Search

भारतीय इतिहास के विभिन्न युगों की सूची एवं प्राचीन भारतीय इतिहास का कालक्रम

इतिहास किसी विशेष व्यक्ति या वस्तु के साथ जुड़े हुए अतीत की घटनाओं की पूरी श्रृंखला है| भारतीय इतिहास के अंतर्गत भारतीय उपमहाद्वीप के प्रागैतिहासिक बस्तियों और समाज के अलावा भारतीय सभ्यता की उन्नति, विभिन्न भारतीय संस्कृति और परंपराओं का सम्मिश्रण एवं धार्मिक विचारधाराओं के विकास को शामिल किया गया है| यहाँ हम भारतीय इतिहास के विभिन्न युगों की सूची एवं प्राचीन भारतीय इतिहास के कालक्रम का विवरण दे रहे हैं जो UPSC, SSC, State Services, NDA, CDS और Railways जैसी प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी कर रहे छात्रों के लिए बहुत ही उपयोगी है|
Oct 20, 2016 11:03 IST
facebook Iconfacebook Iconfacebook Icon

इतिहास किसी विशेष व्यक्ति या वस्तु के साथ जुड़े हुए अतीत की घटनाओं की पूरी श्रृंखला है| भारतीय इतिहास के अंतर्गत भारतीय उपमहाद्वीप के प्रागैतिहासिक बस्तियों और समाज के अलावा भारतीय सभ्यता की उन्नति, विभिन्न भारतीय संस्कृति और परंपराओं का सम्मिश्रण एवं धार्मिक विचारधाराओं के विकास को शामिल किया गया है|

Jagranjosh

Source: wikimedia.org

यहाँ हम भारतीय इतिहास के विभिन्न युगों की सूची एवं प्राचीन भारतीय इतिहास के कालक्रम का विवरण दे रहे हैं जो UPSC, SSC, State Services, NDA, CDS और Railways जैसी प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी कर रहे छात्रों के लिए बहुत ही उपयोगी है|

भारतीय इतिहास के विभिन्न युगों की सूची

युग

संक्षिप्त विवरण

विक्रम संवत (56 .पू.)

इसकी शुरूआत उज्जैन के शासक राजा विक्रमादित्य ने शकों पर विजय प्राप्त करने के उपलक्ष्य में की थी|

शक संवत (78 .)

इसकी शुरूआत शक राजा द्वारा विक्रमादित्य के शासन के 137 वर्ष बाद उज्जैन पर पुनः विजय प्राप्त करने के उपलक्ष्य में की गई थी|

गुप्त संवत (320 .)

इसकी शुरूआत चन्द्रगुप्त I ने की थी|

हर्ष संवत (606 .)

इसकी शुरूआत कन्नौज के शासक हर्षवर्धन ने की थी और हर्षवर्धन की मृत्यु के बाद एक सदी तक यह उत्तर भारत में लोकप्रिय था|

कलचुरी संवत (248 .)

इसकी शुरूआत त्रिकूटक नामक एक छोटे राजवंश द्वारा की गई थी|

बंगाल का लक्ष्मण संवत (1119 .)

कुछ सूत्रों से पता चलता है कि राजा लक्ष्मण द्वारा इसकी शुरूआत की गई थी|

कलियुग की शुरूआत (3102 .पू.)

इसका प्रयोग धार्मिक तिथियों के लिए इस्तेमाल किया गया था और शायद ही कभी  राजनीतिक घटनाओं के लिए किया जाता है|

बौद्ध काल (544 .पू.)

इसका प्रयोग सीलोन में अक्सर धार्मिक कार्यों के लिए किया जाता था लेकिन इसकी शुरूआत की तिथि के बारे में सटीक जानकारी नहीं है|

महावीर काल (528 .पू.)

जैन सम्प्रदाय के लोग धार्मिक कार्यों के लिए इसका प्रयोग करते थे|

सप्तर्षि या लौकिक काल

इसका प्रयोग मध्यकाल में कश्मीर क्षेत्र में किया जाता था|

नेपाल का नेवर काल (878 .)

इसका प्रयोग नेपाल में किया जाता है|

केरल का कोल्लम संवत (825 .)

इसका प्रयोग केरल में किया जाता था|

चालुक्य शासक विक्रमादित्य VI का काल (1075 .)

इसका प्रयोग पूर्व मध्यकाल में किया जाता था|  

प्राचीन भारतीय इतिहास का कालक्रम

काल

समयावधि

पुरापाषाण काल

10000 ई.पू. तक

मध्यपाषाण काल

10000 से 4000 ई.पू.

नवपाषाण काल

5000 से 1800 ई.पू.

ताम्रपाषाण काल

1800 से 1000 ई.पू.

लौह युग

शुरूआत 1000 ई.पू. में

सिंधु घाटी सभ्यता

2900 से 1700 ई.पू.

वैदिक काल

1500 से 600 ई.पू.

पूर्व-मौर्य काल

छठी शताब्दी से चौथी शताब्दी ई.पू.

मौर्य काल

321 से 184 ई.पू.

मौर्योत्तर काल

200 ई.पू. से 300 ई.

गुप्त काल

चौथी शताब्दी से छठी शताब्दी ई.

हर्ष युग

606 से 647 ई.

बादामी के चालुक्य

543 से 755 ई.

काँचीपुरम के पल्लव

560 से 903 ई.