Search

दुधवा राष्ट्रीय उद्यान, 'द गार्डन ऑफ ईडन': तथ्यों पर एक नजर

दुधवा राष्ट्रीय उद्यान उत्तर प्रदेश के लखिमपुर खीरी और बहराइच जिलों में संरक्षित क्षेत्र है। यह 1,284.3 किमी (495.9 वर्ग मील) में फैला है समुद्र तल से इसकी ऊंचाई 110 से 185 मी (361 से 607 फीट) है। इसकी उत्तर– पूर्वी सीमा नेपाल से लगी है। यह राष्ट्रीय उद्यान विभिन्न प्रकार के पक्षियों का आवास स्थान है। इनमें जंगली तीतर, चरस (Bengal Florican) और ग्रेट स्लेटी कठफोड़वा (Great Slaty Woodpecker) शामिल हैं।
Jul 13, 2016 16:03 IST
facebook Iconfacebook Iconfacebook Icon

दुधवा राष्ट्रीय उद्यान उत्तर प्रदेश के लखिमपुर खीरी और बहराइच जिलों में संरक्षित क्षेत्र है। यह 1,284.3 किमी (495.9 वर्ग मील) में फैला है और इसमें तीन बड़े वन खंड आते हैं। इन वन खंडों के बीच में मुख्य रूप से खेती की जाती है। समुद्र तल से इसकी ऊंचाई 110 से 185 मी (361 से 607 फीट) है। इसकी उत्तर– पूर्वी सीमा नेपाल से लगी है। यह राष्ट्रीय उद्यान विभिन्न प्रकार के पक्षियों का आवास स्थान है। इनमें जंगली तीतर, चरस (Bengal Florican) और ग्रेट स्लेटी कठफोड़वा (Great Slaty Woodpecker) शामिल हैं।

दुधवा राष्ट्रीय उद्यान का स्थान-

Jagranjosh

Image source: dudhwa.co.in

दुधवा राष्ट्रीय उद्यान के पशुपक्षी-

Jagranjosh

तस्वीर स्रोत: dudhwa.co.in

संबंधित लेख पढ़ने के लिए नीचे दिए लिंक पर क्लिक करें...

Bandhavgarh National Park: The land of National Animal of India

दुधवा राष्ट्रीय उद्यानः मुख्य तथ्य

  1. दुधवा राष्ट्रीय उद्यान उत्तर प्रदेश का संरक्षित क्षेत्र है जो कि लखिमपुर खीरी और बहराइच जिलों में फैला है।
  2. यह 1,284.3 किमी (495.9 वर्ग मील) क्षेत्र को कवर करता है।
  3. इसकी उत्तर– पूर्वी सीमा नेपाल से लगी है, जो काफी हद तक मोहना नदी की वजह से है।
  4. समुद्र तल से इसकी ऊंचाई 110 से 185 मी (361  से 607 फीट) है।
  5. उद्यान में दलदल, घास के मैदान और घने जंगल हैं, यह इलाका मुख्य रूप से जंगली हिरण और बाघ की प्रजातियों के लिए प्रसिद्ध है।
  6. उद्यान के पांच प्रमुख आकर्षण हैं– बाघ, गैंडा, बारासिंगा (जंगली हिरण), मगरमच्छ और चरस (Bengal Florican)।
  7. यह राष्ट्रीय उद्यान विभिन्न प्रकार की पक्षियों का आवास स्थान है। इनमें जंगली तीतर, चरस (Bengal Florican) और ग्रेट स्लेटी कठफोड़वा (Great Slaty Woodpecker) शामिल हैं।
  8. अन्य वनस्पतियों के अलावा यह उद्यान दुनिया में 'साल' के सबसे अच्छे जंगलों में से एक है।

अन्य संबंधित लेखों के लिए नीचे लिंक पर क्लिक करें

Why Sundarban National Park is so popular: A factual Analysis

दुधवा राष्ट्रीय उद्यान जाने का सबसे अच्छा समय

दुधवा राष्ट्रीय उद्यान जाने का सबसे अच्छा समय नवंबर से मई के महीने के बीच है। यह उद्यान जनता के लिए 15 नवंबर से 15 जून तक खुला रहता है, हालांकि मई और जून का महीना घूमने के लिहाज से थोड़ा गर्म होता है। सर्दियों के मौसम खासकर दिसंबर से फरवरी, में उद्यान घूमने जाते समय अपने साथ गर्म कपड़े ले जाना न भूलें क्योंकि उस समय बहुत ठंड पड़ती है। 

कैसे पहुंचे ?

दुधवा राष्ट्रीय उद्यान सड़क मार्ग, रेल मार्ग या वायु मार्ग से पहुंचा जा सकता है। दुधवा रेलवे स्टेशन उद्यान से चार किलोमीटर की दूरी पर है जबकि नजदीकी हवाई अड्डा लखनऊ है। हवाई अड्डे या रेलवे स्टेशन से आप टैक्सी ले कर सड़क मार्ग से राष्ट्रीय उद्यान पहुंच सकते हैं।

अगर आप दिल्ली से उद्यान जाने की योजना बना रहे हैं, तो आपको 8-9 घंटे के करीब की यात्रा करनी होगी या आप शाहजहांपुर तक के लिए रेल मार्ग से जाएं और फिर वहां से उद्यान की दूरी सड़क मार्ग से 3 घंटे में पूरी करें। इसके अलावा, आप पहले लखनऊ भी जा सकते हैं और फिर दुधवा पार्क के लिए निकलें। दुधवा राष्ट्रीय उद्यान लखनऊ से करीब 245 किलोमीटर दूर है। 

यदि आप भारतीय अर्थव्यवस्था पर क्विज हल करना चाहते हैं तो नीचे लिंक पर क्लिक करें ..

अर्थव्यवस्था क्विज