1. Home
  2. Hindi
  3. ओडिशा को मिला UN-वर्ल्ड हैबिटेट अवार्ड्स 2023, जानें किस पहल के लिए मिला अवार्ड

ओडिशा को मिला UN-वर्ल्ड हैबिटेट अवार्ड्स 2023, जानें किस पहल के लिए मिला अवार्ड

ओडिशा राज्य ने हाल ही में अपनी 5T पहल जगा मिशन (Jaga Mission) के लिए यूएन-वर्ल्ड हैबिटेट अवार्ड्स 2023 (UN-Habitat's World Habitat Awards 2023) जीता है. जगा मिशन, ओडिशा में चलाया जा रहा एक स्लम उपग्रेडिंग प्रोग्राम (slum upgrading program) है. 

ओडिशा को मिला यूएन-वर्ल्ड हैबिटेट अवार्ड्स 2023
ओडिशा को मिला यूएन-वर्ल्ड हैबिटेट अवार्ड्स 2023

World Habitat Awards 2023: ओडिशा राज्य ने हाल ही में अपनी 5T पहल जगा मिशन (Jaga Mission) के लिए यूएन-हैबिटेट वर्ल्ड हैबिटेट अवार्ड्स 2023 (UN-Habitat's World Habitat Awards 2023) जीता है. इस पहल ने यह अवार्ड दूसरी बार जीता है. 

जगा मिशन, ओडिशा में चलाया जा रहा एक स्लम उपग्रेडिंग प्रोग्राम (slum upgrading program) है. जिसकी मदद से झुग्गीवासियों के जीवन को सशक्त बनाया जा रहा है.  

'जगा मिशन' के बारें में:

जगा मिशन ओडिशा सरकार द्वारा चलाया जा रहा एक स्लम उपग्रेडिंग प्रोग्राम है. जिसके तहत उनको जीवन की मुख्यधारा में लाने का प्रयास किया जा रहा है. मुख्यमंत्री नवीन पटनायक के नेतृत्व वाली सरकार ने इस पहल की शुरुआत की थी. ओडिशा सरकार ने 2018 को अपनी तरह की इस पहली परियोजना को शुरू किया था. 

इसके तहत 2,919 स्लम एरिया को अपग्रेड करने के लिए यह कार्यक्रम चलाया जा रहा है. इसका लक्ष्य ओडिशा राज्य को भारत का पहला स्लम फ्री स्टेट बनाने का है. 

जगा मिशन इससे पूर्व 2019 में यूएन-हैबिटेट, वर्ल्ड हैबिटेट अवार्ड्स जीत चुका है. साथ ही इस पहल को 'भारत भू-स्थानिक उत्कृष्टता पुरस्कार' ('India Geospatial Excellence Award') भी मिल चुका है.  

वर्ल्ड हैबिटेट अवार्ड्स: 

वर्ल्ड हैबिटेट अवार्ड्स दुनिया भर चलये जा रहे इनोवेटिव प्रोग्राम, सर्वोत्तम आवास योजनाओं, और किसी समुदाय विशेष का जीवन सशक्त बनाने के लिए चलाये जा रहे प्रोग्राम को मान्यता और पहचान देने के लिए वर्ल्ड हैबिटेट अवार्ड्स दिया जाता है.   

पिछले कुछ वर्षों में 360 से अधिक आउटस्टैंडिंग वर्ल्ड हैबिटेट अवार्ड्स प्रोजेक्ट को मान्यता दी गई है, जो लोगों के जीवन को सशक्त बनाने के लिए चलाये जा रहे है. 

प्रत्येक वर्ष दो विजेताओं को £10,000 (प्रत्येक को) और एक ट्रॉफी प्रदान की जाती है, जिसे ग्लोबल UN-Habitat कार्यक्रम में प्रस्तुत भी किया जाता है.

यूएन-हैबिटेट: 

संयुक्त राष्ट्र आवास कार्यक्रम (UN-Habita) शहरी विकास के लिए एक ग्लोबल पहल है जो स्थायी मानव बस्तियों को बढ़ावा देने का कार्य करती है. इसकी स्थापना 1978 में की गयी थी. भारत भी इसका सदस्य है. इसका मुख्यालय केन्या की राजधानी नैरोबी में स्थित है.  

भारत में UN-Habitat के लिए नोडल एजेंसी आवास और शहरी कार्य मंत्रालय है. यूएन-हैबिटेट का एक क्षेत्रीय कार्यालय नई दिल्ली में भी स्थित है जिसकी स्थापना 1991 में की गयी थी.  

इसे भी पढ़े:

स्टीव स्मिथ ने टेस्ट सेंचुरी के मामलें में सर डॉन ब्रैडमैन को पीछे छोड़ा, जानें कौन ऑस्ट्रेलियाई है उनसे आगे