Search

करियर काउंसेलिंग के महत्व पर जानिये करियर कोच नीलूफर जैन के विचार

सुश्री नीलूफ़र जैन एक करियर कोच, मास्टर ट्रेनर और दी हैप्पी करियर प्रोजेक्ट्स की फाउंडर हैं – जो भारत की पहली और एक ही करियर कंसल्टिंग फर्म है. यह फर्म यंग प्रोफेशनल्स को उनके भविष्य के लिए एक सफल करियर स्ट्रेटेजी बनाने में मदद करती है.

Jul 20, 2018 16:32 IST
facebook IconTwitter IconWhatsapp Icon
Career Coach Niluufer Jain on importance of Career Counselling
Career Coach Niluufer Jain on importance of Career Counselling

करियर कोच नीलूफर जैन ने जागरणजोश.कॉम से बातचीत की.

इंटरव्यू के महत्वपूर्ण अंश:  

सुश्री नीलूफर का पर्सनल और एकेडेमिक प्रोफाइल

सुश्री नीलूफर जैन मॉरिशस में जन्मी और दिल्ली में उनका पालन-पोषण हुआ. उन्होंने कॉन्वेंट स्कूल से पढ़ाई की और उसके बाद बिजनेस मैनेजमेंट स्टडीज में डिग्री प्राप्त की. उन्होंने सेल्स और रिसर्च में स्पेशलाइजेशन सहित एक इंटरनेशनल टेलिकॉम रिसर्च फर्म में अपना प्रोफेशनल करियर शुरू किया. उसके बाद, उन्होंने अपनी इंटरप्रेन्योरियल जर्नी शुरू की और तब से यह उनके लिए यह एक रोलर कोस्टर राइड साबित हुई है. इस प्रोसेस में, उन्होंने अपने व्यक्तित्व के कई छुपे हुए पहलुओं के बारे में भी पता लगाया. उनकी इंटरप्रेन्योरियल स्पिरिट ने कई पैशन एरियाज को सक्रिय किया है, जिन्हें वह पहले नहीं जानती थीं या जिसके बारे में वे गौरव महसूस करतीं.

करियर काउंसेलिंग को अपने करियर के तौर पर चुना

उन्होंने एक इंटरनेशनल टेलिकॉम रिसर्च फर्म के साथ अपना प्रोफेशनल करियर शुरू किया और लगभग 3 वर्षों तक उक्त फर्म की स्टार्ट-अप विंग में काम किया जहां उन्होंने मार्केटिंग, सेल्स और इंटरनेशनल सेल्स के बारे में काफी कुछ सीखा. उसके बाद, उन्होंने एजुकेशन सेक्टर में अपना उद्यम या वेंचर शुरू किया अर्थात एक कंसल्टिंग फर्म शुरू की जिसका फोकस ‘विदेशों में अध्ययन’ पर था. 

अपने पहले वेंचर के एक हिस्से के तौर पर, उन्होंने कुछ दूरदराज के क्षेत्रों सहित पूरे भारत में ट्रेवलिंग की और कई पेरेंट्स तथा स्टूडेंट्स से मिलीं. तब उन्हें यह महसूस हुआ कि, भारत के अधिकतर स्टूडेंट्स सामाजिक आकांक्षाओं के मुताबिक अपना करियर संबंधी निर्णय लेते हैं. उन्होंने एक अन्य प्रमुख समस्या का पता लगाया और वह प्रमुख समस्या थी - विभिन्न करियर ऑप्शन्स के संबंध में स्टूडेंट्स के बीच जागरूकता/ जानकारी की कमी. जिन स्टूडेंट्स को विभिन्न करियर ऑप्शन्स के बारे में जानकारी भी थी, उनमें से अधिकांश स्टूडेंट्स ने इंजीनियरिंग और मेडिकल करियर को आर्थिक और भावनात्मक रूप से स्थिर करियर ऑप्शन्स के तौर पर चुना. एक अन्य रोचक फैक्ट उन्हें पता चला कि, जिन पेशेवरों ने हाल ही में अपने करियर और/ या जॉब शुरू किये थे, उन्हें भी अपनी करियर स्ट्रेटेजी और भविष्य की योजना बनाने के लिए सहायता की जरूरत थी. उक्त फैक्ट्स के आधार पर ही उन्होंने करियर काउंसेलिंग को अपने लाइफ-पैशन के तौर पर चुना.

एक्सपर्ट के बारे में:

सुश्री नीलूफ़र जैन एक करियर कोच, मास्टर ट्रेनर और दी हैप्पी करियर प्रोजेक्ट्स की फाउंडर हैं – जो भारत की पहली और एक ही करियर कंसल्टिंग फर्म है. यह फर्म यंग प्रोफेशनल्स को उनके भविष्य के लिए एक सफल करियर स्ट्रेटेजी बनाने में मदद करती है. सुश्री जैन के काम में करियर एडवाइजरी, करियर डेवलपमेंट ट्रेनिंग, मेंटरिंग और कोचिंग शामिल है और इनके माध्यम से श्रीमती जैन ने हजारों स्टूडेंट्स और प्रोफेशनल्स को उनके लिए सही करियर ऑप्शन चुनने में मदद की है जिससे उन स्टूडेंट्स और कैंडिडेट्स को अपना सफल और संतोषजनक करियर बनाने में मदद मिली है.

Related Stories