुणात्मक बुनियादी ढांचे में बेहतर सामाजिक-आर्थिक आधारभूत संरचना हमेशा अधिक निवेश, उत्पादन और रोजगार के अवसरों को आकर्षित करती है.

• सामान्य परिस्थितियों में किसी  फर्म द्वारा लागत को कम करने के लिए ऑटोमेशन का इस्तेमाल किया जाता है. लागत में कटौती से अधिक लाभ होता है. मुनाफे में वृद्धि कंपनियों द्वारा नवाचार और अनुसंधान के लिए अधिक धन सुनिश्चित करती है, जो बदले में नई प्रौद्योगिकियों के विकास को आगे बढ़ती है और परिणाम स्वरूप रोजगार के अधिक अवसर उपलब्ध होते हैं.

• ऑटोमेशन नौकरशाही विवेक को कम करता है और संरक्षण आधारित प्रणालियों में छोटे भ्रष्टाचार के अवसरों को भी कम करता है. भ्रष्टाचार में कमी से कारोबारी परिस्थितियों में सुधार की सुगमता होती है, जिससे आगे निवेश और अधिक रोजगार के अवसर के बढ़ने की संभावना होती है.

भारत का पर्यावरण संरक्षण पहल : प्रभाव विश्लेषण

उपर्युक्त सकारात्मक प्रभावों के बावजूद  भी ऑटोमेशन के कुछ नकारात्मक पहलू भी हैं.

• ऑटोमेशन प्रक्रिया की सबसे बड़ी कमी यह है कि कम स्किल की आवश्यक्ताओं की वजह से मध्यम स्तरीय कारोबार में कम कर्मचारियों की मांग तथा ऑटोमेशन की जरुरत की वजह से वर्तमान रोजगार के अवसर के अतिरिक्त ऑटोमेशन एक नए रोजगार की तलाश वाले व्यक्तियों के समक्ष भी चुनौतियाँ पैदा करता है.खासकर तब जब नए नौकरियों में वांछित स्किल पुराने नौकरियों से अलग होती है.

• विश्व बैंक की एक रिपोर्ट के अनुसार, ऑटोमेशन की वजह से अर्थव्यवस्था में अत्यधिक मांग वाले रोजगार जैसे मिरकोकर् के बढ़ने की संभावना है. नए प्रकृति वाले जॉब प्रकृति से स्वतंत्र हैं तथा श्रमिकों की सौदेबाजी, स्वास्थ्य एवं वीमा जैसी सुविधाएं इनमें नहीं है.

आगे   की राह

• विश्व बैंक समूह की एक रिपोर्ट के अनुसार  आने वाले दशकों में विकासशील देशों में ऑटोमेशन की वजह से सभी नौकरियों की दो-तिहाई संभावना हो सकती है. हालांकि, प्रौद्योगिकी अपनाने, न्यूनतम मजदूरी और भारत में मैनुअल स्किल के आधार पर नौकरियों का एक उच्च प्रसार इस बात का संकेत है कि ऑटोमेशन के दूसरे देशों की तुलना में धीमा और कम व्यापक होने की संभावना है.

• भारत के सामने प्रमुख चुनौती है, अपनी कार्यशील उम्र वाली आबादी के लिए नौकरियों की संभावना तलाशना जिसका वर्तमान में 740 मिलियन से बढ़कर 2050 तक 1.3 अरब हो जाने का अनुमान है. दूसरी तरफ 2018 तक किसी भी तरह के रोजगार सृजन की संभावना दिखाई नहीं देती.

भारत में गोपनीयता का अधिकार : वैधता, आवश्यकता और विवाद

रोजगार के अवसरों पर ऑटोमेशन के नकारात्मक प्रभाव को कम करने के लिए निम्नांकित कदम उठाया जाना चाहिए

कौशल उन्नयन (स्किल अपग्रेडेशन): केंद्र सरकार ने स्किल  इंडिया अभियान के तहत युवाओं में स्किल डेवेलपमेंट के लिए विभिन्न कार्यक्रमों की शुरुआत की है. ऐसे कार्यकर्मों में न सिर्फ अनपढ़ युवाओं को शामिल करना चाहिए बल्कि ऑटोमेशन की वजह से अपनी नौकरी खो चुके युवाओं को भी शामिल किया जाना चाहिए.

