Jagran Josh Logo

विश्व के स्थलीय बायोम क्षेत्र कौन से हैं

01-AUG-2018 14:49
    Terrestrial Biomes of the World HN

    बायोम (जीवोम) स्थलीय पारिस्थितिक तंत्र का ही एक प्रमुख भाग है। इसके अंतर्गत वनस्पति एवं जीवों के समस्त क्रियाशील समूह शामिल किये जाते हैं। किसी प्रदेश विशेष की जलवायु, मिट्टी आदि कारकों से सामंजस्य स्थापित कर जो जटिल जैव-समुदाय विकसित  होता है उसे ही ‘बायोम’ कहते हैं। विश्व में पांच स्थलीय बायोम क्षेत्र हैं जिसको भू-गर्भ जल की उपलब्धता और तापमान के आधार पर विभाजित किया गया हैं जिसकी चर्चा नीचे की गई है:

    1. वन बायोम

    ऐसा क्षेत्र जहाँ वृक्षों का घनत्व अत्यधिक रहता है उसे वन कहते हैं। जंगल या वन को विभिन्न मानदंडों पर परिभाषित किया जाता है। वन बायोम क्षेत्र को पांच उप-भागों में वर्गीकृत किया गया है जिसकी चर्चा नीचे की गई है:

    A. सदाहरित वन

    इस प्रकार के वन के पेड़ हमेशा हरे-भरे रहते है चाहे कोई भी मौसम हो, मतलब सदाबहार। इस वन क्षेत्र में न्यूनतम सामान्य वार्षिक वर्षा 175 cm (69 इंच) और 200 cm (79 इंच) के बीच होती है। औसत मासिक तापमान वर्ष के सभी महीनों के दौरान 18 ° से ऊपर होता है। धरती पर रहने वाले सभी पशुओं और पौधों की प्रजातियों की आधी संख्या इन सदाबहार वन में रहती है। इस तरह के वन क्षेत्रो को उप-समूहों में बांटा गया है जिसकी चर्चा नीचे की गयी है:

    (a) उष्णकटिबंधीय सदाबहार वर्षावन:  इस प्रकार के वन क्षेत्र भूमध्य रेखा और उष्णकटिबंधीय तटीय प्रदेशों में पाए जाते है। पृथ्वी का 12% भाग इसी प्रकार के वनों से ढँका हुआ हैं। इस प्रकार के वन में विश्व के सर्वाधिक विविधतापूर्ण जैव-सम्पदा वाले कठोर लकड़ियों वाले यथा महोगनी, आबनूस, रोजवुड और डेल्टाई भागों में मैंग्रोव के वन पाये जाते हैं।

    यहाँ हाथी, गैंडा, जंगली सुअर, शेर, घड़ियाल तथा बंदर व सांपों की अनेक प्रजातियां मिलती हैं। आमेजन बेसिन, कांगो बेसिन, अफ्रीका का गिनी तट, जावा-सुमात्रा आदि इन वनों के प्रमुख क्षेत्र हैं । ब्राजील में इन वनों को सेलवास कहा जाता है।

     (b) मध्य अक्षांशीय सदाबहार वन: इस प्रकार के वन क्षेत्र उपोष्ण प्रदेशों में महाद्वीपों के पूर्वी तटीय भागों में मिलती हैं। यहाँ प्रायः एक ही जाति वाले वृक्षों की प्रधानता पायी जाती है। चौड़ी पत्तीवाले कठोर लकड़ी ओक, लॉरेल, मैग्नेलिया, यूकेलिप्टस आदि के वन यहाँ प्रमुख हैं। दक्षिणी चीन, जापान, दक्षिण-पूर्व यूएसए और दक्षिणी ब्राजील आदि इसके प्रमुख क्षेत्र हैं।

    (c) भूमध्यसागरीय वन: इस प्रकार के वन मध्य अक्षांशों में महाद्वीपों के पश्चिमी सीमांतों पर शीतकालीन वर्षा प्रदेशों में मिलते हैं। कार्क, ओक, जैतून, चेस्टनट, पाइन जैसे प्रमुख वृक्ष पाए जाते हैं। इस बायोम में अग्नि से नष्ट न होने वाले पौधे और सूखे में रहने योग्य जंतु पाए जाते हैं।  भूमध्य सागरीय प्रदेश ‘सिट्रस फलों’ के लिए प्रसिद्ध इनमें अंगूर, नींबू, नारंगी, शहतूत, नाशपाती व अनार प्रमुख है। चैपेरल, लैवेन्डर, लॉरेल तथा अन्य सुगन्धित जड़ी-बूटियाँ (मैक्वीस) का भी यहां उत्पादन होता है।

    (d) शंकुधारी वन: इस प्रकार के वन उत्तरी ध्रुव के आसपास यूरोप, एशिया और उत्तरी अमेरिका के पहाड़ी क्षेत्रों में पाए जाते हैं। फर, हैमलॉक, स्पुस, देवदार और पाइन जैसे प्रमुख वृक्ष पाए जाते हैं ।

    महासागर अम्लीकरण क्या है और यह समुद्री पारिस्थितिक तंत्र को कैसे प्रभावित करता है?

