IIM के 7 एलुमनाई की सफल कहानियों से जानिए एंटरप्रेन्योर बनने के खास टिप्स

वो कहते हैं ना कि एक असरदार मोटिवेशन हमारे जीवन को बदलने और नई दिशा देने के लिए काफी है. यहां हम आपके लिए पेश कर रहे हैं IIM के 7 एलुमनाई या पूर्व-स्टूडेंट्स की सक्सेस स्टोरीज़ ताकि आप भी मैनेजमेंट और कारोबार में सफलता पायें.

Created On: Aug 23, 2019 17:43 IST
Indian Entrepreneurs
Indian Entrepreneurs

अक्सर MBA करने वाले स्टूडेंट्स एक सफल एंटरप्रेन्योर बनना चाहते हैं और फिर वे अपने इस गोल को हासिल करने के लिए दिन-रात एक कर देते हैं और अपने जीवन तथा करियर में आने वाली हरेक चुनौती का सामना बड़े ही जोश से करते हैं. लेकिन हम सब यह बहुत अच्छी तरह जानते हैं कि सफलता की मंजिल हासिल करने से पहले बहुत ज्यादा मशक्कत करनी पड़ती है और अपने रास्ते में आने वाली  हरेक रुकावट को दूर करना पड़ता है. जिंदगी की हरेक फील्ड में सफल होने के लिए आपको लगातार मेहनत करने के साथ पेशेंस और दृढ निश्चय के साथ आगे बढ़ना होता है. ये एलुमनाई इस बात का प्रत्यक्ष प्रमाण हैं जिन्होंने अपनी मेहनत और लगन के बूते पर अपनी प्रोफेशनल लाइफ में ऐसी सफलता हासिल की है जो हमारे लिए एक उदाहरण बन गई है.

अपने एंटरप्रेन्योर बनने के सपने को पूरा करने के लिए इन IIM एलुमनाई ने अपने जीवन में कई कठिन चुनौतियों का सामना किया और उन चुनौतियों के बीच ही अपनी सफलता का रास्ता निकाला. अपने इस स्ट्रगल के दौर में उन्होंने कहीं भी अपना पेशेंस नहीं खोया और दृढ इच्छा शक्ति के साथ सभी कठिनाइयों और चुनौतियों को पार करते हुए अपने सफल ब्रांड की स्थापना करके खुद को एक योग्य एंटरप्रेन्योर साबित किया.

इस आर्टिकल में इन 7 सक्सेस स्टोरीज़ को पढ़कर आप भी मोटिवेशन लें और सफलता की सीढ़ीयां चढ़ते हुए अपने जीवन में लगातार तरक्की के रास्ते पर आगे बढ़ते रहें.

 

  1. Naukri.com

फाउंडर : संजीव बिखचंदानी

स्थापना वर्ष: 1997

सर्विस : ऑनलाइन जॉब सर्च और जॉब असिस्टेंस

सक्सेस स्टोरी: यह वेंचर IIM अहमदाबाद के एलुमनाई संजीव बिखचंदानी का एक बहुत सफल विचार है जिसने लाखों लोगों को नौकरी और अपना मनचाहा करियर बनाने में काफी मदद की है. भारत में Naukri.com एक काफी फेमस और पसंदीदा जॉब पोर्टल बन चुका है जिसके जरिए लाखों कैंडिडेट्स हर साल सूटेबल नौकरी हासिल करते हैं. 

संजीव ने HMM (जिसे अब ग्लैक्सोस्मिथक्लिन के नाम से जाना जाता है) में होर्लिक्स में अपना  आकर्षक जॉब प्रोफ़ाइल छोड़कर 1990 में अपने पार्टनर के साथ मिलकर दो कंपनियों की स्थापना की जिनके नाम इंडमार्क और इन्फो एज (इंडिया) हैं. वर्ष 1997 में बिखचंदानी ने संयुक्त राज्य अमेरिका में एक सर्वर पर नौकरी पोर्टल, naukri.com स्थापित किया. एक एंटरप्रेन्योर के रूप में वेंचर स्थापित करने के क्रम में प्रारंभिक 10 वर्ष बहुत संघर्षमय रहा. वे बहुत भग्यशाली थे कि जिस समय वे काम नहीं कर रहे थे उस समय उनकी धर्म-पत्नी सुरभि ने नेस्ले में काम करते हुए घर की सारी जिम्मेदारी उठाई.

यह कंपनी रातों-रात एक ब्रांड नहीं बन गई. काफी स्ट्रगल के बाद मार्च 1997 में naukri.com लॉन्च की गई, जिसमें विभिन्न मैगज़ीन्स से 1,000 एडवरटाइज़मेंट्स दिए गए थे. Naukari.com के अलावा, Info Edge के पास jeevansathi.com, 99acres.com, Brijj.com, Naukrigulf.com, Shiksha.com, Quadrangle and Firstnaukri.com जैसी वेबसाइट्स की ओनरशिप भी है. 

