रावण के बारे में 10 आश्चर्यजनक तथ्य

रावण के माता- पिता का नाम कैकसी और विश्वश्रवा था। रावण 'दस मुख' या 'दशानन' के नाम से भी जाना जाता था। हिंदू पौराणिक कथाओं के अनुसार, रावण राक्षसों का राजा था जिसके 10 सिर और 20 हाथ थे। रावण के छह भाई और दो बहने थीं। जिनके नाम भगवान कुबेर, विभीषण, कुंभकरण, राजा कारा, राजा अहिरावण, कुम्भिनी और शूर्पणखा था।
Ravana Facts in hindi
Ravana Facts in hindi

रामायण के अनुसार रावण ने भगवान राम के साथ लड़ाई कर अपना सब कुछ खो दिया था। यह लड़ाई इसलिए लड़ी गई थी क्‍योंकि रावण ने सीता का अपहरण कर लिया था। उनको वास्तुकला, शास्त्रों में ज्ञान और ज्योतिष की अच्‍छी तरह से जानकरी थी, इसलिए कहा जाता है कि उनके दस सिर इसी कारण से थे। वे तंत्र शास्‍त्र और ज्‍योतिष पर किताब लिख चुके हैं जिसका नाम रावण संहिता है जिसे ज्‍योतिष की सबसे बेहतरीन किताब माना जाता है। इस वजह से उनमें बहुत अधिक आत्मविश्वास और अहंकार आ गया था। इसी का परिणाम था कि भगवान राम ने उन्‍हें लड़ाई के दौरान मार डाला था।

नीचे रावण से संबंधित 10 अज्ञात तथ्य दिए जा रहे हैं। इनमें से ज्यादातर के बारे में हम में से किसी को जानकारी नहीं है

1. क्या आप जानते हैं कि रावण को यह नाम शिव से मिला था?

Jagranjosh

यह तब हुआ जब रावण शिव को कैलाश से लंका में स्थानांतरित करना चाहता था, जिसके लिए उसने पर्वत उठा लिया था। लेकिन शिव ने पर्वत पर अपना पैर रख दिया और अपनी एक पैर की अंगुली से रावण की अंगुली कुचल दी। रावण दर्द से दहाड़ा, लेकिन वो शिव की शक्ति को जानता था इसीलिए उसने शिव तांडव स्त्रोतम् प्रदर्शन शुरू कर दिया। और ये कहा जाता है कि रावण ने अपने 10 में से 1 सिर को वीणा की तुम्बी के रूप में, अपने एक हाथ को धरनी के रूप में और स्ट्रिंग के रूप में अपनी तंत्रिकाओं के उपयोग से एक वीणा को रूपांकित किया जो रूद्र-वीणा के नाम से जानी जाती है . इससे शिव प्रभावित हो गए और उसे ‘रावण’, जो व्यक्ति जोर से दहाड़ता है, का नाम दिया गया।

2. यह आश्चर्यजनक बात है कि रावण ने राम के लिए एक यज्ञ का प्रदर्शन किया था और जब वह मर रहा था तब उसने लक्ष्मण को बहुमूल्य ज्ञान प्रदान किया था।

Jagranjosh

Source: www.google.co.in

रामायण के अनुसार, यह कहा जाता है कि राम की सेना को लंका जाने के लिए पुल का निर्माण करना था जिसके लिए शिव का आशीर्वाद चाहिए था। इसके लिए उन्होंने यज्ञ की स्थापना की, और उस समय की सबसे बड़ी सच्चाई यह है कि रावण पूरी दुनिया में शिव का सबसे बड़ा भक्त था और वह आधा ब्राह्मण भी था, इसीलिए यज्ञ को स्थापित करने के लिए वह सबसे उचि‍त व्यक्ति था। रावण ने यज्ञ का प्रदर्शन किया और राम को अपना आशीर्वाद दिया।

इसके आलावा, हम सब जानते हैं की रावण अभी तक के सबसे विद्वान व्यक्ति रहे हैं। इसीलिए जब रावण मर रहा था तो राम ने लक्ष्‍मण को शासन कला और कूटनीति में महत्वपूर्ण सबक सीखने के लिए रावण के बगल में बैठने को कहा था।

