क्या आप जानते हैं मूर्तिकला और वास्तुकला में क्या अंतर है?

हम अक्सर मूर्तिकला और वास्तुकला के शाब्दिक अर्थ समझे बिना दोनों को एक समझने की गलती कर देते हैं। असल में, दोनों अलग-अलग शब्द हैं। मूर्तिकला प्रोटो-इंडो-यूरोपीय (पीआईई) शब्द 'केल' से लिया गया है जिसका अर्थ होता है 'कट या क्लीव'। दूसरी ओर, शब्द वास्तुकला लैटिन शब्द 'टेकटन' से लिया गया है जिसका अर्थ होता है निर्माता (बिल्डर) । इस लेख में हमने मूर्तिकला और वास्तुकला में अंतर बताया है जो UPSC, SSC, State Services, NDA, CDS और Railways जैसी प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी कर रहे छात्रों के लिए बहुत ही उपयोगी है।
Jul 6, 2018 17:45 IST
    Do you know the difference between Architecture and Sculpture in Hindi

    हम अक्सर मूर्तिकला और वास्तुकला के शाब्दिक अर्थ समझे बिना दोनों को एक समझने की गलती कर देते हैं। असल में, दोनों अलग-अलग शब्द हैं। मूर्तिकला प्रोटो-इंडो-यूरोपीय (पीआईई) शब्द 'केल' से लिया गया है जिसका अर्थ होता  है 'कट या क्लीव'। यह सूक्ष्म कला कार्य और हस्तनिर्मित कला कार्य है जो  इंजीनियरिंग और माप की तुलना में सौंदर्यशास्त्र से अधिक संबंधित हैं। दूसरी ओर, शब्द वास्तुकला लैटिन शब्द 'टेकटन' से लिया गया है जिसका अर्थ होता है निर्माता (बिल्डर)।

    मूर्तिकला और वास्तुकला में अंतर है

    मूर्तिकला

    1. यह  पुरातनता की सांस्कृतिक उपलब्धियों का एक प्रमुख संकेतक होता है।

    2. यह कला का 3-आयामी कार्य है।

    3. यह आमतौर पर एक प्रकार की सामग्री से बना होता है।

    4. रचनात्मकता और कल्पना से प्रेरित हो कर और बिना किसी ख़ास माप पर इसका निर्माण किया जाता है।

    5. इसकी संरचना का केवल बाहरी हिस्सा दिखाई देता है।

    6. इसको नक्काशी, मॉडलिंग या कास्टिंग द्वारा निर्मित किया जाता है।

    7. यह कठोर पदार्थ (जैसे पत्थर), मृदु पदार्थ (plastic material) एवं प्रकाश आदि से बनाया जाता है- जैसे नेपाली मल्ल वंश की 14वीं शती की बहुरंगी लकड़ी की मूर्ति (त्रि-आयामी)।

    8. यह पत्थर या लकड़ी के एक टुकड़े से बनाया जाता है बना है।

    गंधार, मथुरा और अमरावती शैलियों में क्या अंतर होता है

    वास्तुकला

    1. यह कला दर्शन की एक शाखा है जो वास्तुकला के सौंदर्य मूल्य, इसके अर्थशास्त्र और संस्कृति के विकास के साथ संबंध रखता है।

    2. यह किसी स्थान को मानव के लिए वासयोग्य बनाने की कला है।

    3. यह भवनों के डिजाइन और निर्माण को संदर्भित करता है।

    4. यह आमतौर पर पत्थर, लकड़ी, कांच, धातु, रेत आदि जैसे विभिन्न प्रकार की सामग्रियों के मिश्रण से निर्मित किया जाता है।

    5. इसमें इंजीनियरिंग और इंजीनियरिंग गणित का अध्ययन शामिल होता है जो निर्माण के दौरान विस्तृत और सटीक माप देता है।

    6. यह संरचना के बाहरी और आंतरिक दोनों हिस्सों में दिखाई देता है।

    7.  इसमें प्रोजेक्ट संक्षिप्त, डिज़ाइन, ड्राइंग और कार्यान्वयन शामिल होता है।

    8. यह एक इमारत के निर्माण में पत्थर, लकड़ी, कांच, पीतल, स्टील और अन्य धातुओं जैसे कई सामग्रियों से बना होता है।

    क्या आप जानते हैं पांडुलिपि और शिलालेख में क्या अंतर है?

    Loading...

    Register to get FREE updates

      All Fields Mandatory
    • (Ex:9123456789)
    • Please Select Your Interest
    • Please specify

    • ajax-loader
    • A verifcation code has been sent to
      your mobile number

      Please enter the verification code below

    Loading...
    Loading...