Jagran Josh Logo

अगर आप हैं हिस्ट्री में ग्रेजुएट तो आपके पास हैं ये ऑप्शन्स !

Mar 23, 2018 17:43 IST
  • Read in English
Things you can do after graduating with a degree in History
Things you can do after graduating with a degree in History

हाल के वर्षों में आर्ट्स और ह्यूमेनिटीज के विषयों के बारे में बदलते हुए दृष्टिकोण के कारण, अधिक से अधिक छात्र इन कोर्सेज का चयन कर रहे हैं. कुछ छात्र तो अपने स्कूल के दिनों से ही आर्ट्स के विभिन्न विषय पढ़ना शुरू कर देते हैं. बहुत लंबे समय से यह धारणा थी कि, आर्ट्स के विषय पढ़ने वाले छात्र पढ़ाई में बहुत अधिक अच्छे नहीं होते हैं. हालांकि, अब छात्र और उनके माता-पिता, दोनों  ने ही आर्ट्स को एक बढ़िया करियर विकल्प के रूप में देखना शुरू कर दिया है. अब बहुत अधिक टैलेंटेड छात्रों ने भी आर्ट्स के क्षेत्र को एक आकर्षक करियर ऑप्शन के रूप में देखना शुरू कर दिया है.

हालांकि, आर्ट्स और ह्यूमेनिटीज के विषय पढ़ने वाले छात्रों के लिए मौजूद करियर ऑप्शन्स को लेकर अभी भी काफी भ्रम बना हुआ है. कई छात्रों को उन करियर ऑप्शन्स के बारे में पता नहीं है जो किसी आर्ट्स और ह्यूमेनिटीज के विषय पढ़ने वाले छात्र के लिए उपलब्ध हैं. इसलिये, इस आर्टिकल में हमने कुछ बेहतरीन करियर ऑप्शन्स की चर्चा की है, जो हिस्ट्री ग्रेजुएट छात्रों के लिए उपलब्ध हैं.

इंडियन कॉलेजेस में पढ़ें ये महत्वपूर्ण कोर्सेज

1. जर्नलिज्म

हालांकि जर्नलिज्म में अपना करियर बनाने के लिए आपको कोई विशेष कोर्स करने की आवश्यकता नहीं है. लेकिन, हिस्ट्री में कोर्स करने पर आपके लिए यह पेशा अपनाना काफी आसान हो जाता है. यह कोर्स आपके लिए इस पेशे को इसलिये आसान बना सकता है क्योंकि हिस्ट्री पढ़ने वाले छात्र पहले की घटनाओं से अच्छी तरह परिचित होते हैं और वर्तमान घटनाक्रम के साथ पूर्व की घटनाओं के संबंध का विश्लेषण करना उन छात्रों के लिए काफी आसान होता है. हिस्ट्री में ग्रेजुएशन करने के बाद आप आसानी से जर्नलिज्म में पोस्ट ग्रेजुएशन कर सकते हैं और अपनी पसंद के किसी भी मीडियम जैसेकि प्रिंट, डिजिटल और  इलेक्ट्रॉनिक जर्नलिज्म में विशेषज्ञता हासिल कर सकते हैं. जर्नलिस्ट्स को न्यूज़ एकत्रित करने, तैयार करने, न्यूज़ का मूल्यांकन करने और जन-साधारण को सूचना और जानकारी देने का काम सौंपा जाता है. कोई भी व्यक्ति सूचना देने के अन्य साधनों जैसे ईमेल, ट्वीट्स, एडवरटोरिल्स, ओपिनियन्स, प्रोपेगंडाज आदि से जर्नलिज्म को आसानी से अलग कर सकता है. जर्नलिज्म राइटिंग में कुछ खास विशेषताएं होती हैं जो इसे राइटिंग के अन्य क्षेत्रों से अलग करती हैं. जर्नलिज्म अपने रीडर्स या व्यूअर्स को ऐसी जानकारी प्रदान करते हैं जो तथ्यात्मक और वास्तविक होती है और अपने रीडर्स या व्यूअर्स को उचित निर्णय लेने में मदद कर सकती है. इसके अलावा, एक जर्नलिस्ट  को लगातार जनता का विश्वास हासिल करने का प्रयास करना चाहिए और लोगों को वास्तविक, सटीक और मूल्यवान जानकारी तथा न्यूज़ उपलब्ध करवानी चाहिए.

2. म्यूजियम क्यूरेटर

एक म्यूजियम क्यूरेटर या गैलरी क्यूरेटर के रूप में आप किसी म्यूजियम में कलाओं और कलाकृतियों के संग्रह के प्रबंधन के लिए जिम्मेदार होंगे. क्यूरेटर प्रदर्शन योग्य कलात्मक वस्तुओं के साथ ही ऐतिहासिक या वैज्ञानिक महत्व की अन्य वस्तुओं का संग्रह और देखभाल करते हैं. वे आम तौर पर जनता को शिक्षित करने के उद्देश्य से नए आर्टवर्क्स का अधिग्रहण भी करते हैं. इसके अलावा वे विजिटर्स को म्यूजियम में प्रदर्शित डिज़ाइन्स के बारे में जानकारी भी देते हैं. क्यूरेटर की भूमिका कभी-कभी एक प्रबंधक के समान हो जाती है, क्योंकि इसमें सार्वजनिक संबंध कायम करने, धन उगाहने, मार्केटिंग और एजुकेशनल प्रोग्राम्स का आयोजन करना भी शामिल होता है. वे शेयरहोल्डर्स के साथ संबंध बनाने और सामुदायिक संपर्क कायम करने, बजट तैयार करने और गैलरी कर्मचारियों के संबंध में व्यवस्था करने के लिए भी ज़िम्मेदार होते हैं.