3. पुष्पक विमानक ऐसा हवाई जहाज था जिसे केवल कुछ ही लोग नियंत्रित कर सकते थे और रावण ने अपने दम पर इसे नियंत्रित करना सीख लिया था। रावण के पास इस तरह के कई हवाई जहाज थे और उन्हें उतारने के लिए हवाई अड्डे भी थे।

Jagranjosh

महियांगना में वैरागनटोटा और गुरुलुपोथा, होर्टन मैदानों में थतूपोल कांदा, कुरुनेगाला में वारियापोला,  कुछ ऐसे जगहें हैं लंका में जिन्हें आज भी हवाई अड्डे के रूप में देखा जाता हैं जिसे रावण ने उपयोग किया था। इसके अलावा, रावण एक असाधारण वीणा वादक भी था  और ऐसा माना जाता है कि उनको संगीत में गहरी रूचि थी।

स्वास्तिक 11000 साल से भी अधिक पुराना है, जानिए कैसे?

4. रावण एक असीम गति का आदमी था । उन्होंने किसी से भी तेज होने की तकनीक में महारथ हासिल कर ली थी और इसीलिए वह किसी की भी कैद के हर प्रयास से बच जाता था। वह इतना शक्तिशाली था कि वह ग्रहों की स्थिति को  भी बदल सकता था ।

Jagranjosh

Source: www.sbdsisaikat.files.wordpress.com

अपने बेटे मेघनाद के जन्म के दौरान, रावण ने सभी ग्रहों को अपने बेटे के ग्यारहवें घर में रहने का निर्देश दिया था परंतु शनि या शनि गृह ने ऐसा करने से इंकार कर दिया और वे बारहवें घर में स्थापित रहे। शनि देव के इस व्यवहार के कारण, रावण ने उन्हें गिरफ्तार कर कारावास में डाल दिया था।

5. क्या आप जानते हैं की कुम्भकरण और रावण विष्णु के द्वार रक्षक (द्वारपाल) के अवतार थे?

Jagranjosh

Source: www.2.bp.blogspot.com

जय और विजय भगवान विष्णु के स्वर्गीय निवास, वैकुंठ के द्वार रक्षक (द्वारपाल) थे। एक बार भगवान ब्रह्मा के चार कुमार भगवन विष्णु से वैकुंठ मिलने गए। इन चारों कुमारों ने ब्रह्मचर्य (कुंवारापन) का पथ चुना और अपने दिव्य पिता से अनुरोध किया कि वह उनको सदा पांच वर्ष के रहने का वरदान प्रदान करें।

यह सोच कर की वह शरारती बच्चे हैं, जय और विजय ने उन्हें वैकुण्ठ के भीतर जाने से यह कह कर रोक दिया की विष्णु अभी आराम कर रहे हैं और इसलिए इस वक़्त नहीं मिल सकते। इससे नाराज़, कुमारों ने उनसे कहा कि विष्णु भगवान हमेशा अपने भक्तों के लिए उपलब्ध रहते हैं, चाहे वह किसी भी समय उन्हें बुलाएँ।

Jagranjosh

Source: www.2.bp.blogspot.com

फिर उन्होंने जय और विजय को श्राप दिया कि वह अपने भगवान से अलग हो जायेंगे। जब उन्होंने माफ़ी मांगी, तब कुमारों ने कहा कि या तो वह सात जन्मों तक धरती पर विष्णु के अवतार के सहयोगी दलों के रूप में रहें या फिर तीन जन्म उनके दुश्मन के रूप में व्यतीत कर सकते हैं। उन्होंने बाद वाला विकल्प चुना। उन तीन जन्मों में से एक जन्म में वह रावण और कुम्भकरण के रूप में आये।

6. हम जानते हैं कि रावण ने सीता का अपहरण किया, अजीब और आश्चर्यजनक बात ये है की 'रामायण' जैन मूलपाठ के अनुसार, रावण सीता का पिता था और जातिवाद के विरुद्ध भी था।