 

  1. Taxi for Sure

फाउंडर  अप्रमेय राधाकृष्ण और जी रघुनंदन

स्थापना वर्ष – 2011

सर्विस - कार और टैक्सी किराए पर उपलब्ध कराना

सक्सेस स्टोरी : IIM-अहमदाबाद के टैलेंटेड एलुमनाईज़ ने कार और टैक्सी किराये में कस्टमर्स को  सुविधा उपलब्ध करवाने के लिए ऑनलाइन फॉर्मेट में 'Taxi for Sure' (पंजीकृत कंपनी सेरेन्डिपिटी इंफोलैब्स प्राइवेट लिमिटेड) लॉन्च की. कंपनी ने बैंगलोर में करीब 25 कैब ऑपरेटरों और दिल्ली में लगभग 15 कैब ऑपरेटरों के साथ साझेदारी की है, जिसमें मेगा कैब्स और सेल कैब्स जैसे ब्रांडेड ऑपरेटर भी शामिल हैं. कंपनी वर्ष 2015 तक 550 कैब्स पर अपनी खुद की ब्रांडिंग के साथ आगे बढ़ रही थी, तब 3 साल पुरानी बेंगलुरू कंपनी ओला कैब्स ने $ 200 मिलियन में इसे अधिग्रहित किया. यह ऑनलाइन कंज्यूमर मार्केट की सबसे बड़ी सेल डील थी.

 

  1. Make My Trip

फाउंडर: दीप कालरा

स्थापना वर्ष: 2000

सर्विस : फ्लाईट, होटल्स, टूर पैकेजेज की बुकिंग

सक्सेस स्टोरी: इस इंडियन ऑनलाइन ट्रेवल कंपनी की स्थापना IIM अहमदाबाद के एलुमनाई दीप कालरा ने वर्ष 2000 में की थी. इसे अमेरिकी बाजार में लॉन्च किया गया था ताकि इंडियन कम्युनिटी  की अमेरिकी-इंडिया ट्रेवलिंग की सभी आवश्यकतायें पूरी हो सकें.

कंपनी के भाग्य ने उस समय एक नया और खास टर्न लिया जब IRCTC के ऑनलाइन बिजनेस मॉडल ने इंडियन ट्रैवलर्स को रेलवे और लो कॉस्ट कैरियर्स टिकट खरीदने की इजाजत दी, तब इस कंपनी ने इंडियन एविएशन स्पेस में एंटर किया. उस समय कंपनी ने इसका पूरा फायदा उठाया और सितंबर 2005 में अपने इंडियन ऑपरेशंस शुरू कर दिए. कंपनी ने होलीडे पैकेज और होटल बुकिंग जैसे गैर-हवाई बिजनेस पर भी फोकस करना शुरू कर दिया. 13 अगस्त 2010 को Make My Trip को NASDAQ पर लिस्टेड किया गया और अमेरिकी बाजार में शुरुआत करने के बाद यह एक काफी लोकप्रिय कंपनी बन गई. यह कंपनी न्यूयॉर्क शहर और सिडनी के इंटरनेशनल ऑफिसेस के साथ-साथ भारत के 50 शहरों में 65 रीटेल स्टोरों के माध्यम से भी काम करती है.

 

  1. Rediff.com

फाउंडर : अजित बालाकृष्णन

स्थापना वर्ष : 1996

सर्विस : इनफॉर्मेशन शेयरिंग, ऑनलाइन शॉपिंग और अन्य

सक्सेस स्टोरी : इस कंपनी की स्थापना IIM-कलकत्ता के एलुमनाई अजीत बालकृष्णन ने की.

वर्ष 1995 में उन्होंने Rediff.com की स्थापना की जो कुछ ही समय में बेहद सफल इंटरनेट साइट बन गई और वर्ष 2001 में NASDAQ पर लिस्टेड की गई. अपना MBA प्रोग्राम पूरा करने के बाद उन्होंने अपना खुद का एडवर्टाइजिंग बिजनेस लांच किया जबकि इनके अन्य क्लासमेट्स ने हिंदुस्तान लीवर तथा L&T जैसी कंपनियों में जॉब ज्वाइन कर ली. इस नए बिजनेस में असफल होने का काफी बड़ा खतरा था लेकिन उन्होंने सफलतापूर्वक इसे पूरा किया और इतिहास बनाया. Rediffmail.com भारत में काफी लोकप्रिय है और जी मेल, याहू मेल और हॉट मेल.कॉम से इंटरनेशनल कॉम्पीटीशन के बावजूद भारत में लगभग एक तिहाई वेब-सरफ़र दिन में कम से कम एक बार Rediffmail.com पर जरुर विजिट करते हैं.

 

  1. Mastek

फाउंडर: अशंक देसाई

स्थापना वर्ष: 1982

सर्विस: इन्फॉर्मेशन टेक्नोलॉजी सर्विसेज कंपनी

सक्सेस स्टोरी: Mastek एक मल्टीनेशनल इन्फॉर्मेशन टेक्नोलॉजी सर्विस कंपनी है जिसका हेडऑफिस भारत के मुम्बई में है जिसकी स्थापना IIM-अहमदाबाद के एलुमनाई अशंक देसाई ने की.

