इंडियन कॉलेज स्टूडेंट्स खुद को दें कुछ विशेष गिफ्ट्स, बनेगा सुनहरा भविष्य

इंडियन कॉलेज स्टूडेंट्स खुद को कुछ विशेष गिफ्ट्स या आदतें, स्किल-सेट और ज्ञान दे सकते हैं. ये गिफ्ट्स उनके सुनहरे भविष्य के लिए बहुत फायदेमंद साबित होंगे.

Special Gifts which Indian College Students can give themselves
Special Gifts which Indian College Students can give themselves

हमारे देश में हर साल लाखों स्टूडेंट्स विभिन्न कॉलेजों और यूनिवर्सिटीज़ में एडमिशन लेते हैं. इन स्टूडेंट्स की आंखों में अपने सुनहरे भविष्य के सपने होते हैं. लेकिन, इन सपनों को साकार करने के लिए कॉलेज स्टूडेंट्स को अपनी कॉलेज स्टडीज़ के साथ-साथ कुछ खास प्रयास करने होंगे. 

असल में, किसी कॉलेज में एडमिशन लेते ही इन स्टूडेंट्स का एक्सपोज़र पूरी दुनिया से हो जाता है. ऐसे में इन स्टूडेंट्स को अक्सर समझ में नहीं आता कि वे अपनी कॉलेज लाइफ में सूटेबल बैलेंस कैसे कायम करें?....वे अपने कॉलेज के दिनों में ऐसा क्या कुछ करें और सीखें कि, उनके सुनहरे भविष्य की नींव उनके कॉलेज के दिनों में ही तैयार हो जाए?

अगर हम किसी भी कामयाब सेलेब्रिटी या व्यक्तित्व के जीवन में झांकें तो हम एक खास बात महसूस करते हैं और वह बात यह है कि इन कामयाब सेलेब्रिटीज़ और सफल लोगों के लाइफ-स्टाइल अर्थात जीने के अंदाज़ में जाने-अनजाने ही कुछ ऐसी क्वालिटीज़ जरुर होती है जो उन लोगों को सफल और कामयाब बनती हैं. 

कॉलेज स्टूडेंट्स भी अपने उज्ज्वल भविष्य और करियर फील्ड में कामयाबी हासिल करने के लिए अपने कॉलेज के दिनों में ही अगर कुछ खास आदतें अपना लें और कुछ खास स्किल्स सीख लें तो फिर, उन स्टूडेंट्स को आने वाले जीवन में मनचाही करियर फील्ड में कामयाबी यकीनन मिलेगी. कुछ महत्त्वपूर्ण पॉइंट्स का जिक्र हम इस आर्टिकल में आगे कर रहे हैं:

टाइम मैनेजमेंट

कॉलेज स्टूडेंट अगर एक बार टाइम मैनेजमेंट की कला में निपुण हो जाते हैं तो वे जीवन के हरेक क्षेत्र में कामयाब हो जाते हैं. दरअसल समय की कमी नहीं होती है. पूरे संसार में सभी लोगों को 1 दिन में 24 घंटे का ही समय मिलता है......इससे न एक मिनट कम और न ही एक मिनट ज्यादा. अब, अगर हम गहराई से विचार करें तो किसी के भी पास समय तो कम नहीं होता है अर्थात हम सभी को रोज़ पूरे 24 घंटे ही मिलते हैं लेकिन, कमी तो सही टाइम मैनेजमेंट की कला में होती है. 

यह आप पर निर्भर करता है कि आप उसे कैसे मैनेज करते हैं.  स्टूडेंट्स अपने समय के पायलट खुद ही होते हैं और वे इसे खुद ही मैनेज कर सकते हैं तथा अपने सभी कार्यों के लिए पर्याप्त समय निर्धारित कर सकते हैं. इसके लिए बहाने बनाना उचित नहीं है. इसी तरह, भविष्य में कॉलेज स्टूडेंट्स को अपने ऑफिस में एक ही समय पर अनेक काम करने पड़ सकते हैं. जॉब मार्केट में एंटर होने से पहले अगर कॉलेज स्टूडेंट्स  मल्टीटास्किंग का हुनर हासिल कर लें तो फिर उन्हें कोई भी जॉब करने में आसानी होगी.