    B. पर्णपाती वन

    इस वन क्षेत्र में 100 से 200 से.मी वर्षा होती है। इस वन के पेड़ की हर साल अपनी पत्तियां झड़ जाती हैं और फिर नमी गर्मियों में तथा ठंडी सर्दियों में इस क्षेत्र के पेड़ –पौधे फिर से पत्तो से लह-लाहा जाते हैं। इसे के दो प्रकार हैं जिनकी चर्चा नीचे की गई है:

    (a) मध्य अक्षांशीय पर्णपाती वन: इस प्रकार के बायोम क्षेत्र शीतल जलवायु के तटीय प्रदेशों में पाए जाते हैं । उत्तर-पूर्वी अमेरिका, दक्षिणी चिली आदि इसी वन के प्रकार से घीरा हुआ है। इन वनों के प्रमुख वृक्ष ओक, बीच, वालनट, मैपल, ऐश, चेस्टनट आदि हैं । शीत ऋतु में ठंड से बचाव के लिए इनकी पत्तियाँ झड़ जाती हैं।

    (b) उष्णकटिबंधीय पर्णपाती या मानसून वन: इस प्रकार के वन एशिया, ब्राजील, मध्य अमेरिका और उत्तरी ऑस्ट्रेलिया में पाए जाते हैं। यहाँ सागवान, शीशम, साल, बाँस आदि प्रमुख वृक्ष पाए जाते हैं ।

    2. सवाना बायोम

    इस क्षेत्र में आर्द्र-शुष्क उष्णकटिबंधीय जलवायु पायी जाती है । यह पार्कलैंड भूमि है जहाँ घासभूमियों के क्षेत्र में यत्र-तत्र कुछ वृक्ष रहते हैं। अफ्रीका, भारत, ब्राजील, पूर्वी आस्ट्रेलिया आदि इसके प्रमुख क्षेत्र हैं । वेनेजुएला में इस बायोम को लानोस कहा जाता है। इस बायोम क्षेत्र के पेड़-पौधो और जन्तुओं को सूखे को सहन करने की क्षमता होती है तथा वृक्षों में अधिक विविधता नहीं होती । यहाँ हाथी, दरियाई घोड़ा, जंगली भैंस, हिरण, जेब्रा, सिंह, चीता, तेंदुआ, गीदड़, घड़ियाल, हिप्पोपोटैमस, सांप, ऐमू व शुतुरमुर्ग मिलते है। यह प्रदेश ‘बड़े-बड़े शिकारों की भूमि’ के नाम से प्रसिद्ध है तथा विश्व प्रसिद्ध ‘जू’ है । मानवीय हस्तक्षेप के कारण इस क्षेत्र के पारिस्थितिक संतुलन पर विपरीत प्रभाव पड़ा है।

    विश्व में जैव विविधता के हॉटस्पॉट

    3.  घास भूमि बायोम

    इस प्रकार के बायोम में घास, फूल और जड़ी बूटी मिलती हैं। इसे दो उप-समूहों में विभाजित किया गया है जिन पर नीचे चर्चा की गई है:

    (a) अर्द्धशुष्क महाद्वीपीय घास भूमि: इस प्रकार के घास के मैदान को दक्षिण अफ्रीका में वेल्ड कहा जाता है, ब्राजील में कैम्पोस, और उत्तरी अमेरिका, यूरोप और रूस में स्टेपी कहा जाता है।

    (b) मध्य अक्षांश आद्र घास भूमि: इस प्रकार का बायोम, उपोष्ण आर्द्र जलवायु प्रदेशों में पाए जाते हैं जहा लंबी एवं सघन घास के मैदान होते हैं। उत्तरी अमेरिका में इन्हें प्रेयरी, दक्षिणी अमेरिका में पम्पास, आस्ट्रेलिया में डाउन्स, न्यूजीलैंड में कैंटरबरी और हंगरी में पुस्टाज कहते हैं।

    जैव विविधता से संबंधित अंतर्राष्ट्रीय संगठनों और सम्मेलनों की सूची

    4. मरुस्थलीय बायोम

    यहाँ वनस्पतियों का प्राय: अभाव होता है। केवल छोटी झाड़ीयां, नागफनी, बबूल, ख़जूर, खेजड़ी आदि वनस्पतियाँ मिलती हैं।

    5. टुन्ड्रा बायोम

    60 उत्तर अक्षांश से ऊपर के एशियाई, यूरोपीय तथा उत्तर अमेरिकी भागों में वनस्पतियाँ अत्यंत वियरल हैं। इस बायोम क्षेत्र में वृक्षों की वृद्धि कम तापमान और बढ़ने के अपेक्षाकृत छोटे मौसम के कारण प्रभावित होती है। टुंड्रा शब्द फिनिश भाषा से आया है जिसका अर्थ “ऊँची भूमि”, “वृक्षविहीन पर्वतीय रास्ता” होता है। टुंड्रा प्रदेशों के तीन प्रकार हैं: आर्कटिक टुंड्रा, अल्पाइन टुंड्रा और अंटार्कटिक टुंड्रा। टुंड्रा प्रदेशों की वनस्पति मुख्यत: बौनी झाड़ियां, दलदली पौधे, घास, काई और लाइकेन से मिलकर बनती है।

    पर्यावरण और पारिस्थितिकीय: समग्र अध्ययन सामग्री

      Latest Videos

      Register to get FREE updates

        All Fields Mandatory
      • (Ex:9123456789)
      • Please Select Your Interest
      • Please specify

      • ajax-loader
      • A verifcation code has been sent to
        your mobile number

        Please enter the verification code below

      Newsletter Signup
      Follow us on
      This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK