Jagran Josh Logo
  1. Home
  2. |  
  3. Board Exams|  

UP Board Class 12th Chemistry Syllabus 2018–2019

Apr 6, 2018 13:03 IST
  • Read in hindi
UP Board Class 12th Chemistry Syllabus
UP Board Class 12th Chemistry Syllabus

Find revised syllabus of Chemistry subject for UP Board Class 12 academic session 2018-2019. With this article, students can access the complete revised syllabus along with other details important for Class 12 Chemistry subject.

Since previous year students of class 12th UP Board were supposed to take two written exam of Chemistry subject where each paper comprising of 50 marks, but now due to syllabus change, students of UP Board class 12 have to give only one written exam comprising of 70 marks with the time duration of 3 hours.

In this syllabus you will find:

• Complete course structure of Class 12 Chemistry subject.

• Name of the Units and their weightage in Board Exam.

• Details of topics and sub-topics to be covered in each unit.

• Practical: Evaluation Scheme and List of experiments.

• Question Paper Design for UP Board Class 12th Chemistry Board Exam (2018 - 19).

The complete revised syllabus is as follows:

 

कक्षा – 12 रसायन विज्ञान सिलेबस

प्रश्न पत्र बनाने की योजना

बहुविकल्पीय क, ख, ग, घ, ड, च

1 X 6

06

क, ख, ग, घ, (प्रत्येक प्रश्न 2 अंक)

2 X 4

08

क, ख, ग, घ, (प्रत्येक प्रश्न 2 अंक)

2 X 4

08

क, ख, ग, घ, (प्रत्येक प्रश्न 3 अंक)

3 X 4

12

क, ख, ग, घ, (प्रत्येक प्रश्न 4 अंक)

4 X 4

16

क, ख, (प्रत्येक प्रश्न 5 अंक)

5 X 2

10

क, ख, (प्रत्येक प्रश्न 5 अंक)

5 X 2

10


योग :

70

नोट: (1) प्रश्न 6 व 7 में अथवा प्रश्न भी होंगें|

     (2) कम से कम 12 अंक के आंकिक प्रश्न पूछे जाये

जानिये JEE Main परीक्षा 2018 के प्रश्न पत्र को हल करने की बेस्ट टेक्निक

कक्षा – 12 रासायन विज्ञान

समय – 3:00 घंटा               

केवल प्रश्न पत्र                              

अंक 70

इकाई

शीर्षक

अंक

1.

ठोस अवस्था

03

2.

विलयन

05

3.

वैधुत रसायन

05

4.

रासायनिक बलगतिकी

05

5.

पृष्ठ रसायन

04

6.

तत्वों के निष्कर्षण के सिद्धान्त एवं प्रक्रम

04

7.

p- ब्लाक के तत्व

07

8.

d. और f – ब्लाक के तत्व

03

9.

उपसहसंयोजन यौगिक

04

10

हैलोएल्केन और हैलोएरिन

04

11.

ऐल्कोहाल, फिनाल और ईथर

05

12.

एलिडडाइड कीटोन, कार्बोक्सिलिक अम्ल

05

13.

नाइट्रोजनयुक्त कार्बनिक यौगिक

04

14.

जैव अणु

06

15.

बहुलक

03

16.

दैनिक जीवन में रासायन

03


योग

70

इकाई 1. ठोस अवस्था (03 अंक)

विभिन्न बंधन बलों के आधार पर ठोसों का वर्गीकरण – आणविक, आयनिक, सह संयोजक और धात्विक ठोस, अक्रिस्त्लीय और क्रिस्टलीय ठोस (प्रारम्भिक परिचय), दिविमीय एवं त्रिमिमीय क्रिस्टल जालक एवं एकक कोष्ठिकायें, संकुलन क्षमता, एकक कोष्ठिका के घनत्व का परिकलन, ठोसों में संकुलन रिक्तियाँ, घनीय एकक कोष्ठिका में प्रति एकक कोष्ठिका परमाणुओं की संख्या, बिन्दु दोष विधुतीय एवं चुम्बकीय गुण धातुओं का बैंड सिद्धान्त, चालक, अर्द्धचालक तथा कुचालक एवं n और p प्रकार के अर्द्धचालक|
इकाई 2. विलयन (05 अंक)
विलयनों के प्रकार, ठोसों के द्रवों में बने विलयन की सान्द्रता को व्यक्त करना, गैसों की द्रवों में विलेयता, ठोस विलयन, अणु संख्या, गुणधर्म-वाष्प दाब का आपेक्षिक अवनमन, राउल्ट का नियम, क्वथनांक का उनयन, हिमांक का अवनमन, परासरण दाब, अणु संख्या गुणधर्मों द्वारा आण्विक द्रव्यमान ज्ञात करना, असामान्य आण्विक द्रव्यमान, वान्ट हाफ गुणांक एवं उस पर आधारित गणनायें।
इकाई 3. वैद्युत् रसायन (05 अंक)
ऑक्सीकरण-अपचयन अभिक्रियायें, वैद्युत् अपघटनी विलयनों का तालकत्व, विशिष्ट एवं मोलर चालकता, सान्द्रता के साथ चालकत्व में परिवर्तन, कोलराउश नियम, वैद्युत् अपघटन और् वैद्युत् अपघटन के नियम (प्रारम्भिक विचार) शुष्क सेल, वैद्युत् अपघटनी सेल और गैल्वनी सेल, शीशा संचायक सेल, सेल का विद्युत् वाहक बल, मानक इलेक्ट्रोड विभव, नर्स्ट समीकरण और रासायनिक सेलों में इसका अनुप्रयोग, ईंधन सेल, संक्षारण।
इकाई 4. रासायनिक बलगतिकी (05 अंक)
अभिक्रिया का वेग (औसत और तात्क्षणिक), अभिक्रिया वेग को प्रभावित करने वाले कारक-सान्द्रता, ताप, उत्प्रेरक, अभिक्रिया की कोटि और आण्विकता, वेग नियम और विशिष्ट दर स्थिराँक, समाकलित वेग समीकरण और अर्द्धआयु (केवल शून्य और प्रथम कोटि की अभिक्रियाओं के लिये) संघट्ट सिद्धान्त की अवधारणा (प्रारम्भिक परिचय, गणितीय विवेचना नहीं) सक्रियण ऊर्जा, आरहेनियस समीकरण।

क्या हो सकती है JEE Main 2018 की कट-ऑफ? जाने इस लेख में

इकाई 5. पृष्ठ रसायन (04 अंक)
अधिशोषण-भौतिक अधिशोषण और रसोधशोषण, ठोसों पर गैसों के अधिशोषण को प्रभावित करने वाले कारक, उत्प्रेरक समांगी एवं विषमांगी, सक्रियता और चयनात्मकता, एन्जाइम उत्प्रेरण कोलायडी अवस्था, कोलॉयड, वास्तविक विलयन एवं निलम्बन में विभेद, द्रवरागी, द्रवविरागी, बहुआणदिक और वृहत् आण्विक कोलाइड, कोलाइडों के गुणधर्म, टिण्डल प्रभाव, ब्राउनीगति, वैद्युत्कण संचलन, स्कंदन, पायस-पायसों के प्रकार, नैनों पदार्थों का प्रारम्भिक विचार।
इकाई 6. तत्वों के निष्कर्षण के सिद्धान्त एवं प्रक्रम (04 अंक)
निष्कर्षण के सिद्धान्त एवं विधियाँ-सान्द्रण, ऑक्सीकरण, अपचयन वैद्युत् अपघटनी विधि और शोधन, एल्युमिनियम, कॉपर, जिंक और आयरन की उपलब्धता एवं निष्कर्षण के सिद्धान्त। Pb, Sn, Ag, Au के निष्कर्षण के सिद्धान्त।
इकाई 7. p ब्लॉक के तत्व-(वर्ग 15, 16, 17, 18) (07 अंक)
वर्ग 15 के तत्व– सामान्य परिचय, इलेक्ट्रॉनिक विन्यास, उपलब्धता, ऑक्सीकरण अवस्थायें, भौतिक और रासायनिक गुणों में प्रवृतियाँ, नाइट्रोजन-विरचन, गुणधर्म और उपयोग, नाइट्रोजन के यौगिक-अमोनिया और नाइट्रिक अम्ल का विरचन तथा गुणधर्म, नाइट्रोजन के ऑक्साइड (केवल संरचना) फास्फोरस-अपरूप, फास्फोरस के यौगिक-फास्फीन, हैलाइडों (Pcl3, Pcl5)  का विरचन और गुणधर्म और ऑक्सीअम्लों का (केवल प्रारम्भिक परिचय)।
वर्ग 16 के तत्व– सामान्य परिचय, इलेक्ट्रॉनिक विन्यास, ऑक्सीकरण अवस्थायें, उपलब्धता, भौतिक और रासायनिक गुणों में प्रवृतियाँ, डाइऑक्सीजन-विरचन, गुणधर्म और उपयोग, ऑक्साइडों का वर्गीकरण, ओजोन, सल्फर-अपरूप, सल्फर के यौगिक- H2S, सल्फर डाइ ऑक्साइड का विरचन, गुणधर्म और उपयोग, सल्फ्यूरिक अम्ल-औद्योगिक उत्पादन का प्रक्रम गुणधर्म और उपयोग, सल्फर के ऑक्सो अम्ल (केवल संरचनायें) सोडियम थायोसल्फेट।
वर्ग 17 के तत्व– सामान्य परिचय, इलेक्ट्रॉनिक विन्यास, ऑक्सीकरण अवस्थायें, उपलब्धता, भौतिक और रासायनिक गुणों में प्रवृतियाँ, हैलोजनों के यौगिक, क्लोरीन और हाइड्रोक्लोरिक अम्ल का विरचन, गुणधर्म और उपयोग, अंतर्राहलोजन यौगिक, हैलोजन के आक्साइड, हैलोजनों के ऑक्सी अम्ल (केवल संरचनायें)। विरंजक चूर्ण।
वर्ग 18 के तत्व– Xe के यौगिक सामान्य परिचय इलेक्ट्रॉनिक विन्यास, उपलब्धता, भैतिक और रासायनिक गुणधर्मों में प्रवृतियाँ, उपयोग।
इकाई 8. d और f ब्लॉक के तत्व (03 अंक)
सामान्य परिचय, इलेक्ट्रॉनिक विन्यास, संक्रमण धातुओं के अभिलक्षण और उपलब्धता, संक्रमण धातुओं की प्रथम श्रेणी के गुणधर्मों में सामान्य प्रवृत्तियाँ, धात्विक अभिलक्षण, आयनन एन्थैल्पी, ऑक्सीकरण अवस्थायें, आयनिक त्रिज्या, वर्ण, उत्प्रेरकीय गुण, चुम्बकीय गुणधर्म, अंतराकाशी यौगिक, मिश्रधातु बनाना,  k2Cr2O7 और kmno4 का विरचन, गुणधर्म।
लन्थेनाइड– इलेक्ट्रॉनिक विन्यास, ऑक्सीकरण अवस्थायें, रासायनिक अभिक्रियाशीलता, लैन्थेनाथड़े आकुंचन और इसके प्रभाव।
एक्टिनॉयड– इलेक्ट्रॉनिक विन्यास, ऑक्सीकरण अवस्थायें तथा लैन्थेनाइड से तुलना।
इकाई 9. उपसहसंयोजन यौगिक (04 अंक)
उपसहसंयोजन यौगिक-परिचय, लिगैन्ड, उपसहसंयोजन संख्या, वर्ण, चुम्बकीय गुणधर्म और आकृतियाँ, एक नाभिकीय उपसह संयोजन यौगिकों का IUPAC पद्धति से नामकरण, आबंधन, वर्नर का सिद्धात, VBT और CFT, संरचना एवं त्रिविम समावयवता, धातुओं के निष्कर्षण, गुणात्मक विश्लेषण और जैविक निकायों में उपसहसंयोजन यौगिकों का महत्व।

