1. Home
  2. Hindi
  3. BPSC 68th Exam: मार्किंग पैटर्न में हुआ बदलाव, साथ ही अप्लाई डेट भी हुई एक्सटेंड

BPSC 68th Exam: मार्किंग पैटर्न में हुआ बदलाव, साथ ही अप्लाई डेट भी हुई एक्सटेंड

बिहार लोक सेवा आयोग ने एक नोटिस जारी कर सूचना दी है कि 68वीं BPSC परीक्षा में अब नेगेटिव मार्किंग की जायेगी, साथ ही आयोग ने आवेदन की आखिरी तारीख भी बढ़ा दी है.

BPSC 68th Exam
BPSC 68th Exam

BPSC 68th Exam: बिहार लोक सेवा आयोग ने 68वीं BPSC परीक्षा के लिए आवेदन की आखिरी तारीख बढ़ा दी है जो उम्मीदवार अभी तक आवेदन नहीं कर पाए थे वो अब 30 दिसम्बर 2022 तक आवेदन कर सकते हैं. साथ ही आयोग ने नोटिफिकेशन जारी कर अब प्री और मेंस की परीक्षा के मार्किंग पैटर्न में भी बदलाव की घोषणा की है. अब प्री और मेंस दोनों ही परीक्षाओं में नेगेटिव मार्किंग की जायेगी. ये बदलाव आयोग ने छात्रों से मांगे गए परामर्श के आधार पर लागू किया है. 

बिहार लोक सेवा आयोग ने 68वीं BPSC परीक्षा के लिए आवेदन की अंतिम तिथि 20 दिसम्बर 2022 निर्धारित की थी  आयोग ने अब आवेदन की अंतिम तिथि 10 दिन बढ़ा कर 30 दिसम्बर 2022 कर दी है. जो उम्मीदवार इस परीक्षा के लिए अभी तक आवेदन नहीं कर पाए थे उनके पास आवेदन का सुनहरा मौका है. 

साथ ही आयोग ने परीक्षा के मार्किंग सिस्टम में भी बदलाव किया अब प्री और मेंस दोनों ही परीक्षा में नेगटिव मार्किंग की जाएगी. साथ ही अब निबंध लेखन भी अलग से होगा. आयोग ने जानकारी देते हुए बताया है कि अब हर गलत उत्तर पर एक चौथाई अंक (0.25) कटेगा और 4 प्रश्नों के गलत उत्तर देने में 1 अंक कट जाएगा. प्रीलिम्स परीक्षा में 150 प्रश्न पूछें जायेगें हर प्रश्न के लिए 1 अंक निर्धारित होगा. जबकि जिस प्रश्न का उम्मीदवार उत्तर नहीं देंगे उसके लिए कोई अंक नहीं कटेगा. 

अब सामान्य हिंदी में 30 अंक लाना अनिवार्य होगा 

मुख्य परीक्षा में, चार सब्जेक्टिव प्रकार और एक MCQ आधारित परीक्षा आयोजित होगी। सभी परीक्षाएं तीन घंटे की अवधि में होंगी. नये पैटर्न के अनुसार, सामान्य हिंदी परीक्षा में उमीदवारों को 100 में से 30 अंक लाना अनिवार्य होगा लेकिन ये सिर्फ क्वालीफाइंग होगी अर्थात इस परीक्षा के अंक मेरिट में नहीं जोड़े जायेंगे. इसी तरह, ऑप्शनल पेपर भी क्वालीफाइंग होगा और इसमें ऑब्जेक्टिव प्रकार के प्रश्न पूंछे जायेंगे. 

मेंस परीक्षा की कट-ऑफ जीएस पेपर-I, जीएस पेपर-II और निबंध के अंकों के आधार पर तय की जाएगी. जीएस पेपर-1 और जीएस पेपर-2 तीन-तीन सौ अंकों का होगा, जबकि इस बार निबन्ध लेखन का पेपर अलग से आयोजित किया जाएगा और ये भी तीन घंटे का होगा. इन तीनों के आधार पर ही मेरिट लिस्ट तैयार की जायेगी. 

वैकल्पिक परीक्षा में सामान्य वर्ग के उम्मीदवारों को 100 में से 40 प्रतिशत अंक, पिछड़ा वर्ग के उम्मीदवारों के लिए 36.5 प्रतिशत अंक, अत्यंत पिछड़ा वर्ग के लिए 34 प्रतिशत अनुसूचित जाति, जनजाति महिला और दिव्यांगों के लिए 32 प्रतिशत अंक लाना अनिवार्य है.