Search

UPPSC UPPCS Mains Exam 2010 General Hindi Question Paper

The General Hindi Question Paper of UPPSC UPPCS Main Exam is a compulsory paper for all irrespective of the medium of the candidate. The Marks of General Hindi Question paper is counted in the Final Merit of the UPPCS Exam hence it is a very important paper for the UPPCS Main Exam. Here is the UPPCS 2010 General Hindi Question Paper for the candidates

Aug 25, 2016 11:05 IST
facebook IconTwitter IconWhatsapp Icon

The General Hindi Question Paper of UPPSC UPPCS Main Exam is a compulsory paper for all irrespective of the medium of the candidate. The Marks of General Hindi Question paper is counted in the Final Merit of the UPPCS Exam hence it is a very important paper for the UPPCS Main Exam. Here is the UPPCS 2010 General Hindi Question Paper for the candidates

                     U.P.P.C.S. (Main) Exam – 2010 Question Paper
                                               सामन्य हिंदी
                                     GENERAL HINDI             

[निर्धारित समय : 3 घंटे ]                                                                                [ पूर्णाक : 150 अकं]

नोट : (i) सभी प्रश्न अनिवार्य हैं (ii) प्रत्येक प्रश्न के अंक उसके अंत में अंकित हैं। (iii) पत्र अथवा प्राथना-पत्र आदि के अंत में अपना नाम अथवा अनुक्रमांक न लिखें आवश्यकता होने पर क, ख, ग अथवा X,Y, Z लिख सकते हैं।

1.    लोक-कल्याण तथा आत्म-कल्याण दोनों की दृष्टि से कबीर और गांधी दोनों ने गरीबी को अपनाया है। आध्यात्मिक जीवन की एक बहुत बड़ी आवश्यकता है गोलमेज-कान्फ्रेंस के दिनों में जिस समय गांधीजी लन्दन में गरीबी पर व्याख्यान दे रहे थे,उस समय ऐसा जान पड़ता था,मनो उनके मुहँ से कबीर बोल रहे है। आध्यात्मिक अर्थ में अर्थ-संकट का नाम गरीबी नि है, जो मनुष्य की इच्छा के विरुध्द उसके ऊपर आघहराती है। वह तो एक स्वयं आमंत्रित अव्यवस्था है,जिसमे मनुष्य अपने को शून्य में परिणत कर देता है। गरीबी में गर्व के बिना आत्म-प्रतिष्ठा,मूर्खता के बिना सरलता और गुलामी के बिना विनय प्रतिष्ठित है। इस गरीबी में धन के प्रति एक मानसिक समरिथती हती है,जिसके संतोष और त्याग दो पक्ष है। कबीर और गांधी के समान दिन न आर्थाभाव से दुःखी हो सकते है और न धनागम से भयभीत। धनाभाव से दुःख उसी को हो सकता है,जो धन में ही सुख की अवस्थिती मानता है और जनता है की आते हुए धन की नाव में भरे आते हुए पानी के समान दोनों हाथों से परोपकार के लिए उलीच देना चाहिए,वह धन के आने से भयभीत क्यों होने लगा?