अंतिम समय में ज़रूर जानें कि कैसे की थी टॉपरों ने JEE एग्जाम की तैयारी

इकाई 10. हैलोएल्केन और हैलोएरीन (04 अंक)
हैलोएल्केन– नाम पद्धति, C-X आबंध की प्रकृति, भैतिक और रासायनिक गुणधर्म, प्रतिस्थापन अभिक्रियाओं की क्रियाविधि, कार्बोधनायन का स्थायित्व, R-S तथा D-L विन्यास क्लोरोफार्म के विरचन एवं भौतिक तथा रासायनिक गुणधर्म।
हैलोएरीन– C-X आबंध की प्रकृति, प्रतिस्थापन अभिक्रियायें (केवल मोनो प्रतिस्थापित यौगिकों में हैलोजन का दैशिक प्रभाव, कार्बोधनायन का स्थायित्व, R-S तथा D-L विन्यास) क्लोरोबेन्जीन के विरचन एवं भौतिक एवं रासायनिक गुणधर्म।
डाइक्लोरोमेथेन, ट्राइक्लोरोमेथेन, टेट्राक्लोरोमेथेन, आयडोफार्म, फ़िऑन और डी०डी०टी० के उपयोग और पर्यावरण पर प्रभाव।
इकाई-11. ऐल्कोहाल, फीनॉल और ईथर (05 अंक)
ऐल्कोहाल– नाम पद्धति, विरचन की विधियों, भौतिक और रासायनिक गुणधर्म (केवल प्राथमिक ऐल्कोहालों का) प्राथमिक, द्वितीयक एवं तृतीयक ऐल्कोहालों की पहचान करना, निर्जलन की क्रियाविधि, मेथनॉल एवं एथेनॉल के उपयोग।
फिनॉल– नाम पद्धति, विरचन की विधियों, भौतिक और रासायनिक गुणधर्म, फीनॉल की अम्लीय प्रकृति, इलेक्ट्रॉनरागी प्रतिस्थापन अभिक्रियाए, फीनॉल के उपयोग।
ईथर– नाम पद्धति, विरचन की विधियां, भौतिक और रासायनिक गुणधर्म उपयोग।
इकाई-12. ऐलीफैटिक ऐल्डिहाइड, कीटोन कार्बोक्सिलिक अम्ल एवं ऐरोमैटिक एल्डिटाइड एवं फोंदेसल्कि अम्ल (05 अंक)
ऐल्डिहाइड और कीटोन– नाम पद्धति, कार्बोनिल समूह की प्रकृति, विरचन की विधियां, भौतिक और रासायनिक गुणधर्म, नाभिकरागी योगात्मक अभिक्रिया की क्रिया विधि, ऐल्डिहाइडों के ऐल्फा हाइड्रोजन की क्रियाशीलता, उपयोग फार्मेन्डहोइड, एसिटेल्डीहाइड तथा ऐसीटोन की प्रयोगशाला विधि एवं गुणधर्म।
एसीटिक अम्ल– नाम आक्सेलिक, अम्लीय प्रकृति, विरचन की विधियां भौतिक और रासायनिक गुणधर्म, उपयोग फार्मिक अम्ल, एसिटिक अम्ल एवं आक्सेलिक अम्ल तथा बेनजोइक अम्ल के विरचन एवं गुण।
इकाई-13. नाइट्रोजन युक्त कार्बनिक यौगिक (04 अंक)
नाइट्रो यौगिक– विरचन की सामान्य विधियां और रासायनिक गुण (नाइट्रोबेनजीन)।
ऐमीन– नाम पद्धति, वर्गीकरण, संरचना, एथिल अमीन एवं एनिलीन विरचन की विधियां, भौतिक और रासायनिक गुणधर्म, उपयोग, प्राथमिक, द्वितीयक और तृतीयक ऐमीनों की पहचान करना।
सायनाइड और आइसोसायनाइड– उचित स्थानों पर संदर्भ में दिये जायेगें।
डाइऐजीनियम लवण– विरचन रासायनिक अभिक्रियाए तथा संश्लेषण, कार्बनिक रसायन में महत्व।
इकाई-14. जैव अणु (06 अंक)
कार्बोहाइड्रेट– वर्गीकरण (ऐल्डोज और कीटोज), मोनोसैकेराइड (ग्लूकोज और फ्रक्टोज), D-L विन्यास, ओलिगोसैकेराइड (सुक्रोज, लैक्टोज, माल्टीज) पॉलिसैकेराइड (स्टार्च, सेल्युलोज, ग्लाइकोजन) महत्व।
प्रोटीन– ऐमीनों अम्लों का प्रारम्भिक परिचय, ऐप्टाइड आवध, पॉलिपेप्टाइड, प्रोटीन, प्रोटीन की प्राथमिक संरचना, द्वितीयक संरचना, तृतीयक संरचना और चतुष्क संरचना (केवल गुणात्मक परिचय) प्रोटीनों का विकृतीकरण, एन्जाइम, लिपिड तथा हार्मोनों का वर्गीकरण एवं कार्य।
विटामिन– वर्गीकरण और प्रकार्य

