जनगणना 2011 के अनुसार भारतीय राज्यों में बाल लिंगानुपात कितना है?

शून्य से 6 वर्ष के बीच की उम्र में प्रति एक हजार लड़कों पर लड़कियों की संख्या को बाल लिंगानुपात कहा जाता है. वर्ष 2001 की जनगणना में भारत बाल लिंगानुपात 927 था जो कि 2011 की जनगणना में घटकर 919 हो गया है. वर्ष 2011 की जनगणना के अनुसार, अरुणाचल प्रदेश में सबसे अधिक बाल लिंगानुपात (972) है जबकि हरियाणा में सबसे कम अर्थात 834 प्रति हजार है.
Apr 3, 2018 16:00 IST
    Child sex ratio in India:Census-2011

    शून्य से 6 वर्ष के बीच की उम्र में प्रति एक हजार लड़कों पर लड़कियों की संख्या को बाल लिंगानुपात कहा जाता है. वर्ष 2001 की जनगणना में भारत बाल लिंगानुपात 927 था जो कि 2011 की जनगणना में घटकर 919 हो गया है. वर्ष 2011 की जनगणना के अनुसार, अरुणाचल प्रदेश में सबसे अधिक बाल लिंगानुपात (972) है जबकि हरियाणा में सबसे कम अर्थात 834 प्रति हजार है.

    यदि केंद्र शासित प्रदेशों की बात की जाए तो अंडमान एवं निकोबार द्वीप समूह में बाल लिंगानुपात सबसे अधिक अर्थात 968 है जबकि सबसे कम बाल लिंगानुपात (871) दिल्ली में है.

    सभी भारतीय राज्यों का बाल लिंगानुपात इस प्रकार है;

    राज्य/केंद्र शासित प्रदेश

    बाल लिंगानुपात (0-6) वर्ष

     

    जनगणना-2001

    जनगणना -2011

              भारत

    927

    919

     1. जम्मू और कश्मीर

    941

    862

     2. हिमाचल प्रदेश

    896

    909

     3. पंजाब

    798

    846

     4. चंडीगढ़

    845

    880

     5. उत्तराखंड

    908

    890

     6. हरियाणा

    819

    834

     7. राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र दिल्ली

    868

    871

     8. राजस्थान

    909

    888

     9. उत्तर प्रदेश

    916

    902

     10. बिहार

    942

    935

     11. सिक्किम

    963

    957

     12. अरुणाचल प्रदेश

    964

    972

     13. नागालैंड

    964

    943

     14. मणिपुर

    957

    936

     15. मिजोरम

    964

    970

     16. त्रिपुरा

    966

    957

     17. मेघालय

    973

    970

     18. असम

    965

    962

     19. पश्चिम बंगाल

    960

    956

     20. झारखंड

    965

    948

     21. ओडिशा

    953

    941

     22. छत्तीसगढ़

    975

    969

     23. मध्य प्रदेश

    932

    918

     24. गुजरात

    883

    890

     25. दमन और दीव

    926

    904

     26. दादरा एवं नगर हवेली

    979

    926

     27. महाराष्ट्र

    913

    894

     28. आंध्र प्रदेश

    961

    939

     29. कर्नाटक

    946

    948

     30. गोवा

    938

    942

     31. लक्षद्वीप

    959

    911

     32. केरल

    960

    964

     33. तमिलनाडु

    942

    943

     34. पुडुचेरी

    967

    967

     35. अंदमान एवं निकोबार द्वीप  समूह

    957

    968

    Source: Census of India 2011

    उपर्युक्त तालिका से यह निष्कर्ष निकाला जा सकता है कि भारत में बाल लिंगानुपात 2001 से 2011 की अवधि के बीच घट गया है. भारत के बाल लिंगानुपात में कमी के पीछे बहुत कारण हैं. जिसमे सबसे मुख्य है, लोगों में लड़कियों की तुलना में लड़कों की चाह अधिक होना. लोग यह मानते हैं कि लड़के लोगों के बुढ़ापे का सहारा बनेंगे, वंश को आगे बढ़ाएंगे और उनके अंतिम संस्कार को अंजाम देंगे.

    भारत से निर्यात किए जाने वाले टॉप 10 उत्पादों की सूची

    Loading...

    Register to get FREE updates

      All Fields Mandatory
    • (Ex:9123456789)
    • Please Select Your Interest
    • Please specify

    • ajax-loader
    • A verifcation code has been sent to
      your mobile number

      Please enter the verification code below

    Loading...
    Loading...