पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर (POK) के बारे में 15 रोचक तथ्य और इतिहास

पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर भारत के जम्मू व कश्मीर राज्य का वह हिस्सा है जिस पर पाकिस्तान ने 1947 में हमला कर अधिकार कर लिया था. पाकिस्तान ने इसे प्रशासनिक रूप से दो हिस्सों में बांट रखा है, जिन्हें सरकारी भाषा में आज़ाद जम्मू-ओ-कश्मीर और गिलगित-बल्तिस्तान कहते हैं. पाकिस्तान में आज़ाद जम्मू-ओ-कश्मीर को केवल आज़ाद कश्मीर भी कहते हैं. यहाँ के लोगों मी जीविका का मुख्य साधन कृषि, पशुपालन, पर्यटन और कालीन उद्योग हैं.
Mar 7, 2019 18:39 IST
    Jammu & Kashmir of India

    पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर (POK) को पाकिस्तान में आज़ाद कश्मीर कहा जाता है, यह विषय 1947 के बाद से भारत और पाकिस्तान के बीच विवाद का एक विषय रहा है। इस लेख में हमने पाक-अधिकृत कश्मीर से सम्बंधित बहुत से रोचक तथ्यों जैसे यहाँ के लोगों की जीविका के साधन, न्यायपालिका, भाषा और आर्थिक स्थिति इत्यादि के बारे में बताया है.

    1. POK को प्रशासनिक रूप से दो हिस्सों में बांटा गया है, जिन्हें सरकारी भाषा में आज़ाद जम्मू-ओ-कश्मीर और गिलगित-बल्तिस्तान कहते हैं. पाकिस्तान में आज़ाद जम्मू-और-कश्मीर को केवल आज़ाद कश्मीर भी कहते हैं.

    2. पाक अधिकृत कश्मीर का प्रमुख यहीं का राष्ट्रपति होता है जबकि प्रधानमंत्री मुख्य कार्यकारी अधिकारी होता हैं जो कि मंत्रियों की एक परिषद द्वारा समर्थित होता हैं.

    भारत और पाकिस्तान की अर्थव्यवस्थाओं की तुलना

    3. पाक अधिकृत कश्मीर (POK) अपने स्वशासन संबंधी विधानसभा का दावा करता है लेकिन यह तथ्य किसी से छिपा नहीं है कि यह पाकिस्तान के नियंत्रण में काम करता है.

    4. पाक-अधिकृत कश्मीर, भारत के जम्मू व कश्मीर राज्य का वह हिस्सा है जिस पर पाकिस्तान ने 1947 में हमला कर अधिकार कर लिया था.

    5. पाक अधिकृत कश्मीर (POK) मूल कश्मीर का वह भाग है, जिसकी सीमाएं पाकिस्तानी पंजाब, उत्तर पश्चिम में अफ़गानिस्तान के वाखान गलियारे से, चीन के ज़िन्जियांग क्षेत्र से और भारतीय कश्मीर से पूर्व में लगती हैं.

    6. यदि गिलगित-बल्तिस्तान को हटा दिया जाये तो आज़ाद कश्मीर का क्षेत्रफल 13,300 वर्ग किलोमीटर (भारतीय कश्मीर का लगभग 3 गुना) पर फैला है और इसकी आबादी लगभग 40 लाख है.

    7. आज़ाद कश्मीर की राजधानी मुज़फ़्फ़राबाद है और इसमें 8 ज़िले, 19 तहसीलीं और 182 संघीय काउन्सिलें हैं.

    8. पाक अधिकृत कश्मीर के दक्षिणी हिस्से में 8 जिले हैं: मीरपुर, भिम्बर, कोटली, मुज़फ़्फ़रआबाद, बाग़, नीलम, रावला कोट और सुधनती हैं.

    9. पाक अधिकृत कश्मीर के हुन्ज़ा-गिलगित के एक भाग, रक्सम एवं बाल्टिस्तान की शक्स्गम घाटी क्षेत्र को, पाकिस्तान द्वारा 1963 में चीन को सौंप दिया गया था. इस क्षेत्र को सीडेड एरिया या ट्रांस काराकोरम ट्रैक्ट कहते हैं.

    10. आजाद कश्मीर के लोग मुख्य रूप से खेती करते हैं तथा मक्का, गेहूं, वानिकी,  और पशुधन आय का मुख्य स्रोत हैं.

    11. यहाँ पर निम्न श्रेणी के कोयला भंडार, चाक, बॉक्साइट के भंडार भी हैं, स्थानीय घरेलू उद्योगों में उत्कीर्ण लकड़ी की वस्तुओं को बनाना, वस्त्र और कालीन का उत्पादन किया जाता हैं.

    12. इस क्षेत्र में उत्पादित कृषि उत्पाद में मशरूम, शहद, अखरोट, सेब, चेरी, औषधीय जड़ी बूटियों और पौधों, राल, देवदार, कैल, चीर, प्राथमिकी, मेपल और जलाने वाली लकड़ी शामिल हैं.

    agriculture on pok
    Image source:pinterest.com

    जानें भारत का गलत नक्शा दिखाने पर कितनी सजा और जुर्माना लगेगा

    13. यहाँ पर स्कूलों और कालेजों की कमी हैं फिर भी यहाँ पर 72% साक्षरता है.