न्यूक्लिक अम्ल– DNA और RNA

इकाई-15. बहुलक (03 अंक)

वर्गीकरण– प्राकृतिक और संश्लेषित, बहुलकन की विधियां (योग और संघनन), सहबहुलकन, कुछ महत्वपूर्ण बहुलक प्राकृतिक एवं संश्लेषित जैसे पॉलीथीन, नाइलॉन, पॉलिएस्टर, बैकेलाइट, रबड़। जैव अपघटनीय एवं अन अपघटनीय बहुलक।

इकाई 16 - दैनिक जीवन में रसायन (03 अंक) 1. ओषधियों में रसायन पीड़ाहारी, प्रशांतक, पूर्तिरोधी, विसंक्रामी, प्रति सूक्ष्म जैविक, प्रतिजनन क्षमता ओषधियों प्रति जैविक, प्रतिअम्ल, प्रतिहिस्टैमिन|
खाद्य पदार्थों में रसायन परीरक्षक, संश्लेषित मधुरक| प्रति आक्सीकारकों का प्राम्भिक परिचय|
अपमार्जक साबुन, संश्लिष्ट अपमार्जक, निर्मलन क्रिया|

 

chemistry syllabus 2018

class 12 chemistry syllabus 2018

class 12 chemistry updated syllabus

revised syllabus for chemistry subject

UP Board class 12 chemistry syllabus

Here students can see the complete format of last year Chemistry subject syllabus, So that they can easily understand the difference between them.

JEE Main 2018 के एग्जाम हॉल में प्रवेश करने से पहले ज़रूर ध्यान दे इन महत्वपूर्ण बातों पर

रसायन विज्ञान गत वर्ष का सिलेबस:

उत्तर प्रदेश माध्यमिक शिक्षा परिषद्, इलाहाबाद

कक्षा-12 रसायन विज्ञान

पाठ्यक्रम तथा पाठ्य–पुस्तकें

सामान्य तथा अकार्बिक रसायन

प्रथम प्रश्न–पत्र (35 अंक)

इकाई

शीर्षक

अंक

1.

रासायनिक बलगतिकी

05

2.

वैद्युत् रसायन

05

3.

रेडाक्स अभिक्रिया

04

4.

पृष्ठ रसायन

04

5.

तत्वों के निष्कर्षण के सिद्धान्त एवं प्रक्रम

03

6.

p ब्लॉक के तत्व- (वर्ग 15, 16, 17, 18)

07

7.

d और f ब्लॉक के तत्व

03

8.