बजट मैनेजमेंट

किसी इंसान के लिए अपने वित्त या रुपये का प्रबंध करने के लिए बजट बनाना सबसे ज़रूरी आस्पेक्ट है. किसी भी कॉलेज स्टूडेंट के लिए बजट बनाना सीखना एक बहुत ज़रुरी स्किल है. विशेष तौर पर तब, जब आप अपने घर-परिवार से दूर रहते हैं और अपने लिए हर चीज का इंतज़ाम आपको खुद करना होता है. कॉलेज स्टूडेंट्स को आजकल अपना मनी-मैनेजमेंट खुद ही करना होता है. यह एक ऐसा स्किल है जो एक बार सीख लेने के बाद स्टूडेंट्स को उनके आने वाले जीवन में हमेशा हमारे काम आता है.

इंटर्नशिप और स्किल लर्निंग

आजकल हमारे देश के अधिकतर कॉलेज और यूनिवर्सिटीज़ कॉलेज स्टडीज़ के दौरान ही सभी स्टूडेंट्स को अनिवार्य रूप से इंटर्नशिप ट्रेनिंग हासिल करने की व्यवस्था उनके कोर्स करिकुलम के माध्यम से ही कर देते हैं. कॉलेज स्टूडेंट्स को इसका पूरा लाभ उठाना चाहिए क्योंकि इंटर्नशिप वास्तव में कॉलेज स्टूडेंट्स को प्रोफेशनल ट्रेनिंग और प्रोफेशनल परिवेश से अवगत करवाती है और यही इंटर्नशिप सर्टिफिकेट नौकरी के समय भी काफी काम आते हैं. 

डिजिटल लिटरेसी और कंप्यूटर कोर्स

इनफॉर्मेशन टेक्नोलॉजी (IT) और डिजिटल स्किल्स या डिजिटल लिटरेसी के तहत डिजिटल टेक्नोलॉजी से संबंधित कई स्किल-सेट्स जैसे कि, कोडिंग, ब्रांडिंग, क्लाउड सॉफ्टवेयर, MS ऑफिस और बैंकिंग एप्स को शामिल किया जाता है.

 IT और डिजिटल स्किल्स में केवल कुछ टूल्स या टेक्नोलॉजीज़ को इस्तेमाल करना ही शामिल नहीं होता बल्कि अपने कॉलेज के दिनों में इन डिजिटल स्किल्स को लगातार निखारने से ही स्टूडेंट्स अपना फ्यूचर ब्राइट बना सकते हैं. 

कुछ अन्य डिजिटल स्किल्स में स्क्रीनकास्टिंग, इमेज एडिटिंग, वीडियो एडिटिंग, फोटोशॉप, कंटेंट राइटिंग, कंटेंट मैनेजमेंट, वर्ड प्रोसेसिंग सॉफ्टवेयर स्किल, कोलैबोरेशन, पर्सनल आर्किविंग और सोशल मीडिया स्किल्स को शामिल किया जा सकता है.

लैंग्वेज और कम्युनिकेशन स्किल्स

अगर कॉलेज स्टूडेंट्स की हिंदी, इंग्लिश और 1 या 2 नेटिव लैंग्वेज में अच्छी पकड़ है तो आमतौर पर ऐसे स्टूडेंट्स के कम्युनिकेशन स्किल्स काफी प्रभावी होते हैं क्योंकि हिंदी, इंग्लिश और नेटिव लैंग्वेजेज की अच्छी जानकारी होने के कारण वे स्टूडेंट्स सबकी बात को अच्छी तरह समझ और समझा सकते हैं.