3. आर्ट रिस्टोर्र

एक आर्ट रिस्टोर्र की जॉब के लिए आपको किसी संबंधित क्षेत्र जैसे आर्ट’स हिस्ट्री, स्टूडियो आर्ट या आर्कियोलोजी में ग्रेजुएशन की डिग्री की आवश्यकता होती है. इस क्षेत्र में काम करने के इच्छुक लोगों के लिए इस क्षेत्र से संबंधित इंटर्नशिप्स और काम करने का पूर्व-अनुभव काफी फायदेमंद होता है क्योंकि आर्ट रेस्टोरेशन में ग्रेजुएशन कोर्सेज और सर्टिफिकेट प्रोग्राम्स बहुत सीमित संख्या में उपलब्ध हैं. जैसा कि इसके नाम से पता चलता है, आर्ट रेस्टोरेशन में क्षतिग्रस्त या खराब कलाकृतियों को सावधानी पूर्वक  दुबारा से बनाना शामिल है ताकि वे अपने मूल रूप के करीब दिख सकें. रेस्टोरेशन का कार्य संरक्षण प्रक्रिया का एक अहम हिस्सा माना जाता है. इसलिये यह आर्ट रिस्टोर्र को सौंपा गया एक बहुत महत्वपूर्ण काम है. कला संरक्षण के किसी ट्रेनिंग प्रोग्राम में आमतौर पर रेस्टोरेशन की तकनीक शामिल होती है. इस करियर को शुरू करने के लिए स्टूडियो आर्ट, एंथ्रोपोलॉजी, आर्ट’स हिस्ट्री या किसी समान विषय में ग्रेजुएशन की डिग्री जरुरी होती है.

4. लाइब्रेरी और इनफार्मेशन साइंस

लाइब्रेरी और इनफार्मेशन साइंस एक ऐसा पेशा है जिसे वे लोग अपनाते हैं जो विश्व में सकारात्मक बदलाव लाना चाहते हैं. ये लोग अपने पेशे से बहुत खुश रहते हैं. इसके अलावा, एक लाइब्रेरियन का काम लोगों और इनफार्मेशन एंड टेक्नोलॉजी के बीच मौजूद गैप को खत्म करना होता है. लाइब्रेरियन्स और इनफार्मेशन प्रोफेशनल्स के प्रमुख काम हैं:

• ज्ञान-संगठन सिस्टम्स को तैयार करना और विकसित करना.

• रीडर के सलाहकार संबंधी संसाधन जुटाकर युवा छात्रों को आजीवन पढ़ने और सीखने के लिए प्रेरित करना.

• स्कॉलर्स को उनके थीसिस और रिसर्च के लिए आर्काइवल और अन्य महत्वपूर्ण संसाधनों की तलाश करने में मदद करना.

• पारिवारिक और पर्सनल ऐमरजेंसी में सहायता के सोर्सेज की पहचान करने में मदद करना.

• किसी ऐमरजेंसी की स्थिति में डॉक्टरों को स्वास्थ्य संबंधी जानकारी तुरंत ढूंढने में मदद करना.

कॉलेज स्टूडेंट्स के लिए जरुरी कुछ एक्स्ट्रा-करीकुलर एक्टिविटीज

यदि आपको अपने देश और विदेश की विभिन्न घटनाओं के बारे में जानकारी प्राप्त करने का शौक है तो हिस्ट्री उच्च शिक्षा के लिए एक बहुत ही रोचक विषय हो सकता है. हिस्ट्री पढ़ने से छात्रों को विभिन्न सामाजिक, आर्थिक, राजनीतिक और सांस्कृतिक पहलुओं के अलावा, प्राचीन, मध्यकालीन और समकालीन भारत के बारे में काफी अच्छी जानकारी मिलती है. यदि आप हिस्ट्री पढ़ने में काफी इंटरेस्ट लेते हैं तो उक्त करियर विकल्प आपके लिए बहुत अच्छे हैं क्योंकि इन पेशों को अपनाकर आप हमेशा ‘हिस्ट्री’ से संबद्ध रह सकते हैं.

ऐसे और अधिक आर्टिकल पढ़ने के लिए www.jagranjosh.com/college पर विजिट करें. आप नीचे दिए गए बॉक्स में अपना ईमेल-आईडी सबमिट करके भी ये आर्टिकल सीधे अपने इनबॉक्स में प्राप्त कर सकते हैं.

Latest Videos

Register to get FREE updates

    All Fields Mandatory
  • (Ex:9123456789)
  • Please Select Your Interest
  • Please specify

  • ajax-loader
  • A verifcation code has been sent to
    your mobile number

    Please enter the verification code below

Newsletter Signup
Follow us on
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK
X

Register to view Complete PDF