उपसहसंयोजन यौगिक

04

इकाई 1. रासायनिक बलगतिकी (05 अंक)
अभिक्रिया का वेग (औसत और तात्क्षणिक), अभिक्रिया वेग को प्रभावित करने वाले कारक-सान्द्रता, ताप, उत्प्रेरक, अभिक्रिया की कोटि और आण्विकता, वेग नियम और विशिष्ट दर स्थिराँक, समाकलित वेग समीकरण और अर्द्धआयु (केवल शून्य और प्रथम कोटि की अभिक्रियाओं के लिये) संघट्ट सिद्धान्त की अवधारणा (प्रारम्भिक परिचय, गणितीय विवेचना नहीं) सक्रियण ऊर्जा, आरहेनियस समीकरण।
इकाई 2. वैद्युत् रसायन (05 अंक)
ऑक्सीकरण-अपचयन अभिक्रियायें, वैद्युत् अपघटनी विलयनों का तालकत्व, विशिष्ट एवं मोलर चालकता, सान्द्रता के साथ चालकत्व में परिवर्तन, कोलराउश नियम, वैद्युत् अपघटन और् वैद्युत् अपघटन के नियम (प्रारम्भिक विचार) शुष्क सेल, वैद्युत् अपघटनी सेल और गैल्वनी सेल, शीशा संचायक सेल, सेल का विद्युत् वाहक बल, मानक इलेक्ट्रोड विभव, नर्स्ट समीकरण और रासायनिक सेलों में इसका अनुप्रयोग, ईंधन सेल, संक्षारण।
इकाई 3. रेडाक्स अभिक्रिया (04 अंक)
आक्सीकरण और अपचयन की अवधारणा, आक्सीकरण अपचयन अभिक्रियायें, आक्सीकरण संख्या, आक्सीकरण अपचयन अभिक्रियाओं की रासायनिक समीकरण की संतुलित करना (इलेक्ट्रॉन संख्या एवं आक्सीकरण संख्या के आधार पर)।
इकाई 4. पृष्ठ रसायन (04 अंक)
अधिशोषण-भौतिक अधिशोषण और रसोधशोषण, ठोसों पर गैसों के अधिशोषण को प्रभावित करने वाले कारक, उत्प्रेरक समांगी एवं विषमांगी, सक्रियता और चयनात्मकता, एन्जाइम उत्प्रेरण कोलायडी अवस्था, कोलॉयड, वास्तविक विलयन एवं निलम्बन में विभेद, द्रवरागी, द्रवविरागी, बहुआणदिक और वृहत् आण्विक कोलाइड, कोलाइडों के गुणधर्म, टिण्डल प्रभाव, ब्राउनीगति, वैद्युत्कण संचलन, स्कंदन, पायस-पायसों के प्रकार, नैनों पदार्थों का प्रारम्भिक विचार।
इकाई 5. तत्वों के निष्कर्षण के सिद्धान्त एवं प्रक्रम (03 अंक)
निष्कर्षण के सिद्धान्त एवं विधियाँ-सान्द्रण, ऑक्सीकरण, अपचयन वैद्युत् अपघटनी विधि और शोधन, एल्युमिनियम, कॉपर, जिंक और आयरन की उपलब्धता एवं निष्कर्षण के सिद्धान्त। Pb, Sn, Ag, Au के निष्कर्षण के सिद्धान्त।
इकाई 6. p ब्लॉक के तत्व-(वर्ग 15, 16, 17, 18) (07 अंक)
वर्ग 15 के तत्व– सामान्य परिचय, इलेक्ट्रॉनिक विन्यास, उपलब्धता, ऑक्सीकरण अवस्थायें, भौतिक और रासायनिक गुणों में प्रवृतियाँ, नाइट्रोजन-विरचन, गुणधर्म और उपयोग, नाइट्रोजन के यौगिक-अमोनिया और नाइट्रिक अम्ल का विरचन तथा गुणधर्म, नाइट्रोजन के ऑक्साइड (केवल संरचना) फास्फोरस-अपरूप, फास्फोरस के यौगिक-फास्फीन, हैलाइडों (Pcl3, Pcl5)  का विरचन और गुणधर्म और ऑक्सीअम्लों का (केवल प्रारम्भिक परिचय)।
वर्ग 16 के तत्व– सामान्य परिचय, इलेक्ट्रॉनिक विन्यास, ऑक्सीकरण अवस्थायें, उपलब्धता, भौतिक और रासायनिक गुणों में प्रवृतियाँ, डाइऑक्सीजन-विरचन, गुणधर्म और उपयोग, ऑक्साइडों का वर्गीकरण, ओजोन, सल्फर-अपरूप, सल्फर के यौगिक- H2S, सल्फर डाइ ऑक्साइड का विरचन, गुणधर्म और उपयोग, सल्फ्यूरिक अम्ल-औद्योगिक उत्पादन का प्रक्रम गुणधर्म और उपयोग, सल्फर के ऑक्सो अम्ल (केवल संरचनायें) सोडियम थायोसल्फेट।
वर्ग 17 के तत्व– सामान्य परिचय, इलेक्ट्रॉनिक विन्यास, ऑक्सीकरण अवस्थायें, उपलब्धता, भौतिक और रासायनिक गुणों में प्रवृतियाँ, हैलोजनों के यौगिक, क्लोरीन और हाइड्रोक्लोरिक अम्ल का विरचन, गुणधर्म और उपयोग, अंतर्राहलोजन यौगिक, हैलोजन के आक्साइड, हैलोजनों के ऑक्सी अम्ल (केवल संरचनायें)। विरंजक चूर्ण।
वर्ग 18 के तत्व– Xe के यौगिक सामान्य परिचय इलेक्ट्रॉनिक विन्यास, उपलब्धता, भैतिक और रासायनिक गुणधर्मों में प्रवृतियाँ, उपयोग।
इकाई 7. d और f ब्लॉक के तत्व (03 अंक)
सामान्य परिचय, इलेक्ट्रॉनिक विन्यास, संक्रमण धातुओं के अभिलक्षण और उपलब्धता, संक्रमण धातुओं की प्रथम श्रेणी के गुणधर्मों में सामान्य प्रवृत्तियाँ, धात्विक अभिलक्षण, आयनन एन्थैल्पी, ऑक्सीकरण अवस्थायें, आयनिक त्रिज्या, वर्ण, उत्प्रेरकीय गुण, चुम्बकीय गुणधर्म, अंतराकाशी यौगिक, मिश्रधातु बनाना,  k2Cr2O7 और kmno4 का विरचन, गुणधर्म।
लन्थेनाइड– इलेक्ट्रॉनिक विन्यास, ऑक्सीकरण अवस्थायें, रासायनिक अभिक्रियाशीलता, लैन्थेनाथड़े आकुंचन और इसके प्रभाव।
एक्टिनॉयड– इलेक्ट्रॉनिक विन्यास, ऑक्सीकरण अवस्थायें तथा लैन्थेनाइड से तुलना।
इकाई 8. उपसहसंयोजन यौगिक (04 अंक)
उपसहसंयोजन यौगिक-परिचय, लिगैन्ड, उपसहसंयोजन संख्या, वर्ण, चुम्बकीय गुणधर्म और आकृतियाँ, एक नाभिकीय उपसह संयोजन यौगिकों का IUPAC पद्धति से नामकरण, आबंधन, वर्नर का सिद्धात, VBT और CFT, संरचना एवं त्रिविम समावयवता, धातुओं के निष्कर्षण, गुणात्मक विश्लेषण और जैविक निकायों में उपसहसंयोजन यौगिकों का महत्व।
भौतिक तथा कार्बनक रसायन
द्वितीय प्रश्न–पत्र (35 अंक)