लचीला-श्रम कानून: कौशल उन्नयन के अतिरिक्त  श्रम कानूनों को एक नौकरी से दूसरी नौकरी मिलने तक किसी कर्मचारी के संक्रमण की सुविधा हेतु और लचीला होना चाहिए. श्रमिकों को जब वे बेरोजगार हों अथवा दो रोजगार के बीच की अवधि के दौरान सहयोग करने के लिए पर्याप्त सामाजिक सहायता प्रणालियां अपनाई जानी चाहिए.

एसएमई पर फोकस : एक अनुमान के अनुसार  छोटे और कुटीर उद्योगों में एक रोजगार उत्पन्न करने के लिए लगभग 1.5 लाख रुपये का निवेश आवश्यक है, जबकि पूंजीगत भारी उद्योगों में एक रोजगार उत्पन्न करने के लिए लगभग 6 लाख रुपये का निवेश आवश्यक है. इसलिए, तत्काल ध्यान छोटे और मध्यम उद्यमों के विकास पर होना चाहिए क्योंकि ऑटोमेशन पर आधारित भारी उद्योग रोजगार के चालक नहीं हो सकते. इसलिए सड़कों,रेलवे और कुटीर उद्योगों जैसे गहन श्रमिक बुनियादी ढांचा क्षेत्र विकसित किए जाने चाहिए.

कर्मचारी संरक्षण की आवश्यकता : विश्व बैंक समूह ने यह सुझाव दिया है कि श्रमिकों की सुरक्षा को स्वतंत्र रूप से कार्य अनुबंधों के आधार पर रोजगार को बेहतर बनाने, रोजगार से सामाजिक बीमा को जोड़ने, स्वतंत्र सामाजिक सहायता प्रदान करने और श्रमिकों को फिर से प्रशिक्षित करने तथा  नए रोजगार को जल्दी से प्राप्त करने में मदद करना बेहतर होगा.

निष्कर्ष
भारतीय अर्थव्यवस्था फिलहाल संक्रमण के दौर से गुजर रही है. हाल में सरकार द्वारा किये गए कुछ प्रयासों जैसे विमुद्रीकरण तथा गुड्स एंड सर्विसेज टैक्स (जीएसटी) के परिणाम अभी पूरी तरह दिखाई नहीं दे रहे हैं. इसके अतिरिक्त अर्थव्यवस्था में उच्च वृद्धि स्तर को बनाए रखने के लिए तकनीकी प्रगति की अपनी कुछ पूर्व –शर्तें हैं. जब भी किसी नई तकनीक को आर्थिक प्रक्रियाओं में शामिल किया जाता है रोजगार के कमी के आसार लगते हैं. हालांकि, ऑटोमेशन की वर्तमान प्रवृत्ति का सीधे सीधे प्रभाव ह्वाईट कॉलर जॉब्स पर पड़ना चिंता का मुख्य कारण है. चूंकि बेरोजगारी एक सामाजिक-आर्थिक समस्या है, इसलिए सरकार, खासकर राष्ट्रीय उद्योग परिषद को इस मुद्दे पर विशेष ध्यान देना चाहिए और पूरी तरह से अर्थव्यवस्था के विभिन्न हितों को देखते हुए इसके सही समाधान के साथ जनता के सामने आना चाहिए.

भारतीय संविधान का अनुच्छेद 35 ए : बहस को समझने की आवश्यकता

Take Weekly Tests on app for exam prep and compete with others. Download Current Affairs and GK app

एग्जाम की तैयारी के लिए ऐप पर वीकली टेस्ट लें और दूसरों के साथ प्रतिस्पर्धा करें। डाउनलोड करें करेंट अफेयर्स ऐप

AndroidIOS
Comment ()

Post Comment

8 + 5 =
Post

Comments