(क)    उपर्युक्त ग्घ्द्यांश का भावार्थ अपने शब्दों में लिखिए।    5

(ख)    आध्यात्मिक दृष्टि से गरीबी क्या है ? स्पष्ट कीजिए।    5

(ग)    उपर्युक्त ग्घ्द्यांश के रेखांकित अंशो की व्याख्या कीजिए।    20

2    बाजारवाद का सबसे खतरनाक खेल है इन्सानी अनुभूतियों का पूरी तरह हनन क्र व्यक्ति को मशीन में परिवर्तित कर देना। आज चारों तरफ मशीन मनुष्यों के चेहरे नजर आते है,जिनके ऊपर मानवीय अनुभूतियों की चमक गायब है। बाजार की ताकतें उसे निरन्तर प्रलोभन के जाल में उलझाकर,वस्तुओं का गुलाम बनाने की और धकेलती है। इस तरह वे एक एसी सामूहिक मानसिकता का निर्माण करती है, जिससे व्यक्ति और समाज अपनी मौलिक रूप से सोचने और सृजित करने की शक्ति खोता चला जाये। आदमी का ध्येय हो जाता है कि वह पूरे जीवन में सामान जुटाता और बदलता रहे, जिससे बाज़ार की ताकतों का प्रभुत्व दुनिया पर कायम रह सके। लेकिन इससे व्यक्ति और राष्ट्रों की आत्मिक संस्कृती का क्षरण हो कर लुप्त होने का खतरा बढ़ जाता है। ऐसे वातावरण में व्यक्ति किसी सृजनात्मक,कलात्मक और मौलिक चिन्तन की तरह कुछ करना तो दूर सोच भी नही सकता। व्यक्ति का रूपांतरण बाजार में हो जाता है और बाजार का व्यक्ति में।

(क)    ऊपर लिखे गये ग्घ्द्यंश का उचित शीर्षक दीजिए।    5

(ख)    संक्षेपण संबंधी सावधानियों का उल्लेख कीजिए।    5

(ग)    उपर्युक्त अवतरण का संक्षेपण एक तिहाई शब्दों में कीजिए।    20

3. (क) भारत सरकार के सुचना प्रसारण मंत्रालय के उप सचिव को अर्जित अवकाश प्रदान किये जाने की अधिसूचना का प्रारूप प्रस्तुत कीजिए।    10

    (ख) अर्ध्द सरकारी पत्र के उदेद्श्य और रचना-शैली की विशेषताओं का उल्लेख करते हुए एह नमूना प्रस्तुत कीजिए।    10

4.(क) (i) निमनलिखित शब्दों के उपसर्ग और मूल शब्द अलग-अलग छाँटिये:

                 उनसठ,दुबला,निक्कमा,लाचार,नादान।    5

           (ii) निमनलिखित शब्दों के मूल शब्द और प्रत्यय अलग कीजिए:    10

                मिठाई,लुटेरा,खंडहर,पथरीला,इकहरा।

(ख)    नीचे दिए शब्दों के विलोम शब्द लिखिए:    10

 अर्पित, उन्मुख, उपचार, कृत्रिम, जोड़, तृष्णा, थोक, घृष्ट, भूगोल, विधि।

(ग)    निम्नांकित शब्द-समूहों के लिए एक-एक शब्द लिखिए:
(i)    जिसे जानने की इच्छा है।    10
(ii)    पृथ्वी से सम्बद्ध।
(iii)    जो पूर्व में था,पर अभी नही है।
(iv)    जो कठिनाई से मिलता है।
(v)    जो आँखों से परे है।

(घ) (i) निमनलिखित शब्दों की वर्तनी को शुद्ध कीजिए:    5
     अनाधिकार,सन्यासी,चमोत्कर्ष,आधिन,कवियित्री।

(ii)    नीचे दिए वाक्यों को शुद्ध कीजिए:

(1)    उसने अपनी कमाई का अधिकांश भाग व्यर्थ गँवा दिया।
(2)    व्यक्ति को अपने समय का अच्छा सदुपयोग करना चाहिए।
(3)    मित्र कहाँ थे? इतने वर्षो के बिच दिखाई नही दिए।
(4)    मुम्बई हमले का अपराधी मृत्युदण्ड देने योग्य है।
(5)    छात्रों ने मुख्य अतिथि को मान पत्र प्रदान किया।

5. (क) मुहावरे और लोकोकित्ति का आशय स्पष्ट करते हुए मुहावरे की विशेषताएँ बताइये।    10   

(ख) निचे लिखे मुहावरों और लोकोक्तियों का अर्थ बताकर उनका वाक्यों में प्रयोग कीजिए।    10

(i)    उल्लू सीधा करना।
(ii)    उडती चिड़िया पहचानना।
(iii)    एक का तीन बनाना।
(iv)    गाल बजाना।
(v)    घड़ों पानी पड जाना।
(vi)    घी कहाँ गिरा.खिचड़ी में।
(vii)    जैसी बहे बयार,पीठ तक तैसी दीजै।
(viii)    तू डाल-डाल मै पात-पात।
(ix)    नीम हकीम खतरे जान।
(x)    सब धान बाइस पसेरी।

Related Stories