Search

पुलवामा अटैक का एक साल: CRPF ने अपने शहीदों को कुछ इस तरह से किया याद

सीआरपीएफ ने पुलवामा हमले के बरसी पर अपने जवानों को याद किया है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पुलवामा आतंकी हमले में ट्वीट कर शहीदों को श्रद्धांजलि दी. 

Feb 14, 2020 15:16 IST
facebook IconTwitter IconWhatsapp Icon

पुलवामा आतंकी हमले का एक साल हो गया है. पुलवामा में 14 फरवरी 2019 को सीआरपीएफ (केंद्रीय रिजर्व बल) के काफिले पर हमला किया गया था. इस हमले में सीआरपीएफ के 40 जवान देश के लिए शहीद हो गए थे.

सीआरपीएफ ने पुलवामा हमले के बरसी पर अपने जवानों को याद किया है. सीआरपीएफ ने पुलवामा अटैक में शहीद हुए अपने जवानों को याद कर ट्वीट के जरिए शहीदों को नमन किया. इस मौके पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी समेत कई हस्तियों और सैन्य दलों ने शहीदों को श्रद्धांजलि दी.

सीआरपीएफ ने अपने जवानों को याद करते हुए ट्विटर पर लिखा कि तुम्हारे शौर्य के गीत, कर्कश शोर में खोये नहीं. गर्व इतना था कि हम देर तक रोये नहीं. उन्होंने आगे लिखा कि हम भूले नहीं, हमने छोड़ा नहीं. उन्होंने लिखा कि हम अपने भाइयों को सलाम करते हैं, जिन्होंने पुलवामा में देश के लिए जान कुर्बान की.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पुलवामा आतंकी हमले में ट्वीट कर शहीदों को श्रद्धांजलि दी. पीएम मोदी ने लिखा कि पिछले साल पुलवामा हमले में जान गंवाने वाले बहादुर शहीदों को श्रद्धांजलि. वे असाधारण थे जिन्होने अपने जीवन हमारे देश की सेवा और रक्षा में समर्पित कर दिया.

पुलवामा मेमोरियल

पुलवामा हमले के एक साल पूरे होने पर 40 सीआरपीएफ जवानों की शहादत की याद में मेमोरियल का उद्घाटन किया गया. हमले के शहीदों की याद में बने इस मेमोरियल को लेतपोरा में जिस जगह तैयार किया गया है, उसके करीब ही सीआरपीएफ का कैंप है. मेमोरियल पर 40 शहीदों को अश्रुपूर्ण श्रद्धांजलि दी गई है.

पुलवामा अटैक

जम्मू-कश्मीर के पुलवामा में हुए आतंकी हमले को 14 फरवरी को एक साल हो गया. पुलवामा (जम्मू-कश्मीर) में 14 फरवरी 2019 को जम्मू से सड़क मार्ग से श्रीनगर आ रहे सीआरपीएफ जवानों के काफिले पर आतंकी हमला हुआ था और 40 जवान शहीद हो गए थे. बतौर रिपोर्ट्स, सीआरपीएफ के करीब 70 वाहनों का काफिला 2547 जवानों को लेकर जा रहा था और उससे टकराने वाली एसयूवी में 350 किलोग्राम आईईडी विस्फोटक था. रिपोर्ट के मुताबिक उरी के बाद यह सबसे बड़ा आतंकी हमला है.

बता दें कि यह हमला श्रीनगर से मात्र बीस किलोमीटर की दूरी पर हुआ था. इनमें से अधिकतर सीआरपीएफ जवान अपनी छुट्टियां बिताने के बाद अपनी ड्यूटी पर लौट रहे थे. जम्मू कश्मीर राजमार्ग पर अवंतिपोरा इलाके में लाटूमोड पर इस काफिले पर अपराह्न करीब साढ़े तीन बजे घात लगाकर हमला किया गया था.

यह भी पढ़ें:Sarojini Naidu Birth Anniversary: जानिए सरोजिनी नायडू के जन्मदिन पर क्यों मनाते हैं महिला दिवस

सभी देशों ने पुलवामा हमले की निंदा की

विश्वभर के करीब-करीब सभी देशों ने पुलवामा हमले की निंदा की और आतंकवाद के खिलाफ भारत की लड़ाई को समर्थन देने का घोषणा किया. चीन ने भी पुलवामा हमले के खिलाफ यूनाइडेट नेशंस सिक्यॉरिटी काउंसिल के प्रस्ताव का समर्थन किया था.

पुलवामा हमले के बाद भारत की जवाबी कार्रवाई

पुलवामा हमले के ठीक 12 दिन बाद 26 फरवरी 2019 को भारतीय वायुसेना ने पाकिस्तान स्थित बालाकोट में आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद कै ठिकानों पर एयरस्ट्राइक किया था. इस एयरस्ट्राइक में भारतीय सेना ने दावा किया था कि बड़ी संख्या में आतंकवादी मारे गए हैं.

यह भी पढ़ें:अमेरिका ने भारत को इंटिग्रेटेड एयर डिफेंस सिस्टम बेचने को मंजूरी दी

यह भी पढ़ें:क्या है Public Safety Act: इसके बारे में यहां जाने सबकुछ

Download our Current Affairs & GK app For exam preparation

डाउनलोड करें करेंट अफेयर्स ऐप एग्जाम की तैयारी के लिए

AndroidIOS