देश के इनफॉर्मेशन मैनेजमेंट सिस्टम में क्रांतिकारी बदलाव लाने की योजना बनाते हुए देसाई अक्सर अपने वीकएंड्स IIM में ही बिताते थे. IIM के बाद अपने कुछ बैचमेट्स के साथ केवल 15,000 रूपये से इस कंपनी की शुरुआत करके अपने सपने को साकार किया. 1997-98 में 91.79 करोड़ रुपये के रिवेन्यू के साथ इस कंपनी ने अपार सफलता हासिल की और आज यह भारत में NSE और BSE दोनों पर ही लिस्टेड है.

Mastek की सफलता ने एक नया मोड़ उस समय लिया जब सीएसआई (कम्प्यूटर सोसाइटी ऑफ इंडिया) ने एक एग्जीबीशन आयोजित की. उस समय पर्सनल कंप्यूटर्स लॉन्च किए गए थे और Mastek ने HUL, सिटीबैंक जैसे बड़े कॉर्पोरेट ब्रांड्स से ऑर्डर लिए थे. अपने कारोबार के छठे वर्ष में Mastek डाटाक्वेस्ट मैगज़ीन की लिस्ट में 6थ प्लेस पाने में सफल रही और तब से यह कंपनी लगातार तरक्की कर रही है.

 

  1. Travel Triangle

फाउंडर : संकल्प अग्रवाल और सांची गर्ग

स्थापना वर्ष: 2011

सर्विस : ऑनलाइन टूर पैकेज

सक्सेस स्टोरी : Travel Triangle एक होलीडे मार्केट प्लेस है जो ट्रैवलर्स को अपने निर्धारित स्थान पर पहुंचने फाउंडर्स ने एडोब और याहू में अपनी कॉर्पोरेट जॉब्स को छोड़कर नॉएडा के एक गैरेज में अपना  स्टार्टअप शुरू किया. ये लोग IIM के एलुमनाई हैं और ट्रैवल एजेंटों के साथ कस्टमर्स को जोड़ने का लक्ष्य रखते हैं. इन पेशेवरों ने लोगों को ट्रेवलिंग करते समय होने वाली परेशानी से बचाने के उद्देश्य से अपनी कंपनी की स्थापना की है. इस कंपनी को Travel Triangle नाम इसलिए दिया गया है क्योंकि यह कंपनी ट्रैवलर्स, ट्रैवल एजेंट और एक एफिशिएंट मार्केट को एक साथ जोड़ती है.

इस कंपनी की स्थापना के एक साल के भीतर ही Travel Triangle ने इंडिविजुअल इन्वेस्टर्स के एक ग्रुप से 60 लाख रुपये का फंड प्राप्त किया. इसका कंटेंट हर महीने अपनी वेबसाइट पर करीब 20 लाख विजिटर्स को आकर्षित करता है और यह कंपनी 65 से अधिक देशों के ट्रैवलर्स को अपनी सर्विस देती है.

 

  1. First Cry

फाउंडर: सुपम माहेश्वरी 

सर्विस : ऑनलाइन बेबी और किड्स स्टोर

सक्सेस स्टोरी : इस कंपनी की शुरुआत दिल्ली कॉलेज ऑफ इंजीनियरिंग और IIM से पास आउट सुपम ने की. इस स्टार्टअप के लिए प्रेरणा उन्हें खुद पहली बार पेरेंट बनकर अपने सामने आने वाले परेशानियों  से ही मिली थी. महेश्वरी ने स्टॉक डील में महिंद्रा 'बेबी ओए' का अधिग्रहण भी किया है और 18 अरब डॉलर के संगठन से इन्वेस्टमेंट भी हासिल किया है. वर्तमान में वे भारत में अब तक के सबसे बड़े बेबी और मदर केयर रीटेलर (ऑनलाइन और ऑफलाइन) के CEO हैं.

वर्ष 2012 में उन्होंने अपने ऑर्डर्स को पूरा करने के लिए एक लॉ     जिस्टिक बिजनेस भी लॉन्च किया. अब साहा द्वारा संचालित Xpress Bees ने 2015 में थर्ड पार्टी ऑर्डर लेना शुरू किया और First cry से स्पिनिंग ऑफ के बाद 85 करोड़ रुपये जुटाए. First cry के 70 ऑफलाइन स्टोर ज्यादातर टियर 1 शहरों जैसे बैंगलोर, चेन्नई, नॉएडा आदि में स्थित हैं.

आप भी इन एंटरप्रेन्योर्स की तरह मेहनत और लगन से एक दिन अपने जीवन में सफल एंटरप्रेन्योर बन सकते हैं. लेकिन इसके लिए आपको भारत के किसी टॉप MBA कॉलेज से कोई सूटेबल MBA कोर्स करना होगा तथा ताकि आपके बिजनेस स्किल्स निखर जायें.

अगर आपको यह आर्टिकल पसंद आया है तो हमारे लेटेस्ट अपडेट्स हासिल करने के लिए www.jagranjosh.com/mba पर रेगुलरली विजिट करें और/ या हमें सब्सक्राइब करें.