Search

कारगिल विजय दिवस की 19वीं सालगिरह देश भर में मनायी गई

कारगिल विजय दिवस पर सारा देश युद्ध में जान न्यौछावर करने वाले शहीदों को याद कर रहा है. सबकी आंखों में शहीदों के लिए सम्मान झलक रहा है. कारगिल संघर्ष के दौरान शहीद हुए उन सैंकड़ों सैनिकों को स्मरण किया जाता है जिनकी बदौलत हमारी सीमा और देश की सुरक्षा हो सकी.

Jul 26, 2018 12:59 IST
facebook IconTwitter IconWhatsapp Icon

भारत में प्रत्येक वर्ष 26 जुलाई के दिन कारगिल विजय दिवस मनाया जाता है. इस दिन कारगिल संघर्ष में शहीद हुए सैनिकों को पूरे देश में श्रद्धांजलि अर्पित की जाती है.

कारगिल विजय दिवस पर सारा देश युद्ध में जान न्यौछावर करने वाले शहीदों को याद कर रहा है. सबकी आंखों में शहीदों के लिए सम्मान झलक रहा है. कारगिल संघर्ष के दौरान शहीद हुए उन सैंकड़ों सैनिकों को स्मरण किया जाता है जिनकी बदौलत हमारी सीमा और देश की सुरक्षा हो सकी.

 

कारगिल दिवस पर प्रधानमंत्री मोदी:

प्रधानमंत्री मोदी ने कारगिल विजय दिवस के अवसर पर शहीदों को याद करते हुए ट्वीट कर लिखा, 'कारगिल विजय दिवस पर राष्ट्र उन लोगों को श्रद्धांजलि अर्पित कर रहा है, जिन्होंने ऑपरेशन विजय के दौरान देश की सेवा की.

कारगिल विजय दिवस के अवसर पर सारा देश अपने वीर जवानों को याद कर रहा है. देश के विभिन्न हिस्सों में सेना के जवानों को श्रद्धांजलि दी जा रही है. इस अवसर पर दिल्ली में इंडिया गेट पर रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण, सेनाध्यक्ष जनरल बिपीन रावत, नौसेना अध्यक्ष एडमिरल सुनील लांबा, वायुसेना अध्यक्ष बिरेन्द्र सिंह धनोआ ने शहीदों को याद किया और उन्हें श्रद्धांजलि दी.

 

पृष्ठभूमि:

वर्ष 1999 में पाकिस्तानी सेना और कश्मीरी उग्रवादियों ने कारगिल में नियंत्रण रेखा पार कर भारत के नियंत्रण वाले क्षेत्र पर कब्ज़ा करने की कोशिश की थी जिससे दोनों देशों के बीच संघर्ष छिड़ गया. यह युद्ध मई से लेकर जुलाई तक चला. इसमें 26 जुलाई को भारत ने जीत हासिल की.

उसी दिन से 26 जुलाई के दिन कारगिल शहीदों को पूरे देश में श्रद्धांजलि दी जाती है तथा इस दिन को कारगिल विजय दिवस के रूप में याद किया जाता है. वर्ष 2018 को 19वां कारगिल विजय दिवस मनाया जा रहा है.

भारत की ओर से जारी एक बयान में कहा गया था कि इस कार्रवाई में सेना के 527 जवान शहीद हुए और लगभग 1363 घायल हुए थे.

 

कारगिल युद्ध:

कारगिल युद्ध 03 मई 1999 से शुरू हुआ लगभग ढाई महीने चला और 26 जुलाई 1999 को समाप्त हुआ. देशभर में सैनिक, पुलिस और आम लोग भी कारगिल विजय दिवस के दिन देशभक्ति कार्यक्रमों का आयोजन करते हैं.

युद्ध के बाद कैप्टन विक्रम बत्रा (मरणोपरांत), लेफ्टिनेंट मनोज कुमार पांडेय (मरणोपरांत), रायफलमैन संजय कुमार और ग्रेनेडियर योगेन्द्र सिंह यादव को भारत के उच्चतम वीरता पुरस्कार परम वीर चक्र से सम्मानित किया गया.

यह भी पढ़ें: विश्व युवा कौशल दिवस 2018 मनाया गया

 

Download our Current Affairs & GK app For exam preparation

डाउनलोड करें करेंट अफेयर्स ऐप एग्जाम की तैयारी के लिए

AndroidIOS