इसरो चेयरमैनों की सूची

भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो), भारत सरकार की अंतरिक्ष एजेंसी है. अगस्त 15, 1969 में स्थापित इसरो का मुख्यालय बेंगलुरु (कर्नाटक) में स्थित है. सन 1963 से इसरो के 10 चेयरमैन नियुक्त किए जा चुके हैं. इसरो के मौजूदा चेयरमैन के. सिवान ने जनवरी 2018 में पद ग्रहण किया है. इसरो के पहले चेयरमैन डॉ. विक्रम साराभाई थे. इस लेख में इसरो के सभी चेयरमैन के नाम बताये जा रहे हैं.
Jan 19, 2018 03:04 IST
    ISRO India

    भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो), भारत सरकार की अंतरिक्ष एजेंसी है. अगस्त 15,1969 में स्थापित इसरो का मुख्यालय बेंगलुरु (कर्नाटक) में स्थित है. सन 1963 से इसरो के 10 चेयरमैन नियुक्त किए जा चुके हैं. इसरो के मौजूदा चेयरमैन के. सिवान ने जनवरी 2018 में पद ग्रहण किया है. इसरो के पहले चेयरमैन डॉ. विक्रम साराभाई थे.
    इसरो के सभी चेयरमैन के नाम प्रकार हैं.

                   इसरो चेयरमैन

                      कार्यकाल

         कार्यकाल अवधि

    1.  विक्रम साराभाई

     1963 से  1972 तक

      9 साल

    2. M. G. K. मेनन

     जनवरी 1972 से  सितम्बर 1972

      9 माह

    3. सतीश धवन

     1972 से 1984 तक

      12 साल

    4. प्रो.U. R. राव

     1984 से 1994 तक

      10 साल

    5. के. कस्तुरीरंगन

     1994 से 2003 तक

      9 साल

    6. G. माधवन नायर

     2003 से 2009 तक

      6 साल

    7. K. राधाकृष्णन

     2009 से 2014 तक

      5 साल

    8. शैलेश नायक

     1 जनवरी 2015 से 12 जनवरी  2015 तक

      12 दिन

    9. A. S. किरण कुमार

     2015 से 2018 तक

      3 साल

    10. K. सिवान

     जनवरी 2018 से अभी तक

      कार्यरत

    इसरो चेयरमैनों के बारे में तथ्य
    1. डॉ. विक्रम साराभाई (1963 - 1972) को भारतीय अंतरिक्ष कार्यक्रम के पिता माना जाता है. विक्रम साराभाई ने इन संस्थानों की स्थापना की थी:-
    (a) भौतिक अनुसंधान प्रयोगशाला (PRL), अहमदाबाद।
    (b). भारतीय प्रबंधन संस्थान (IIM), अहमदाबाद
    (c). विक्रम साराभाई अंतरिक्ष केंद्र, तिरुवनंतपुरम
    (d). फ़ास्ट ब्रीडर टेस्ट रिएक्टर (FBTR), कल्पक्कम
    2. प्रो. सतीश धवन (1972-1984)
    (a). इन्हें भारतीय रॉकेट विज्ञान का जनक माना जाता है.
    (b). प्रो. सतीश को भारतीय संचार उपग्रह (INSAT) और ध्रुवीय उपग्रह लॉन्च वाहन (PSLV) के परिचालन को सुगम बनाने के लिए हमेशा याद किया जायेगा.
    3. प्रो. उडुपी रामचंद्र राव (1994-1994)
    (a). प्रो. राव ने 1972 में भारत में उपग्रह प्रौद्योगिकी स्थापित करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी.
    (b). प्रो. राव ने भारत के पहले उपग्रह 'आर्यभट्ट' को डिजाइन करने में मुख्य भूमिका निभाई थी.
    4. डॉ कृष्णस्वामी कस्तुरीरंगन (1994-2003)
    (a). इसरो के अध्यक्ष के रूप में, कस्तुरीरंगन ने PSLV और GSLV की मदद से भारतीय अंतरिक्ष कार्यक्रम में कई मील के पत्थर गाड़े थे.
    (b). वे भारत के प्रथम दो प्रायोगिक भू-प्रेक्षण उपग्रह, भास्कर-I व भास्कर -II के परियोजना निदेशक भी थे.
    5. श्री G.माधवन नायर (2003-2009)
    (a). भारत का चाँद पर भेजा गया पहला मिशन "चंद्रयान -1" G. माधवन नायर के चेयरमैन रहते ही भेजा गया था.
    (b). इनके 6 साल के चेयरमैन और इसरो सेक्रेटरी के कार्यकाल में दौरान इसरो ने 25 मिशनों को सफलतापूर्वक पूरा किया था.
    6. डॉ. के. राधाकृष्णन (2009-2014)
    भारत का पहला इंटरप्लानेटरी मिशन "मंगलयान" डॉ. के. राधाकृष्णन के चेयरमैन रहने के दौरान ही भेजा गया था.
    7. श्री A.S. किरण कुमार (2015 - 2018)
    (a).इन्होंने भारत के चंद्रयान-1 और मंगलयान मिशन को सफलता पूर्वक भेजने में अहम् भूमिका निभाई भी.
    (b). भारतीय राष्ट्रीय क्षेत्रीय नेविगेशन प्रणाली (IRNSS) और जीपीएस एडेड जियो नेविगेशन (GAGAN)का विकास भी इनकी ही देखरेख में किया गया था.

    निष्कर्ष के रूप में यह कहा जा सकता है कि इसरो अपने मिशनों की सफलता के दम पर पूरी दुनिया में भारत का नाम रोशन कर रहा है. इसके अब तक के सभी चेयरमैनों ने अपना काम बहुत ही ईमानदारी से किया है और उम्मीद है कि नवनियुक्त चेयरमैन K.सिवान की अगुवाई में भी इसरो नए-नए मील के पत्थर स्थापित करता रहेगा.

    ऐसे 8 काम जो आप पृथ्वी पर कर सकते हैं लेकिन अन्तरिक्ष में नही

    Loading...

    Register to get FREE updates

      All Fields Mandatory
    • (Ex:9123456789)
    • Please Select Your Interest
    • Please specify

    • ajax-loader
    • A verifcation code has been sent to
      your mobile number

      Please enter the verification code below

    Loading...
    Loading...