इकाई

शीर्षक

अंक

1.

विलयन

05

2.

ऊष्मागतिकी

03

3.

हैलोएल्केन और हैलोएरीन

04

4.

ऐल्कोहाल, फीनॉल और ईथर

05

5.

ऐलीफैटिक ऐल्डिहाइड, कीटोन कार्बोक्सिलिक अम्ल एवं ऐरोमैटिक एल्डिटाइड एवं कार्बोसिल्कि अम्ल

05

6.

नाइट्रोजन युक्त कार्बनिक यौगिक

04

7.

जैव अणु

06

8.

बहुलक

03

JEE Main की परीक्षा में OMR sheet भरते समय अधिकतर विद्यार्थी करते हैं ये गलतियाँ

इकाई 1. विलयन (05 अंक)
विलयनों के प्रकार, ठोसों के द्रवों में बने विलयन की सान्द्रता को व्यक्त करना, गैसों की द्रवों में विलेयता, ठोस विलयन, अणु संख्या, गुणधर्म-वाष्प दाब का आपेक्षिक अवनमन, राउल्ट का नियम, क्वथनांक का उनयन, हिमांक का अवनमन, परासरण दाब, अणु संख्या गुणधर्मों द्वारा आण्विक द्रव्यमान ज्ञात करना, असामान्य आण्विक द्रव्यमान, वान्ट हाफ गुणांक एवं उस पर आधारित गणनायें।
इकाई 2. ऊष्मागतिकी (03 अंक)
निकाय की अवधारणा, निकाय के प्रकार, परिवेश, कार्य, ऊष्मा ऊर्जा, विस्तीर्ण तथा गहन गुण, अवस्था फलन। ऊष्मागतिकी का प्रथम नियम-आन्तरिक ऊर्जा और एन्थैल्पी परिवर्तन (H), हेस का स्थिर ऊष्मा संकलन नियम, एन्थैल्पी-आबंध वियोजन, संभवन (विरचन), दहन, कणीकरण, ऊर्ध्वपातन, प्रावस्था रूपान्तरण, आयनन तथा विलयन, विशिष्ट ऊष्मा।
एंट्रोपी का अवस्था फलन की भाँति परिचय, स्वतः प्रवर्तित और स्वतः अप्रवर्तित प्रक्रमों के लिये मुक्त ऊर्जा परिवर्तन, साम्य ऊष्मागतिकी का द्वितीय तथा तृतीय नियम।
इकाई 3. हैलोएल्केन और हैलोएरीन (04 अंक)
हैलोएल्केन– नाम पद्धति, C-X आबंध की प्रकृति, भैतिक और रासायनिक गुणधर्म, प्रतिस्थापन अभिक्रियाओं की क्रियाविधि, कार्बोधनायन का स्थायित्व, R-S तथा D-L विन्यास क्लोरोफार्म के विरचन एवं भौतिक तथा रासायनिक गुणधर्म।
हैलोएरीन– C-X आबंध की प्रकृति, प्रतिस्थापन अभिक्रियायें (केवल मोनो प्रतिस्थापित यौगिकों में हैलोजन का दैशिक प्रभाव, कार्बोधनायन का स्थायित्व, R-S तथा D-L विन्यास) क्लोरोबेन्जीन के विरचन एवं भौतिक एवं रासायनिक गुणधर्म।
डाइक्लोरोमेथेन, ट्राइक्लोरोमेथेन, टेट्राक्लोरोमेथेन, आयडोफार्म, फ़िऑन और डी०डी०टी० के उपयोग और पर्यावरण पर प्रभाव।

