RBI Repo Rate Hike: महंगाई पर कंट्रोल के लिए, आरबीआई ने फिर बढ़ाया रेपो रेट, जानें क्या होता है रेपो रेट?

RBI Repo Rate Hike: मोनेटरी पॉलिसी कमिटी की बैठक के बाद में वर्तमान और उभरती आर्थिक स्थिति के आकलन के आधार पर, RBI ने रेपो रेट को 35 बेसिस पॉइंट बढ़ाकर 6.25% कर दिया है. रेपो रेट में यह लगातार पाँचवीं बार बढ़ोत्तरी की गयी है.

आरबीआई ने फिर बढ़ाया रेपो रेट
आरबीआई ने फिर बढ़ाया रेपो रेट

RBI Repo Rate Hike: मोनेटरी पॉलिसी कमिटी की बैठक के बाद में वर्तमान और उभरती आर्थिक स्थिति के आकलन के आधार पर, RBI ने रेपो रेट को 35 बेसिस पॉइंट बढ़ाकर 6.25% कर दिया है. रेपो रेट में यह लगातार पाँचवीं बार बढ़ोत्तरी की गयी है.

RBI के गवर्नर शक्तिकांत दास ने मोनेटरी पॉलिसी कमिटी (MPC) की घोषणाएं करते हुए कहा कि वित्त वर्ष 23 के वास्तविक जीडीपी पूर्वानुमान को घटाकर 6.8% कर दिया गया है, जो कि विश्व बैंक द्वारा कल जारी संशोधित अनुमानों से 0.1% कम है.

एमपीसी की अगली बैठक 6-8 फरवरी, 2023 के दौरान निर्धारित की गयी है. जिसमे आर्थिक स्थिति के आकलन के बाद फिर से रेपो रेट पर निर्णय लिया जायेगा. 

RBI ने वृद्धि के पीछे क्या कारण बताया?

मोनेटरी पॉलिसी कमिटी की बैठक के बाद RBI के गवर्नर शक्तिकांत दास ने कहा कि देश में बढ़ती महगाई पर लगाम लगाने के लिए यह बढ़ोत्तरी की गयी है. पिछले सात महीनों में RBI की ओर से यह पांचवीं वृद्धि है. साथ ही उन्होंने कहा कि देश की वर्तमान आर्थिक स्थिति के आकलन के बाद यह वृद्धि की गयी है. 

यह वृद्धि liquidity adjustment facility (LAF) के तहत की गयी है.  जो तत्काल प्रभाव से लागू कर दी गयी है.  गवर्नर शक्तिकांत दास, डॉ. शशांक भिडे, डॉ. आशिमा गोयल, डॉ. राजीव रंजन, और डॉ. माइकल देवव्रत पात्रा ने वृद्धि के पक्ष में वोट किया जबकि प्रो. जयंत आर. वर्मा ने रेपो रेट वृद्धि के खिलाफ वोट किया था.

RBI ने बढ़ोत्तरी के पीछे के कारण को बताते हुए कहा कि ग्लोबल इकोनॉमी के वर्तमान आंकलन और साथ ही साथ डोमेस्टिक इकोनॉमी की स्थिति को देखते हुए यह निर्णय लिया गया है. 

रेपो रेट वृद्धि का क्या होगा प्रभाव:

रेपो रेट में RBI की ओर से की गयी वृद्धि का असर लोन महंगे होंगे साथ ही साथ लोगों द्वारा जमा की जा रही EMI भी महंगी होगी. इस बढ़ोत्तरी के बाद बैंक की ब्याज दरें भी बढ़ जायेंगे जिनका सीधा असर आम आदमी पर पड़ेगा. 

रेपो रेट क्या है?

रेपो रेट, वह रेट होता है जिस किसी देश का केन्द्रीय बैंक, कमर्शियल बैंको को ऋण देता है. भारत के रिफरेन्स में भारतीय रिजर्व बैंक द्वारा कमर्शियल बैंको को पैसा उधार देते समय लगाया गया रेट है. शब्द 'REPO' टेक्निकल रूप से 'पुनर्खरीद विकल्प' (Repurchasing Option) या 'पुनर्खरीद समझौते' (Repurchase Agreement) के लिए होता है.   

इसे भी पढ़े:

World Weightlifting Championship 2022: स्टार वेटलिफ्टर मीराबाई चानू ने जीता सिल्वर मेडल

Take Weekly Tests on app for exam prep and compete with others. Download Current Affairs and GK app

एग्जाम की तैयारी के लिए ऐप पर वीकली टेस्ट लें और दूसरों के साथ प्रतिस्पर्धा करें। डाउनलोड करें करेंट अफेयर्स ऐप

AndroidIOS
Read the latest Current Affairs updates and download the Monthly Current Affairs PDF for UPSC, SSC, Banking and all Govt & State level Competitive exams here.
Jagran Play
खेलें हर किस्म के रोमांच से भरपूर गेम्स सिर्फ़ जागरण प्ले पर
Jagran PlayJagran PlayJagran PlayJagran Play