Jagranjosh

Source: www.qph.ec.quoracdn.net

दोनों राम और रावण जैनियों के भक्त थे । रावण जादुई शक्तियों का विद्याधर राजा था । इसके अलावा जैनियो के विचार के अनुसार यह भी कहा जाता है कि रावण को राम ने नहीं अपितू लक्ष्मण ने मारा था। यह घटनाएँ 20 वे तीर्थंकर मुनिसुव्रत के समय की कही जाती है।

7. रावण से सीखने के लिए बहुत सारी चीज़ें हैं, भले ही वह बुराई का प्रतीक है। उन्होंने बहुत से तांत्रिक उपाय बताए है, जिनमें से एक है, कैसे हम अचानक से अमीर बन सकते हैं।

Jagranjosh

इस उपाय को करने के लिए, कोई भी शुभ दिन पर सुबह जल्दी उठकर दिनचर्या को पूरा करके पवित्र नदी या जलाशय जाएँ। किसी भी एक पेड़ के नीचे शांत और एकांत स्थान को देखे और एक चमड़े की सीट को फैला ले ।

फिर किसी बैठक पर बैठकर 21 दिनों के लिए इस धन मंत्र

Jagranjosh

का जाप करें । और इस जप के लिए रुद्राक्ष मोतियों का इस्तेमाल करें।

21 दिनों के बाद अचानक धन की आय से आप आश्चर्यचकित हो जायेंगे। 

कुमारी कंदम की अनकही कहानी: हिंद महासागर में मानव सभ्यता का उद्गम स्थल

8. क्या आप रावण की मौत के पीछे की कहानी को जानते हैं?

Jagranjosh

Source: www.resize0.indiatvnews.com

अनर्नेय रघुवंश में एक निरपेक्ष प्रतापी राजा था। रावण जब पूरे संसार पर कब्ज़ा करने के लिए निकले तब अनर्नेय से मिले, और उनके बीच घमासान युद्ध हुआ। राजा अनर्नेय उस युद्ध में अपनी जान गवां बैठे परंतु मरने से पहले उन्होंने रावण को श्राप दिया कि उसको मारने वाला अनर्नेय के वंश की पीढ़ी में से कोई होगा। बाद में, भगवान राम ने अनर्नेय के वंश में जन्म ले कर रावण का वध किया।

9. अजीब परंतु आश्चर्यजनक बात यह है कि रावण को महसूस होने लगा था कि उसकी बसाई हुई दुनिया का अंत होने वाला है।

Jagranjosh

वह अपनी किस्मत जानता था कि उसकी मौत विष्णु के अवतार से होगी, और इससे मोक्ष प्राप्त होगा और राक्षस की योनी से मुक्ति मिलेगी।

10. रावण के 10 सिरों के पीछे की कहानी जो की बहुत अद्भुत है।

Jagranjosh

Source: www.smitedatamining.com

रामायण के कुछ संस्करणों के अनुसार, रावण के दस सि‍र थे ही नहीं बल्कि ऐसा प्रतीत होता था, जो रावण की माँ ने रावण को नौ मोतियों के हार के रूप में दिया था इससे किसी भी देखने वाले को एक ऑप्टिकल भ्रम पैदा हो जाता था। और कुछ अन्य संस्करणों में यह कहा गया है की शिव को खुश करने के लिए, रावण ने अपने सि‍र के टुकड़े कर दिए थे, इतनी भक्ति देख कर शिव ने हर एक टुकड़े को एक नए सि‍र में पिरो दिया।

उसके दस सर थे काम (हवस), क्रोध (गुस्सा) मोह (भ्रम), लोभ (लालच), मादा (गौरव), विद्वेष (ईर्ष्या), मानस (मन), बुद्धि (ज्ञान), चित्त (इच्छापत्र), और अहंकार (अहंकार) - यह सब  दस सि‍र बनाते हैं। और इसीलिए रावण के पास ये सब गुण थे।

क्या आप महाभारत के बारे में 25 चौकाने वाले अज्ञात तथ्यों को जानते हैं?

Get the latest General Knowledge and Current Affairs from all over India and world for all competitive exams.
Jagran Play
खेलें हर किस्म के रोमांच से भरपूर गेम्स सिर्फ़ जागरण प्ले पर
Jagran PlayJagran PlayJagran PlayJagran Play