    14. पख्तूनी, उर्दू, कश्मीरी और पंजाबी जैसी भाषाएँ यहाँ पर प्रमुखता से बोली जातीं हैं.

    15. पाक अधिकृत कश्मीर (POK) के पास अपना सुप्रीम कोर्ट और हाई कोर्ट भी है.

    भारत और पाकिस्तान के बीच झगडे की जड़ क्या है?

    1947 में पाकिस्तान के पख्तून कबाइलियों ने जम्मू-कश्मीर पर हमला बोल दिया जिसके निपटने के लिए  उस समय जम्मू-कश्मीर के महाराजा हरिसिंह ने भारतीय सरकार से सैन्य सहायता मांगी और भारत सरकार की ओर से तत्कालीन गवर्नर जनरल माउंटबैटन ने 26 अक्टूबर 1947 को एक समझौते पर हस्ताक्षर किये जिसमे तीन विषयों रक्षा, विदेशी मामलों और संचार को भारत के हवाले कर दिया गया था. अन्य सभी मामलों में जम्मू & कश्मीर अपने सभी निर्णयों के लिए स्वतंत्र था.

    treaty of accession india kashmir
    Image source:NewsBharati
    इस संधि के आधार पर भारत का दावा है कि महाराजा हरि सिंह से हुई संधि के परिणामस्वरूप पूरे कश्मीर राज्य पर भारत का अधिकार बनता है. इस आधार भारत का दावा पूरे कश्मीर (पाक अधिकृत कश्मीर एवं आजाद कश्मीर सहित) पर सही है. किन्तु पाकिस्तान भारत के इस दावे को नही मानता है.

    पाकिस्तानी क्या दावा करता है

    पाकिस्तान के दावे का आधार 1933 की पाकिस्तान की घोषणा है. इसके अनुसार तत्कालीन जम्मू एवं कश्मीर राज्य भारत के उन पांच उत्तरी राज्यों में से एक था, जिनमें से मुस्लिम बहुमत के आधार पर पाकिस्तान की स्थापना होनी थी. किन्तु भारत, पाकिस्तान के इस दावे को नही मानता है.

    पाक अधिकृत कश्मीर को प्रशासन के लिये दो भागों में बांटा गया:

    सन 1947 में पाकिस्तान से हुई लड़ाई के बाद कश्मीर 2 हिस्सों में बंट गया था. कश्मीर का जो हिस्सा भारत से अलग हुआ था, वह जम्मू-कश्मीर नाम से भारत का एक सूबा हो गया, वहीं कश्मीर का जो हिस्सा पाकिस्तान और अफगानिस्तान से सटा हुआ था, वह पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर कहलाया. पाकिस्तान ने पाक अधिकृत कश्मीर के प्रशासन को ठीक से चलाने के लिए इसे दो भागों में बाँट दिया है. हालाँकि भारत सरकार के अनुसार पूरा कश्मीर ही भारत के अभिन्न अंग है. नीचे दिया गया नक्सा केवल काल्पनिक है ताकि लोग वर्तमान भौगोलिक स्थिति समझ सकें.

    pok

    image source:ResearchGate

    1. आजाद कश्मीर: भारतीय कश्मीर के पश्चिमी हिस्से से लगा है.

    2. उत्तरी क्षेत्र: गिल्गित क्षेत्र महाराजा द्वारा ब्रिटिश सरकार को पट्टे पर दिया गया था. बाल्टिस्तान लद्दाख प्रांत के पश्चिम का क्षेत्र था, जिस पर पाकिस्तान ने 1947 में अधिकार कर लिया था. यह क्षेत्र विवादित जम्मू एवं कश्मीर क्षेत्र का भाग है.

    आंकड़ों के आधार पर यह कहा जा सकता है कि पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर (POK) क्षेत्र बहुत ही गरीबी की हालत में है पाकिस्तान इस क्षेत्र के लोगों को भारत के खिलाफ जंग लड़ने के लिए उकसाकर यह आश्वासन देता है कि जिस दिन POK क्षेत्र पाकिस्तान का अधिकृत अंग बन जायेगा उस दिन से इस क्षेत्र का विकास पाकिस्तान की आर्थिक सहायता से शुरू हो जायेगा. जबकि सच्चाई यह है कि पाकिस्तान इस क्षेत्र में आतंकवादियों को ट्रेनिंग देता है. यहाँ पर यह बात बताना भी जरूरी हैं कि आतंकी कसाब को पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर की राजधानी मुज़फ़्फ़राबाद में ही ट्रेनिंग दी गयी थी.

    भारतीय कश्मीर और पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर में कौन बेहतर स्थिति में है?

    Loading...

    Register to get FREE updates

      All Fields Mandatory
    • (Ex:9123456789)
    • Please Select Your Interest
    • Please specify

    • ajax-loader
    • A verifcation code has been sent to
      your mobile number

      Please enter the verification code below

    Loading...
    Loading...