Search

जाने कौन हैं सोमा रॉय बर्मन, जो बनीं भारत की 24वीं महालेखा नियंत्रक

सोमा रॉय बर्मन 24वीं महालेखा नियंत्रक हैं. वे इस पद पर पहुंचने वाली सातवीं महिला हैं. वित्त मंत्रालय के अनुसार, उनकी नियुक्ति 01 दिसंबर 2019 से प्रभावी है.

Dec 2, 2019 15:30 IST
facebook IconTwitter IconWhatsapp Icon

सोमा रॉय बर्मन ने 01 दिसंबर 2019 को देश के नये नियंत्रक एवं महालेखा परीक्षक का पद भार ग्रहण कर लिया. सरकार ने भारतीय सिविल लेखा सेवा अधिकारी सोमा रॉय बर्मन को नया महालेखा नियंत्रक नियुक्त किया है. वे इससे पहले बर्मन अतिरिक्त महालेखा नियंत्रक के पद पर थीं.

सोमा रॉय बर्मन 24वीं महालेखा नियंत्रक हैं. वे इस पद पर पहुंचने वाली सातवीं महिला हैं. वित्त मंत्रालय के अनुसार, उनकी नियुक्ति 01 दिसंबर 2019 से प्रभावी है. उन्होंने 33 साल के करियर में गृह मंत्रालय, सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय, उद्योग मंत्रालय, वित्त मंत्रालय, मानव संसाधन विकास मंत्रालय और नौवहन, सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्रालय में विभिन्न पदों पर काम किया है.

सोमा रॉय बर्मन के बारे में

• सोमा रॉय बर्मन 1986 बैच के भारतीय सिविल लेखा सेवा अधिकारी हैं. उन्होंने दिल्ली विश्वविद्यालय से गणितीय सांख्यिकी में एम.फिल किया है.

• वे आर्थिक मामलों के विभाग में सचिव के रूप में 'बजट सेक्शन 'में अपनी सेवाएं देने के साथ ही नियंत्रक एवं महालेखा परीक्षक कार्यालय में निदेशक भी रही है.

• केंद्र सरकार में सार्वजनिक वित्त प्रबंधन क्षेत्र को और मजबूत बनाने के लिए उन्होंने कई अहम कदम उठाए हैं.

• उन्होंने गृह मंत्रालय की राष्ट्रीय खुफिया ग्रिड में संयुक्त सचिव और वित्तीय सलाहकार के रूप में भी महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है.

• वे केंद्र सरकार में सार्वजनिक वित्तीय प्रबंधन को मजबूत करने हेतु व्यापक सुधारों को तैयार करने में भी सक्रिय रही हैं.

यह भी पढ़ें:उद्धव ठाकरे ने महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री पद की शपथ ली

लेखा महानियंत्रकके बारे में

लेखा महानियंत्रक लेखा मामलों पर केंद्र सरकार का प्रमुख सलाहकार है. वे सरकार के स्वामित्व वाली कम्पनियों का भी अंकेक्षण करता है. उसकी रिपोर्ट पर सार्वजनिक लेखा समितियाँ ध्यान देती है.

भारत के नियंत्रक और महालेखापरीक्षक एक स्वतंत्र संस्था के रूप में कार्य करते हैं और इस पर सरकार का नियंत्रण नहीं होता.  राष्ट्रपति द्वारा भारत के नियंत्रण और महालेखापरीक्षक की नियुक्ति की जाती हैं. नियंत्रक एवं महालेखापरीक्षक ही भारतीय लेखा परीक्षा और लेखा सेवा का भी मुखिया होता है.

यह भी पढ़ें:महिंदा राजपक्षे ने श्रीलंका के नए प्रधानमंत्री पद की ली शपथ

यह भी पढ़ें:गोतबया राजपक्षे श्रीलंका के राष्ट्रपति बने, जानें भारत पर क्या पड़ेगा असर

Download our Current Affairs & GK app For exam preparation

डाउनलोड करें करेंट अफेयर्स ऐप एग्जाम की तैयारी के लिए

AndroidIOS