Search

रॉ के 7 प्रमुख ऑपरेशन

भारतीय खुफिया एजेंसी रॉ के बारे में बहुत कम ही लोगों को यह जानकारी है कि वह क्या काम करती है। आपको जानकर आश्चर्य होगा कि सिक्किम को भारत में शामिल करने का श्रेय बहुत हद तक रॉ को जाता है| इसके आलावा भारत के पहले परमाणु परीक्षण की सूचना को गुप्त रखने की जिम्मेवारी रॉ की थी| इस लेख में हम रॉ द्वारा किए गए 7 ऐसे ही ऑपरेशन का विवरण दे रहें है|
facebook Iconfacebook Iconfacebook Icon

रॉ (रिसर्च एंड एनालाइसिस विंग) का गठन 1962 के भारत-चीन युद्ध और 1965 के भारत-पाकिस्तान युद्ध के बाद किया गया था| रॉ का सिद्धांत धर्मो रक्षति रक्षितः” है, अर्थात “जो शख्स धर्म की रक्षा करता है, वह हमेशा सुरक्षित रहता हैं|” रॉ अपनी रिपोर्ट सीधे प्रधानमंत्री को भेजती है| इसके डायरेक्टर का चुनाव, सेक्रेटरी (रिसर्च) द्वारा होता हैं|  ऐसे प्रत्याशी जिनका चुनाव रक्षा बलों से होता है उन्हें इसमें शामिल होने से पहले अपने मूल विभाग से इस्तीफा देना आवश्यक हैं|

Jagranjosh
Source:www.upload.wikimedia.org.com

क्या आप जानते हैं कि सिक्किम को भारत में शामिल करने का श्रेय भी बहुत हद तक रॉ को जाता हैं। रॉ ने वहाँ के नागरिकों को भारत समर्थक (प्रो इंडियन) बनाने में अहम भूमिका निभाई थी| इसके आलावा भारत के परमाणु कार्यक्रम को गोपनीय रखना भी रॉ की जिम्मेदारी होती हैं| आपको यह जानकर आश्चर्य होगा कि रॉ में ड्यूटी पर तैनात अधिकारी को बंदूक नहीं मिलती है। वे बचाव के लिए अपनी तेज बुद्धि का इस्तेमाल करते हैं|

आएये अब रॉ के 8 प्रमुख ऑपरेशनों पर एक नज़र डालते हैं:

1. स्नैच ऑपरेशन

Jagranjosh

Source:www.topyaps.com
 
रॉ के इस ऑपरेशन के बारे में दुनिया को पता भी नहीं चलता, अगर खोजी पत्रिका ‘दी वीक ने इसके बारे में सूचना प्रकाशित नहीं किया होता। इस रिपोर्ट के मुताबिक भारत के दो शीर्ष खुफिया संस्थान रॉ और आईबी ने नेपाल, भूटान और बांग्लादेश में चार सौ से अधिक ठिकानों पर दबिश देकर लश्कर के कई आतंकवादियों का खात्मा किया था। ‘रिक महमूद’ और ‘शेख अब्दुल ख्वाजा’ जैसे मुम्बई हमले में शामिल आतंकवादियों को इस ऑपरेशन के तहत पकड़ा गया था| इस ऑपरेशन के तहत संदिग्ध व्यक्तियों को विदेशों में गिरफ्तार किया जाता है और भारत लाया जाता है| इसके बाद अज्ञात स्थलों पर उनसे पूछताछ की जाती है और अंततः औपचारिक रूप से एक हवाई अड्डे पर या सीमा चौकी पर उन्हें गिरफ्तार कर लिया जाता है|

2. स्माइलिंग बुद्धा

Jagranjosh

Source:www.insistpost.com

स्माइलिंग बुद्धा भारत के पहले परमाणु कार्यक्रम का नाम रखा गया था| यह वास्तव में बेहद खुफिया और गुप्त मिशन था। यह पहला वाकया था जब रॉ को भारत के अंदर किसी परियोजना में शामिल किया गया था| 18 मई, 1974 को भारत में सफलतापूर्वक 15 किलोटन प्लूटोनियम डिवाइस का पोखरण में परीक्षण किया गया था और भारत भी परमाणु-क्षमता वाले राष्ट्रों के विशिष्ट समूह का सदस्य बन गया था| रॉ की विशिष्ट कार्य योजना के कारण भारत में चल रहे इस परीक्षण के बारे में चीन और अमेरिका जैसे देशों की खुफिया एजेंसियों को भी पता नहीं चल सका था|