 आपका ओरल/ रिटन कम्युनिकेशन काफी इम्प्रेसिव होना चाहिए. इसके अलावा, आप पब्लिक स्पीकिंग में भी माहिर हों तो यह एक प्लस पॉइंट साबित होगा. ऐसे स्टूडेंट्स को सोशल नेटवर्किंग में भी काफी फायदा मिलता है. इसलिए, अगर अपने कॉलेज के दिनों में स्टूडेंट्स को अपने लैंग्वेज स्किल्स को जहां तक संभव हो, आगे बढ़ाना चाहिए.

फॉरेन लैंग्वेज स्किल

अगर कॉलेज स्टूडेंट्स अपनी कॉलेज स्टडीज़ के दौरान समय मिलने पर किसी फॉरेन लैंग्वेज में डिप्लोमा या सर्टिफिकेट कोर्स कर लें तो आगे चल कर वे स्टूडेंट्स उस संबद्ध लैंग्वेज में अपना करियर भी शुरू कर सकते हैं या फिर, जिस देश की लैंग्वेज कॉलेज स्टूडेंट्स ने सीखी है, उस देश में हायर स्टडीज़ के लिए भी विभिन्न डिग्री/ डिप्लोमा कोर्सेज में एडमिशन ले सकते हैं. 

किसी फॉरेन लैंग्वेज में एक्सपर्ट होने पर स्टूडेंट्स ट्रांसलेटर या इंटरप्रेटर का शानदार करियर भी शुरू कर सकते हैं. इंटरप्रेटर्स को बेहतरीन सैलरी पैकेज मिलता हैं.

हेल्थ और फिटनेस

सदियों से देश-दुनिया के स्कॉलर्स इस बात पर बल देते आये हैं कि, ‘पहला सुख, निरोगी काया!’ अर्थात अगर हमारा शरीर हेल्दी है तो हम जीवन में सारे मुकाम हासिल कर सकते हैं. 

कॉलेज स्टूडेंट्स अपने कॉलेज के दिनों से ही विभिन्न किस्म के योगासन, एक्सरसाइज़  और एरोबिक्स के माध्यम से खुद को स्वस्थ रख सकते हैं. कॉलेज स्टूडेंट्स को हेल्दी और फिट रहने के लिए रोज़ाना जॉगिंग, योगासन या फिजिकल एक्सरसाइज़  करनी चाहिए.

स्ट्रेस फ्री लाइफ स्टाइल

लंबे समय तक अपने दिमाग को स्ट्रेस का शिकार बनाये रखने से आपके मानसिक और शारीरिक स्वास्थ्य पर बुरा असर पड़ेगा. स्ट्रेस न सिर्फ आपकी पढ़ाई को बर्बाद कर सकता है बल्कि आपके जीवन के सपनों और लक्ष्यों को भी नष्ट कर सकता है. लेकिन अगर आप थोड़े ज्यादा सावधान रहें और समय रहते स्ट्रेस से जुड़ी समस्याओं से निपटना सीख लें तो इस सब से बड़ी आसानी से बचा जा सकता है. 

कहते हैं कि स्वस्थ शरीर में स्वस्थ मन का निवास होता है. एक दिन में 45 मिनट तक तेज़ चलना भी आपके दिमाग और शरीर में तरोताज़गी भरने के लिए बहुत फायदेमंद रहता है. इसी तरह, स्ट्रेस से निपटने का एक अन्य नायाब और असरदार  तरीका अपना पसंदीदा म्यूज़िक सुनना या अपनी हॉबीज़ जैसे डांस, सिंगिंग, एक्टिंग, पेंटिंग, राइटिंग या कुकिंग आदि में रोज़ाना कुछ समय बिताना भी है. हमारे स्ट्रेस लेवल पर हमारी खाने-पीने की आदतों का भी असर पड़ता है. हेल्दी फूड्स खाने से हमारे शरीर पर स्ट्रेस का असर काफी कम हो हाता है. 