इकाई-4. ऐल्कोहाल, फीनॉल और ईथर (05 अंक)
ऐल्कोहाल– नाम पद्धति, विरचन की विधियों, भौतिक और रासायनिक गुणधर्म (केवल प्राथमिक ऐल्कोहालों का) प्राथमिक, द्वितीयक एवं तृतीयक ऐल्कोहालों की पहचान करना, निर्जलन की क्रियाविधि, मेथनॉल एवं एथेनॉल के उपयोग।
फिनॉल– नाम पद्धति, विरचन की विधियों, भौतिक और रासायनिक गुणधर्म, फीनॉल की अम्लीय प्रकृति, इलेक्ट्रॉनरागी प्रतिस्थापन अभिक्रियाए, फीनॉल के उपयोग।
ईथर– नाम पद्धति, विरचन की विधियां, भौतिक और रासायनिक गुणधर्म उपयोग।
इकाई-5. ऐलीफैटिक ऐल्डिहाइड, कीटोन कार्बोक्सिलिक अम्ल एवं ऐरोमैटिक एल्डिटाइड एवं फोंदेसल्कि अम्ल (05 अंक)
ऐल्डिहाइड और कीटोन– नाम पद्धति, कार्बोनिल समूह की प्रकृति, विरचन की विधियां, भौतिक और रासायनिक गुणधर्म, नाभिकरागी योगात्मक अभिक्रिया की क्रिया विधि, ऐल्डिहाइडों के ऐल्फा हाइड्रोजन की क्रियाशीलता, उपयोग फार्मेन्डहोइड, एसिटेल्डीहाइड तथा ऐसीटोन की प्रयोगशाला विधि एवं गुणधर्म।
एसीटिक अम्ल– नाम आक्सेलिक, अम्लीय प्रकृति, विरचन की विधियां भौतिक और रासायनिक गुणधर्म, उपयोग फार्मिक अम्ल, एसिटिक अम्ल एवं आक्सेलिक अम्ल तथा बेनजोइक अम्ल के विरचन एवं गुण।
इकाई-6. नाइट्रोजन युक्त कार्बनिक यौगिक (04 अंक)
नाइट्रो यौगिक– विरचन की सामान्य विधियां और रासायनिक गुण (नाइट्रोबेनजीन)।
ऐमीन– नाम पद्धति, वर्गीकरण, संरचना, एथिल अमीन एवं एनिलीन विरचन की विधियां, भौतिक और रासायनिक गुणधर्म, उपयोग, प्राथमिक, द्वितीयक और तृतीयक ऐमीनों की पहचान करना।
सायनाइड और आइसोसायनाइड– उचित स्थानों पर संदर्भ में दिये जायेगें।
डाइऐजीनियम लवण– विरचन रासायनिक अभिक्रियाए तथा संश्लेषण, कार्बनिक रसायन में महत्व।
इकाई-7. जैव अणु (06 अंक)
कार्बोहाइड्रेट– वर्गीकरण (ऐल्डोज और कीटोज), मोनोसैकेराइड (ग्लूकोज और फ्रक्टोज), D-L विन्यास, ओलिगोसैकेराइड (सुक्रोज, लैक्टोज, माल्टीज) पॉलिसैकेराइड (स्टार्च, सेल्युलोज, ग्लाइकोजन) महत्व।
प्रोटीन– ऐमीनों अम्लों का प्रारम्भिक परिचय, ऐप्टाइड आवध, पॉलिपेप्टाइड, प्रोटीन, प्रोटीन की प्राथमिक संरचना, द्वितीयक संरचना, तृतीयक संरचना और चतुष्क संरचना (केवल गुणात्मक परिचय) प्रोटीनों का विकृतीकरण, एन्जाइम, लिपिड तथा हार्मोनों का वर्गीकरण एवं कार्य।
विटामिन– वर्गीकरण और प्रकार्य
न्यूक्लिक अम्ल– DNA और RNA
इकाई-8. बहुलक (03 अंक)
वर्गीकरण– प्राकृतिक और संश्लेषित, बहुलकन की विधियां (योग और संघनन), सहबहुलकन, कुछ महत्वपूर्ण बहुलक प्राकृतिक एवं संश्लेषित जैसे पॉलीथीन, नाइलॉन, पॉलिएस्टर, बैकेलाइट, रबड़। जैव अपघटनीय एवं अन अपघटनीय बहुलक।