3. ऑपरेशन चाणक्य 

Jagranjosh

Source:www.cdn.deccanchronicle.com

कश्मीर में शांति बहाल करने के लिए और अलगाववादी समूहों के घुसपैठ को रोकने के लिए रॉ द्वारा इस ऑपरेशन को चलाया गया था| यह मिशन का उद्देश्य फुट डालो और विजय प्राप्त करोथी जो चाणक्य की नीति थी, इसीलिए इस ऑपरेशन का नाम ऑपरेशन चाणक्य रखा गया था| इस ऑपरेशन के द्वारा घाटी में आतंकवादी गतिविधियों को बेअसर करने में सफलता मिलीं थी| इसी ऑपरेशन के तहत रॉ के एक एजेंट को ISI के बीच में छोड़ दिया था और फिर रॉ के उस एजेंट  ने ISI के खिलाफ सबूतों को खोजा और उनमें फूट भी डाली जिसकी वजह से उन्ही के संगठन में भारत के कुछ समर्थक भी पैदा हो गये थे और आखिर में भारतीय सैनिकों ने उन पर विजय हासिल कर ली थी| इस ऑपरेशन के तहत आतंकवादी संगठन हिज्ब-उल-मुजाहिदीन  को विभाजित कर कश्मीर समर्थक भारतीय समूह बनाने में सफलता प्राप्त हुई थी|

जाति एवं क्षेत्र के आधार पर भारतीय सेना की प्रमुख रेजिमेंट

4. सिक्किम का भारत में विलय

Jagranjosh

Source:www.google.co.in

सिक्किम को भारत में शामिल करने का श्रेय बहुत हद तक रॉ को जाता है। रॉ ने वहाँ के नागरिकों को भारत समर्थक (प्रो इंडियन) बनाने में अहम भूमिका निभाई थी। जैसा की हम जानतें हैं कि भारत की आजादी के बाद भी सिक्किम इससे अलग था। इंदिरा गांधी ने 1972 में सिक्किम को अधिकृत रूप से भारतीय लोकतंत्र का हिस्सा बनाने की जिम्मेवारी रॉ को दी थी| रॉ के प्रयासों की वजह से ही 26 अप्रैल 1975 को अर्थात ठीक तीन साल बाद सिक्किम भारतीय संघ का 22वां राज्य बना था|

5. ऑपरेशन कैक्टस

Jagranjosh

Source:www.qph.ec.quoracdn.net.com

पीपुल्स लिबरेशन ऑफ तमिल ईलम (PLOTE) नामक एक तमिल आतंकवादी संगठन ने   नवंबर 1988 में मालदीव पर आक्रमण किया था| जिसके कारण मालदीव के राष्ट्रपति मौमून अब्दुल गयूम ने भारत से मदद मांगी थी| तत्कालीन प्रधानमंत्री राजीव गांधी ने भारतीय सेना के 1600 सैनिकों को मालदीव में व्यवस्था बहाल करने के लिए मालदीव के हुल्हुले द्वीप पर हवाई मार्ग से भेजने का आदेश दिया था और रॉ ने सेना को आवश्यक खुफिया सूचनाएं प्रदान की थी| अंततः भारतीय सैनिको ने कुछ ही घंटों के भीतर वहाँ शासन बहाल कर दिया था|

जाने सर्जिकल स्ट्राइक क्या है और कैसे होता है?

6. आपरेशन काहुटा

Jagranjosh

Source:www.google.co.in

यह ऑपरेशन बेहद ही साहसिक अभियान था। इस ऑपरेशन में रॉ ने पाकिस्तान के लॉन्ग रेंज मिसाइल प्रोग्राम का पता उस मिशन में लगे वैज्ञानिकों के बालों के माध्यम से लगा लिया था| रॉ एजेंट्स ने 1978 के पहले ही पकिस्तान के खूंखार परमाणु क्षमता से लैस होने की तैयारी का पता लगा लिया था, लेकिन यह मिशन देश के तत्कालीन नेतृत्व की कूटनीतिक खामी की वजह से कामयाब नहीं हो सका था|

7. ऑपरेशन मेघदूत

Jagranjosh

Source: www.topnews.in

1984 में रॉ ने भारतीय सेना को पाकिस्तान के बारे में एक मत्वपूर्ण जानकारी उपलब्ध करवाई थी जिसके अनुसार पाकिस्तान सियाचिन ग्लेशियर के साल्टोरो रिज पर कब्जा करने के लिए ऑपरेशन अबाबील नाम से आक्रमण की योजना बना रहा था| अतः भारतीय सेना ने ऑपरेशन मेघदूत की शुरूआत की थी और करीब 300 सैनिकों को साल्टोरो रिज में तैनात किया गया था| परिणामस्वरूप पाकिस्तान की सेना को पीछे हटना पड़ा था|

रॉ एजेंट (RAW Agents) की जीवनशैली से संबंधित कुछ रोचक तथ्य

Related Categories