1. Home
  2. Hindi
  3. Capt Shiva Chouhan: सियाचिन में तैनात होने वाली पहली महिला आर्मी ऑफिसर बनी शिवा चौहान

Capt Shiva Chouhan: सियाचिन में तैनात होने वाली पहली महिला आर्मी ऑफिसर बनी शिवा चौहान

कैप्टन शिवा चौहान सियाचिन बेटल फील्ड में तैनात होने वाली भारतीय सेना की पहली महिला ऑफिसर बन गयी है. इंडियन आर्मी ने दुनिया के सबसे ऊंचे और दुर्गम बेटल फील्ड सियाचिन में पहली बार एक महिला आर्मी ऑफिसर की तैनाती की है.   

सियाचिन में तैनात होने वाली पहली महिला आर्मी ऑफिसर बनी कै. शिवा चौहान
सियाचिन में तैनात होने वाली पहली महिला आर्मी ऑफिसर बनी कै. शिवा चौहान

Meet Capt Shiva Chauhan: इंडियन आर्मी ने, दुनिया के सबसे ऊंचे और दुर्गम बेटल फील्ड सियाचिन में पहली बार एक महिला आर्मी ऑफिसर की तैनाती की. कैप्टन शिवा चौहान (Captain Shiva Chouhan) सियाचिन बेटल फील्ड में तैनात होने वाली भारतीय सेना की पहली महिला ऑफिसर बन गयी है. 

भारत की बहादुर बेटी, कैप्टन शिवा चौहान को इसके लिए सियाचिन बैटल स्कूल (Siachen Battle School) में एक महीने की हार्ड ट्रेंनिंग से गुजरना पड़ा है. जिसके बाद उनकी तैनाती भारत के लिए सबसे महत्वपूर्ण क्षेत्र सियाचिन में की गयी है.

कैप्टन शिवा चौहान के तैनाती की जानकारी इंडियन आर्मी के फायर एंड फ्यूरी कॉर्प्स ने एक ट्वीट के माध्यम से दी है. कैप्टन शिवा फायर एंड फ्यूरी सैपर्स (Fire and Fury Sappers) है. फायर एंड फ्यूरी का मुख्यालय लेह में है. यह कोर नॉर्थ कमांड के अंतर्गत आता है जो चीन और पाकिस्तान से सियाचिन ग्लेशियर की सुरक्षा करती है.  

कौन है कैप्टन शिवा चौहान?

कैप्टन शिवा चौहान राजस्थान की रहने वाली है, उन्होंने 11 साल की उम्र में ही अपने पिता को खो दिया था. उसके बाद उनकी माँ ने उनका और उनकी पढ़ाई का ध्यान रखा और कोई कमी नहीं होने दी.  

कैप्टन शिवा की स्कूली शिक्षा उदयपुर में पूरी हुई थी. उसके बाद उन्होंने NJR इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी, उदयपुर से सिविल इंजीनियरिंग में अपनी स्नातक की डिग्री हासिल की. 

इंडियन आर्म्ड फ़ोर्स में जाने के लिए वह बचपन से ही उत्साहित रहा करती थी, जिसका प्रमाण उन्होंने OTA (ऑफिसर्स ट्रेनिंग एकेडमी), चेन्नई में ट्रेंनिंग के दौरान दिया. जिसके बाद उन्हें मई 2021 में इंजीनियर रेजिमेंट में तैनात किया गया. 

कैप्टन शिवा ने जुलाई 2022 में कारगिल विजय दिवस के अवसर पर, सुरा सोई साइकिल अभियान (Sura Soi Cycling Expedition) का सफल नेतृत्व किया था जो सियाचिन वॉर मेमोरियल से शुरू होकर कारगिल वॉर मेमोरियल पर समाप्त हुई थी. 

कैप्टन शिवा के अदम्य साहस और लीडरशिप क्वालिटी को देखते हुए उन्हें सियाचिन बैटल स्कूल में प्रशिक्षण के लिए चुना गया था.

सियाचिन के 'कुमार पोस्ट' पर हुई तैनाती: 

कैप्टन शिवा की पोस्टिंग सियाचिन बेटल फील्ड के 'कुमार पोस्ट' (Kumar Post) पर की गयी है. जो 15,632 फीट की ऊंचाई पर स्थित है. कुमार पोस्ट को भारतीय सेना के लिए सबसे खतरनाक चौकियों में से एक माना जाता है. इस पोस्ट पर तैनात होने वाली वह पहली महिला ऑफिसर है. 

सियाचिन के लिए कैसी रही शिवा की ट्रेंनिंग?

कैप्टन शिवा को सियाचिन में तैनाती के लिए, सियाचिन बैटल स्कूल में सहनशीलता की ट्रेंनिंग (endurance training), बर्फ की दीवार पर चढ़ने, हिमस्खलन (avalanche) और हिमस्खलन बचाव (crevasse rescue) जैसी ट्रेनिंग दी गयी थी.

सेना ने एक बयान में कहा कि इस तरह की कठिन ट्रेंनिंग की चुनौतियों के बावजूद कैप्टन शिवा ने अदम्य प्रतिबद्धता और साहस का परिचय दिया जिसके बाद उनकी पोस्टिंग दुनिया के सबसे उंचे युद्ध क्षेत्र में की गयी है.

इसे भी पढ़े:

UIDAI ने आधार में 'हेड ऑफ फैमिली' आधारित ऑनलाइन एड्रेस अपडेट की सुविधा शुरू की, जानें इसके बारें में