प्रधानमंत्री मोदी ने की असम और पश्चिम बंगाल की यात्रा, किया विभिन्न परियोजनाओं का शिलान्यास

प्रधानमंत्री ने धेमाजी इंजीनियरिंग कॉलेज का उद्घाटन किया और असम में सुअल्कुची इंजीनियरिंग कॉलेज की आधारशिला रखी.

Created On: Feb 23, 2021 17:22 ISTModified On: Feb 23, 2021 17:26 IST

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 22 फरवरी, 2021 को धेमाजी जिले, असम के सिलपाथर में तेल और गैस क्षेत्र की कई महत्वपूर्ण परियोजनाओं को भी देश को समर्पित किया.

असम में, प्रधानमंत्री ने मधुबन, डिब्रूगढ़ में तेल इंडिया लिमिटेड के द्वितीयक टैंक फार्म और इंडियन ऑयल की बोंगाईगांव रिफाइनरी में इंडमैक्स इकाई के साथ-साथ, हेबड़ा गांव, मकुम, तिनसुकिया में एक गैस कंप्रेसर स्टेशन का भी उद्घाटन किया.

उन्होंने धेमाजी इंजीनियरिंग कॉलेज का उद्घाटन किया और सुअल्कुची इंजीनियरिंग कॉलेज की भी आधारशिला रखी.

लाभ

इन परियोजनाओं से ऊर्जा सुरक्षा और समृद्धि के युग की शुरुआत करने और स्थानीय युवाओं के लिए अनेक आकर्षक अवसर उपलब्ध होने की उम्मीद है.

ये परियोजनाएं पूर्वी भारत के सामाजिक-आर्थिक विकास को बढ़ावा देने के लिए प्रधानमंत्री के पूर्वोदय के दृष्टिकोण के अनुरूप हैं.

सीलापत्थर, धेमाजी में विभिन्न परियोजनाओं के शुभारंभ के दौरान बोलते हुए, प्रधानमंत्री ने यह कहा कि, राज्य के बुनियादी ढांचे को विकसित करने के लिए केंद्र और असम सरकार मिलकर काम कर रही हैं.

पश्चिम बंगाल

प्रधानमंत्री नोआखाली से दक्षिणेश्वर तक मेट्रो रेलवे के विस्तार का भी उद्घाटन करेंगे और इस खंड पर पहली सेवा को हरी झंडी दिखाएंगे. यह 4.1 किमी विस्तार मार्ग 464 करोड़ रुपये की लागत से बनाया गया है, जो पूरी तरह से केंद्र सरकार द्वारा वित्त पोषित किया गया है.

लाभ

यह निर्माण सड़क यातायात को कम करेगा और शहरी गतिशीलता में सुधार करेगा. यह लाखों पर्यटकों और भक्तों के लिए कालीघाट और दक्षिणेश्वर के दो विश्व प्रसिद्ध काली मंदिरों तक यात्रा को सुगम बनायेगा.

कलिकुंडा और झाररा के बीच तीसरी लाइन

प्रधानमंत्री 1312 करोड़ रुपये की अनुमानित लागत के साथ कलिकुंडा और झारग्राम के बीच 30 किलोमीटर तक फैली तीसरी लाइन, दक्षिण पूर्व रेलवे की 132 किमी लंबी खड़गपुर-आदित्यपुर थर्ड लाइन परियोजना का भी उद्घाटन करेंगे.  

लाभ

• तीसरी लाइन हावड़ा-मुंबई ट्रंक मार्ग पर यात्री और मालगाड़ियों की निर्बाध आवाजाही सुनिश्चित करने में मदद करेगी.
हावड़ा - बंदेल - पूर्व रेलवे का अजीमगंज सेक्शन 
• यह परियोजना लगभग 240 करोड़ रुपये की परियोजना लागत से तैयार की गई है.

दनकुनी और बरुइपारा के बीच चौथी लाइन

प्रधानमंत्री हावड़ा - बर्धमान कॉर्ड लाइन की दनकुनी और बरुइपारा (11.28 किमी) के बीच चौथी लाइन भी राष्ट्र को समर्पित करेंगे. इसे 195 करोड़ रुपये की लागत से बनाया जाएगा.

तीसरी लाइन का उद्घाटन हावड़ा के रसूलपुर और मगरा (42.42 किमी) - बर्धमान मेन लाइन के बीच 759 करोड़ रुपये की लागत से किया जाएगा, जो कोलकाता के प्रमुख प्रवेश द्वार के तौर पर कार्य करता है.

लाभ

ये परियोजनाएं बेहतर परिचालन तरलता, कम यात्रा समय और ट्रेन परिचालन की बढ़ी हुई सुरक्षा सुनिश्चित करने के साथ ही इस क्षेत्र के समग्र आर्थिक विकास को बढ़ावा देंगी.

Take Weekly Tests on app for exam prep and compete with others. Download Current Affairs and GK app

एग्जाम की तैयारी के लिए ऐप पर वीकली टेस्ट लें और दूसरों के साथ प्रतिस्पर्धा करें। डाउनलोड करें करेंट अफेयर्स ऐप

AndroidIOS