1. Home
  2. Hindi
  3. Difference: RBC और WBC में क्या होता है अंतर, जानें

Difference: RBC और WBC में क्या होता है अंतर, जानें

Difference: आपने सुना होगा कि हमारे खून में दो प्रकार के सेल्स होते हैं, जिन्हें हम लाल रक्त कोशिका यानि रेड ब्लड सेल्स और सफेद रक्त कोशिका यानि व्हाइट ब्लड सेल्स कहते हैं। लेकिन, क्या आपको इन दोनों के बीच अंतर पता है और इनके काम के बारे में पता है। यदि नहीं, तो हम इस लेख के माध्यम से इन दोनों के बीच अंतर को समझेंगे। 

Difference: RBC और  WBC में क्या होता है अंतर, जानें
Difference: RBC और WBC में क्या होता है अंतर, जानें

Difference: मानव शरीर में करीब पांच लीटर खून मौजूद रहता है। हमारे खून में लाल रक्त कोशिकाएं और सफर रक्त कोशिकाएं मौजूद रहती हैं। इन दोनों का ही हमारे शरीर में महत्वपूर्ण काम होता है। लेकिन, क्या आपको पता है कि इन दोनों के बीच क्या अंतर होता है और ये क्या काम करती हैं। यदि नहीं, तो हम इस लेख के माध्यम से आपको इन दोनों के बीच अंतर को बताएंगे। साथ ही यह भी बताएंगे कि इन दोनों का क्या काम होता है। 

 

रेड ब्लड सेल्स 

 

रेड ब्लड सेल्स खून का सबसे बड़ा हिस्सा होती हैं। यह लाल रंग की कोशिकाएं होती हैं, जिन्हें एरिथ्रोसाइट कहते हैं। यह सेल्स बहुत ही छोटी और चपटी होती हैं। आकार की बात करें तो यह कटोरीनुमा आकार में होती हैं। यह सेल्स कार्बन डाइक्साइड को फेफड़ों तक पहुंचाती है, जिससे कार्बन डाइक्साइड शरीर से बाहर निकलती है। वहीं, इनका काम शरीर के हर अंग तक रक्त के माध्यम से ऑक्सीजन की आपूर्ति करना होता है। 

 

कहां होता है लाल रक्त कोशिकाओं का निर्माण

 

इनके निर्माण की बात करें तो लाल रक्त कोशिकाओं का निर्माण हड्डियों के अंदर अस्थि मज्जा में होता है। आपको यह भी बता दें कि इनका जीवन अधिक लंबा नहीं होता है, बल्कि यह सिर्फ 120 दिनों तक ही जीवित रहती हैं। इसके बाद यह खुद ही नष्ट हो जाती है। हालांकि, इनका फिर से निर्माण होता है। 

 

कमी से क्या पड़ेगा प्रभाव

यदि शरीर के अंदर लाल रक्त कोशिकाओं  की कमी हो जाए, तो शरीर के अंगों तक सही मात्रा में ऑक्सीजन की आपूर्ति नहीं हो पाती है। वहीं, इसकी कमी की वजह से जल्दी थकान, शरीर का पीला पड़ना और दिल की धड़कन का कम या ज्यादा होने जैसी परेशानियां होती हैं। वहीं, जिन बच्चों में इसकी कमी होती है, उनमें बाकी बच्चों की तुलना में स्वास्थ्य का विकास धीमी रफ्तार से होता है। 



क्या होती है सफेद रक्त कोशिका

 

सफेद रक्त कोशिका को मेडिकल की भाषा में लिंफोसाइट्स कहा जाता है। ये हमें बीमारियों से बचाने में मदद करती हैं। शरीर में जब जीवाणु हमला करते हैं, तो यह सक्रिय हो जाते हैं और जीवाणुओं का सामना करते हैं। इनका रंग हल्का नीला या सफेद होता है। इसलिए इन्हें सफेद रक्त कोशिका कहा जाता है। 

 

कहां होता है निर्माण

 

सफेद रक्त कोशिका का निर्माण भी अस्थि मज्जा में ही होता है। इन्हें बनाने वाली कोशिकाओं का बात करें, तो ये हीमैटोपोएटिक स्टेम सेल्स होती हैं। इनमें अलग-अलग कोशिकाओं की बात करें तो नेचुरल कीलर-सेल्स, बी-सेल्स और टी-सेल्स होते हैं। 

 

कमी से क्या पड़ता है शरीर पर प्रभाव

 

यदि शरीर में सफेद रक्त कोशिकाएं कम हो जाए, तो शरीर में संक्रमण फैल जाता है, जिससे बीमारी को बढ़ने में मदद मिलती है। ऐसे में शरीर को बीमारियों से बचाने के लिए सफेद रक्त कोशिका बहुत जरूरी होती है।

 

पढ़ेंः Difference: टोफू और पनीर में क्या होता है अंतर, जानें