अगर रहना चाहते हैं JEE Main 2018 की परीक्षा में 100% focused, तो ज़रूर अपनाएँ ये टिप्स

प्रायोगिक कार्य

परीक्षा का मूल्यांकन योजना (पूर्णांक)

आयतनमितीय विश्लेषण (द्विपद अनुमापन) (10)

लवण विश्लेंषण (06)

विषय वस्तु आधारित प्रयोग (04)

कक्षा का रिकार्ड तथा प्रोजेक्ट कार्य (05)

मौखिक परीक्षा (05)

कुल योग (30)

पृष्ठ रसायन।

ऊष्मा रसायन।

वैद्युत रसायन।

वर्णलेखन।

अकार्बनिक यौगिकों का विरचन।

कार्बनिक यौगिकों का विरचन।

कार्बनिक यौगिक में उपस्थित प्रकायत्मिक समूह का परीक्षण।

शुद्ध पदार्थों में कार्बोहाइट्रेट, वसा और प्रोटीन का अमिलाक्षणिक परीक्षा और दिये गये खाद्य पदार्थ में इनकी उपस्थिति की जांच करना।

निम्नलिखित के मानक विलयनों द्वार अनुमापन में Kmno4 के विलयन की सान्द्रता ज्ञात करना

आक्सैलिक अम्ल

फेरस अमोनियम सल्फेट ।

गुणात्मक विश्लेषण (एक धनायन तथा एक ऋणायन)।

प्रोजेक्ट कार्य।

प्रायोगिक पाठ्यकार्य

पृष्ठ रसायन

एक द्रव रागी और एक द्रव विरागी सॉल बनाना।

द्रव रागी साल-स्टार्च, अंड एल्यूनिस और गोद।

द्रव विरागी साल-ऐल्युमिनियम हाइड्राक्साइड, फेरिक हाइड्रोक्साइड तथा आलीनियस सल्फाइड।

पायसीकरण कर्मकों की विभिन्न तेलों के पायसों के स्थाईकरण में भूमिका का अध्ययन।

ऊष्मा रसायन

कॉपर सल्फेट अथवा पोटैशियम नाइट्रेट की विलयन एन्थैल्पी।

प्रबल अम्ल (Hcl) और प्रबल क्षारक (Nao4) की उदासीनीकरण एन्थैल्पी।

एसीटोन और क्लोरोफार्म के बीच अन्योन्य क्रिया (हाइड्रोजन आबंध बनाना) में एन्थेल्पी परिवर्तन ज्ञात करना।

वैद्युत रसायन

Zn/Zn2+ ///Cu2+/Cu कक्ष ताप पर वैद्युत अपघट्यो CuSo4  अथवा ZnSo4 की सान्द्रता परिवर्तन के साथ सेल विभव में परिवर्तन का अध्ययन।

वर्णलेखन।

अकार्बनिक यौगिकों का विरचन

द्विलवण बनाना-फेरस अमोनियम सल्फेट अथवा पोटाश ऐलम।

पोटैशियम फेरिक आक्सलेट बनाना।

कार्बनिक यौगिकों का विरचन

निम्नलिखित में से किन्हीं दो यौगिकों का विरचन-

एसीटेनिलाइड।

p नाइट्रो ऐसीटेनिलाइड।

ऐनीलीन एली या नेफ्थाल ऐनीलीन रजक।

आयडोफार्म।

कार्बनिक यौगिक में उपस्थित प्रकायोत्मक समूह का परीक्षण।

शुद्ध।

गुणात्मक विश्लेषण

धनायन- Pb 2+, Cu 2+, As 3+, Fe 3+, Mn 2+, Zn 2+, Co 2+, Ni 2+, Ca 2+, Sr 2+, Ba 2+, Mg 2+, NH+4NH4+
ऋणायन- Co2−3, S2−, So2−4, No−3, CI−, Br−, I−, Co32−, S2−, So42−, No3−, CI−, Br−, I−, Po3−4, C2O24, CH3Coo−, No−2, So2−3Po43−, C2O42, CH3Coo−, No2−, So32−

(अविलेय लवण न दिये जाय)

UP Board Class 12th Mathematics second question paper 2018

Latest Videos

Register to get FREE updates

    All Fields Mandatory
  • (Ex:9123456789)
  • Please Select Your Interest
  • Please specify

  • By clicking on Submit button, you agree to our terms of use
    ajax-loader
  • A verifcation code has been sent to
    your mobile number

    Please enter the verification code below

Newsletter Signup
Follow us on
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK
X

Register to view Complete PDF