स्पोर्ट्स एंड टीम स्पिरिट

कॉलेज स्टूडेंट्स अपने एरिया या कॉलेज में कोई स्पोर्ट्स टीम या स्पोर्ट्स कल्ब भी ज्वाइन कर सकते हैं. ऐसा करने पर स्टूडेंट्स की हेल्थ भी मेंटेन रहेगी और वे इंटर-कॉलेज, इंटर-स्टेट या नेशनल-इंटरनेशनल लेवल के मैचेस खेलते हुए टीम स्पिरिट भी अच्छी तरह सीख लेते हैं.

सोशल सर्विस और कल्चर की जानकारी

हमारे देश में नेशनल कैडेट कोड (NCC) और नेशनल सर्विस स्कीम (NSS) में हिस्सा लेकर कॉलेज स्टूडेंट्स अपने समाज और देश की सेवा कर सकते हैं और NCC या NSS के कैंप्स में शामिल होकर अपने समाज और देश की सेवा और सुरक्षा के लिए समुचित ट्रेनिंग ले सकते हैं.

 इसी तरह, कॉलेज स्टूडेंट्स को हमारे देश के इतिहास,धर्म, सामाजिक-सांस्कृतिक विविधता और कल्चरल बैकग्राउंड की भी अगर समुचित जानकारी हो तो यह पॉइंट उनके भावी करियर में मील का पत्थर साबित हो सकता है.

फ्री टाइम में सीखें यह स्किल्स 

इसी तरह, अपने कॉलेज के 3-4 वर्षों के दौरान कॉलेज स्टूडेंट्स को अपने फ्री टाइम का सदुपयोग करते हुए कंप्यूटर कोर्स, डिजिटल स्किल्स, लैंग्वेज कोर्स, वॉयस मोड्यूलेशन, एनीमेशन, पेंटिंग, कुकिंग, एक्टिंग, ओरिगेमी, सिंगिंग एंड डांस, इंस्ट्रूमेंट प्लेयिंग, फेवरेट स्पोर्ट्स या फिर अपनी पसंद के कुछ अन्य स्किल्स जरुर सीख लेने चाहिए क्योंकि आगे चलकर स्टूडेंट्स अपने इन स्किल्स को ही अपना करियर बना सकते हैं.

टेक्निकल अपडेशन

आज के इस मॉडर्न दौर में जब 24x7 लगातार साइंस और टेक्नोलॉजी का पूरी दुनिया में विकास हो रहा है तो ऐसे में स्टूडेंट्स को भी अपनी टेक्निकल नॉलेज का लगातार अपडेशन करते रहना चाहिए ताकि जब वे अपने कॉलेज से डिग्री लेकर जॉब मार्केट में अपने लिए एक सूटेबल जॉब सर्च करें तो स्टूडेंट्स की अपडेटेड टेक्निकल नॉलेज उनका प्लस पॉइंट साबित हो.

जॉब, इंटरव्यू, करियर, कॉलेज, एजुकेशनल इंस्टीट्यूट्स, एकेडेमिक और पेशेवर कोर्सेज के बारे में और अधिक जानकारी प्राप्त करने और लेटेस्ट आर्टिकल पढ़ने के लिए आप हमारी वेबसाइट www.jagranjosh.com पर विज़िट कर सकते हैं.

अन्य महत्त्वपूर्ण लिंक

कॉलेज स्टूडेंट्स कैसे बनाएं अपने हॉबीज को इनकम का सोर्स ?

कॉलेज स्टूडेंट्स के लिए कुछ प्रेरक हेल्थ एवं फिटनेस टिप्स

सोशल मीडिया कॉलेज छात्रों के लिए किस हद तक उपयोगी ?

 

 

Related Categories

Jagran Play
खेलें हर किस्म के रोमांच से भरपूर गेम्स सिर्फ़ जागरण प्ले पर
Jagran PlayJagran PlayJagran PlayJagran Play

Related Stories