Search

अकबर के नवरत्न

अकबर के नवरत्नों में प्रमुख है, राजा बीरबल, मियां तानसेन, अबुल फजल, फैजी, राजा मान सिंह, राजा टोडर मल, मुल्ला दो प्याजा, फकीर अज़ुद्दीन, अब्दुल रहीम खान-ए-खाना.
Aug 27, 2014 11:43 IST
facebook Iconfacebook Iconfacebook Icon

अकबर के दरबार में निवास कर रहे नवरत्नों का उल्लेख किये बिना अकबर के भव्यता की कहानी अधूरी रहेगी अकबर के नवरत्नों में प्रमुख है, राजा बीरबल, मियां तानसेन, अबुल फजल, फैजी, राजा मान सिंह, राजा टोडर मल, मुल्ला दो प्याजा, फकीर अज़ुद्दीन, अब्दुल रहीम खान-ए-खाना. इन नवरत्नों के बारे में प्रत्येक का जिक्र निम्नवत है.

राजा बीरबल

इन्होनें अकबर के दरबार में प्रमुख विदूषक की भूमिका निभाई थी. इनका असली नाम महेशदास था और राजा बीरबल नाम अकबर द्वारा दिया गया था. उन्होंने अकबर के लिए सैन्य और प्रशासनिक सेवाएं भी दी थीं. उत्तर पश्चिमी भारत में अफगानी कबीलों के बीच व्याप्त अशांति को समाप्त करने के लिए किये गए युद्ध में  उनकी मृत्यु हो गई थी.

मियां तानसेन

इनका असली नाम तन्ना मिश्रा था. वह शुरू में स्वामी हरिदास के शिष्य था और बाद में इन्होनें हजरत मुहम्मद गौस से संगीत सीखा था. यह अकबर के दरबार में एक प्रमुख संगीतकार थे.

अबुल फजल

यह अकबरनामा और आईने अकबरी के लेखक थे.

फैजी

यह एक प्रसिद्ध कवि थे और अबुल फजल के भाई था.

राजा मान सिंह

ये अकबर की सेना में एक सेनापति थे और अकबर के ससुर भारमल के पौत्र थे.

राजा टोडर मल

राजा टोडरमल अकबर के वित्त मंत्री थे. ये अकबर के सम्पूर्ण राज्य की राजस्व प्रणाली में सुधर के लिए जिम्मेदार थे.

मुल्ला दो प्याजा 

इसने अकबर के लिए एक सलाहकार के रूप में काम किया.

फकीर अज़ुद्दीन 

यह एक सूफी फकीर और अकबर के एक प्रमुख सलाहकार थे.

अब्दुल रहीम खान-ए-खाना

वह अकबर के शिक्षक और मुगल सेना के एक विश्वसनीय जनरल बैरम खान का पुत्र था. वह अपने ग़ज़ल और दोहों के लिए मशहूर था.

और जानने के लिए पढ़ें:

दहसाला व्यावस्था

करोड़ी व्यवस्था

मुगल प्रशासन में मनसबदारी व्यवस्था