1. Home
  2. Hindi
  3. IFFI: स्पेनिश फिल्म डायरेक्टर कार्लोस सौरा को 'सत्यजीत रे लाइफटाइम अचीवमेंट अवार्ड' से किया जायेगा सम्मानित

IFFI: स्पेनिश फिल्म डायरेक्टर कार्लोस सौरा को 'सत्यजीत रे लाइफटाइम अचीवमेंट अवार्ड' से किया जायेगा सम्मानित

 IFFI: इस वर्ष सत्यजीत रे लाइफटाइम अचीवमेंट पुरस्कार स्पेनिश फिल्म डायरेक्टर कार्लोस सौरा को दिया जायेगा. यह अवार्ड उन्हें भारतीय अंतर्राष्ट्रीय फिल्म महोत्सव (IFFI) के 53वें संस्करण के दौरान दिया जायेगा. जानें इस अवार्ड के बारे में

'सत्यजीत रे लाइफटाइम अचीवमेंट अवार्ड'-कार्लोस सौरा
'सत्यजीत रे लाइफटाइम अचीवमेंट अवार्ड'-कार्लोस सौरा

IFFI: इस वर्ष सत्यजीत रे लाइफटाइम अचीवमेंट पुरस्कार स्पेनिश फिल्म डायरेक्टर कार्लोस सौरा (Carlos Saura) को दिया जायेगा. यह अवार्ड उन्हें भारतीय अंतर्राष्ट्रीय फिल्म महोत्सव (IFFI) के 53वें संस्करण के दौरान दिया जायेगा. इसकी घोषणा सूचना और प्रसारण राज्य मंत्री डॉ. एल. मुरुगन ने की है.

कौन है कार्लोस सौरा?

कार्लोस सौरा एक स्पेनिश फिल्म निर्देशक, फोटोग्राफर और लेखक हैं. उनका एक लम्बा और शानदार करियर है, उनकी फिल्मों ने कई अंतरराष्ट्रीय पुरस्कार जीते हैं. उन्होंने अपने करियर की शुरुआत 1955 में डॉक्यूमेंट्री शॉर्ट्स के साथ की थी. 1960 में कान्स फिल्म फेस्टिवल में उनकी पहली फीचर फिल्म का प्रीमियर दिखाया गया जिसने उन्हें अंतरराष्ट्रीय स्तर पर फेमस किया. उनका जन्म 4 जनवरी 1932 को स्पेन के शहर ह्यूस्का में हुआ था. 

कार्लोस सौरा की अचिवमेंट्स:

  • कार्लोस सौरा ने डेप्रिसा डेप्रिसा (Deprisa) के लिए बर्लिन इंटरनेशनल फिल्म फेस्टिवल में बेस्ट डायरेक्टर के लिए गोल्डन बियर अवार्ड प्राप्त किया था.
  • उन्होंने ला काज़ा (La caza) और पेपरमिंट फ्रेपे (Peppermint Frappe) के लिए दो सिल्वर बियर अवार्ड भी जीते है. 
  • कार्लोस सौरा ने कारमेन के लिए बाफ्टा (BAFTA) अवार्ड भी जीता है. साथ ही उन्होंने कान्स में तीन अवार्ड जीते है.
  • अब उन्हें सत्यजीत रे लाइफटाइम अचीवमेंट अवार्ड से सम्मानित किया जायेगा. साथ ही इस आईएफएफआई आयोजन में उनकी 8 फिल्मों का रेट्रोस्पैक्टिव (retrospective) भी आयोजित किया जायेगा.    

सत्यजीत रे लाइफटाइम अचीवमेंट अवार्ड के बारे में:

सत्यजीत रे लाइफटाइम अचीवमेंट अवार्ड वर्ष 1999 में 30वें आईएफएफआई के दौरान शुरू किया गया था. इसकी स्थापना भारत के अंतर्राष्ट्रीय फिल्म महोत्सव द्वारा की गयी है. यह अवार्ड ग्लोबल फिल्म इंडस्ट्री में अहम् योगदान देने वाले व्यक्ति को दिया जाता है. पूर्व में इस अवार्ड को आईएफएफआई लाइफटाइम अचीवमेंट अवार्ड के नाम से जाना जाता था.

वर्ष 2021 में यह अवार्ड हंगेरियन फिल्म निर्माता इस्तवान स्जाबो (Istvan Szabo) और हॉलीवुड आइकन मार्टिन स्कॉर्सेसे (Martin Scorsese) को दिया गया था.

आईएफएफआई का 53वां संस्करण:  

इंटरनेशनल फिल्म फेस्टिवल ऑफ़ इंडिया का 53वां संस्करण 20 से 28 नवंबर, 2022 को गोवा में आयोजित किया जायेगा. इस वार्षिक फिल्म महोत्सव में कला, फिल्मों और संस्कृति की एकजुट ऊर्जा और भावना देखने को मिलेगी. इस 53वें संस्करण में 79 देशों की 280 फिल्में दिखाई जाएंगी.

  • ओपनिंग फिल्म: इस फिल्म फेस्टिवल की ओपनिंग फिल्म के रूप में डीटर बर्नर द्वारा निर्देशित ऑस्ट्रियाई फिल्म 'एल्मा एंड ऑस्कर' (Alma and Oskar) को दिखाया जायेगा. 
  • क्लोजिंग फिल्म: इस फिल्म फेस्टिवल की क्लोजिंग फिल्म क्रिस्टॉफ ज़ानुसी की फिल्म 'परफेक्ट नंबर' (Perfect Number) होगी.    
  • इंडियन पैनोरमा: 'इंडियन पैनोरमा' की शुरुआत पृथ्वी कोन्नूर की कन्नड़ा फिल्म 'हडिनेलेंटु' (Hadinelentu’) से की जाएगी. इसके तहत ऑस्कर की बेस्ट इंटरनेशनल फीचर फिल्म श्रेणी में भारत की एंट्री 'छेल्लो शो- द लास्ट फिल्म शो' और  मधुर भंडारकर की 'इंडिया लॉकडाउन' की भी स्पेशल स्क्रीनिंग करायी जाएगी.  
  • कंट्री फोकस: 53वें इंटरनेशनल फिल्म फेस्टिवल ऑफ़ इंडिया में कंट्री फोकस के रूप में फ्रांस को चुना गया है. फ्रांस इस बार का 'स्पॉटलाइट' कंट्री है और 'कंट्री फोकस' पैकेज के तहत फ्रांस 8 फिल्में दिखाई जाएंगी.
  • दादासाहेब फाल्के विजेता का रेट्रोस्पैक्टिव: दादासाहेब फाल्के विजेता का रेट्रोस्पैक्टिव सेक्शन के तहत 52वें दादासाहेब फाल्के की अवार्ड विनर आशा पारेख जी की तीन हिट फिल्मों का फिल्मांकन किया जायेगा. ये तीन फिल्में है 'तीसरी मंजिल', 'दो बदन' और 'कटी पतंग' जिसे 'आशा पारेख रेट्रोस्पैक्टिव' के तहत प्रदर्शित किया जायेगा. 

इसे भी पढ़े

वर्ष 2022 के राष्ट्रीय खेल पुरस्कारों की घोषणा, जानें किसे मिला मेजर ध्‍यान चंद खेल रत्‍न