Comment (0)

Post Comment

8 + 0 =
Post
Disclaimer: Comments will be moderated by Jagranjosh editorial team. Comments that are abusive, personal, incendiary or irrelevant will not be published. Please use a genuine email ID and provide your name, to avoid rejection.

    न्यूनतम समर्थन मूल्य (MSP) क्या होता है और खरीफ फसल सीजन 2020-21 के लिए कितना है?

    खरीफ फसल सीज़न 2020-21 के लिए धान (सामान्य) का न्यूनतम समर्थन मूल्य (MSP) बढ़ाकर 1,868 प्रति क्विंटल कर दिया गया है. सरकार हर वर्ष बुबाई से पहले, कृषि लागत और मूल्य आयोग (CACP) की सिफारिशों पर 22 अनिवार्य फसलों के लिए न्यूनतम समर्थन मूल्य (MSP) की घोषणा करती है.
    Created On: Jun 2, 2020 18:14 IST
    Modified On: Jun 2, 2020 18:14 IST
    Minimum Support Price of Kharif crops for 2020-21
    Minimum Support Price of Kharif crops for 2020-21

    न्यूनतम समर्थन मूल्य (MSP) क्या है? (What is Minimum Support Price (MSP)

    न्यूनतम समर्थन मूल्य (MSP), भारत में कृषि उपज के लिए न्यूनतम मूल्य की गारंटी है. MSP की घोषणा भारत सरकार द्वारा कुछ निश्चित फसलों के लिए बुवाई के मौसम की शुरुआत में की जाती है, ताकि उत्पादक यानी किसानों को इस बात की गारंटी प्रदान की जा सके कि देश में कितना भी अधिक खाद्यान्न उत्पन्न हो जाये, किसानों को उनकी फसल का एक निश्चित मूल्य मिलेगा. इस प्रकार MSP किसानों को अधिक फसल बुबाई के लिए प्रेरित करता है.

    कितनी फसलों के लिए न्यूनतम समर्थन मूल्य (MSP) घोषित किया जाता है (How many crops are under Minimum Support Price (MSP)

    भारत में कृषि लागत और मूल्य आयोग (CACP) की सिफारिशों पर 'कृषि विभाग और सहयोग, भारत सरकार' द्वारा 22 फसलों का न्यूनतम समर्थन मूल्य घोषित किया जाता है.

    इन 22 फसलों में 6 रबी फसलें, 14 खरीफ मौसम की फसलें, और दो अन्य वाणिज्यिक फसलें हैं. इनका विवरण इस प्रकार है; अनाज (7), गेहूं, धान, बाजरा, जौ, ज्वार, रागी और मक्का; जबकि दलहन की 5 फसलें इस प्रकार हैं; अरहर, चना, उड़द, मूंग, और मसूर और तिलहन की 8 फसलें शामिल हैं. ये फसलें हैं; रेपसीड / सरसों, मूंगफली, सोयाबीन, तोरिया, तिल, केसर बीज, सूरजमुखी के बीज और रामतिल (Nigerseed).

    सभी अनिवार्य खरीफ फसलों के लिए न्यूनतम समर्थन मूल्य 1 जून, 2020 को प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता में आर्थिक मामलों की मंत्रिमंडलीय समिति (सीसीईए) द्वारा बढ़ाए गए हैं.

    वर्ष 2020-21 के लिए सभी खरीफ फसलों के लिए न्यूनतम समर्थन मूल्य (Minimum Support Prices (MSPs) for all Kharif crops for 2020-21):-

    फसल 

    खरीफ फसलों के लिए न्यूनतम समर्थन मूल्य 2020-21

    न्यूनतम समर्थन मूल्य में बढ़ोत्तरी 

    धान (सामान्य)

    1,868

    53

     

    धान (ग्रेड ए)

    1,888

    53

     

    ज्वार (संकर)

    2,620

    70

     

    ज्वार (माल्डंदी)

    2,640

    70

     

    बाजरा

    2,150

    150

     

    रागी

    3,295

    145

     

    मक्का

    1,850

    90

     

    तूर (अरहर)

    6,000

    200

     

    मूंग

    7,196

    146

     

    उड़द

    6,000

    300

     

    मूंगफली

    5,275

    185

     

    सूरजमुखी के बीज

    5,885

    235

     

    सोयाबीन (पीला)

    3,880

    170

     

    तिल

    6,855

    370

     

    रामतिल

    6,695

    755

     

    कपास (मध्यम प्रधान)

    5,515

    260

     

    कपास (लंबा प्रधान)

    5,825

    275

     

    न्यूनतम समर्थन मूल्य (MSPs) कैसे तय किया जाता है (How is Minimum Support Prices (MSPs) decided)

    कृषि लागत और मूल्य आयोग (CACP) रबी और खरीफ फसलों के MSP को तय करते समय कई कारकों को ध्यान में रखता है. ये कारक हैं;

    1. उत्पादन लागत से कम से कम 50% अधिक मूल्य तय करना

    2. मांग और आपूर्ति

    3. इनपुट की कीमतों में बदलाव

    4. इनपुट-आउटपुट मूल्य समता

    5. जीवन यापन की लागत पर प्रभाव

    6. सामान्य मूल्य स्तर पर प्रभाव

    7. बाजार की कीमतों का रुझान

    8. किसानों द्वारा प्राप्त कीमतों और उनके द्वारा भुगतान की गयी कीमतों के बीच समता

    9. अंतर्राष्ट्रीय मूल्य स्थिति

    तो यह थी 2020-21 सीज़न के लिए खरीफ फसलों के लिए न्यूनतम समर्थन मूल्य (MSP) पर पूरी जानकारी. यह लेख विभिन्न प्रतियोगी परीक्षाओं जैसे IAS / PCS / SSC / CDS आदि के लिए बहुत महत्वपूर्ण है.

    ऐसे और लेख पढ़ने के लिए नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक करें;

    भारत सरकार के ऊपर कितना कर्ज है?

    वन नेशन, वन राशन कार्ड: एलिजिबिलिटी, उद्देश्य और लाभ