Jagran Josh Logo
  1. Home
  2. |  
  3. एमबीए|  

एमबीए एजुकेशन के लिए अगर चाहिए लोन तो रेडी रखें ये डॉक्यूमेंट्स

Sep 4, 2018 16:55 IST
  • Read in English
MBA Education Loan
MBA Education Loan

आजकल  एमबीए अंडरग्रेजुएट्स के बीच सबसे हॉट करियर में से एक है. इस फील्ड में जॉब सैटिसफैक्शन, वर्क लाइफ बैलेंस तथा सैलरी के मामले में यह फील्ड वास्तव में उम्मीदवारों को बहुत राहत प्रदान करता है. हालांकि किसी अच्छे एमबीए इंस्टीट्यूट में एडमिशन लेना उतना आसान नहीं है. अगर किसी टॉप बी स्कूल में एडमिशन मिल भी गया तो फिर उसकी भारी भरकम फीस की चिंता सताती है. 2 साल के रेगुलर एमबीए की फीस औसतन 10 लाख रूपये के लगभग पड़ती है. ऐसे में उम्मीदवारों द्वारा फीस की चिंता करना स्वाभाविक है. अगर ऐसी बात है और अभ्यर्थी आर्थिक रूप से मजबूत नहीं है तो उसके लिए बेहतर विकल्प है एजुकेशन लोन लेना. लेकिन बैंकों से लोन मिलना भी बहुत आसान नहीं है. इसके लिए छात्रों को मशक्कत करनी पड़ती है तथा कभी कभी यह एक उबाऊ प्रक्रिया बन जाती है.

 

इसलिए एमबीए एजुकेशन लोन बिना किसी परेशानी के छात्रों को किस प्रकार मिल सकती है ? इसके लिए छात्रों को निम्नलिखित बातों पर गौर करना होगा -

अपनी वित्तीय जरूरतों का आकलन करें

अगर आप अपनी एमबीए की पढाई पूरी करने के लिए एजुकेशन लोन लेना चाहते हैं तो आप सबसे पहले अपनी वित्तीय जरूरतों को पहचाने और उनका आकलन करें. एमबीए एजुकेशन लोन के मामले में हर छात्र की वित्तीय जरूरतें अलग अलग होती हैं. कुछ छात्रों को अपने फेमिली सपोर्ट की वजह से एजुकेशन की पूरी राशि लोन नहीं लेनी पड़ती है जबकि कुछ को पूरी राशि लोन लेने की आवश्यकता होती है. भारत के टॉप एमबीए इंस्टीट्यूट में एमबीए के 2 साल के फुल टाइम कोर्स की फीस निम्नांकित है -

एक्सपेंस हेड

राशि (रुपए)

कॉलेज फीस

8-21 लाख

बोर्डिंग और लॉजिंग

2-4 लाख

स्टडी मटीरियल,लैपटॉप,बुक्स और स्टेशनरी

1.5 -2 लाख

स्टडी टूर,फॉरेन एक्सचेंज प्रोग्राम्स 

2-3 लाख

विविध  (कपड़े, ट्रैवेल, इंटरटेनमेंट )

2-3 लाख

एमबीए एजुकेशन लोन – एलिजिबिलिटी

एमबीए एजुकेशन लोन लेते समय आपको कई और अन्य बातों पर अमल करना होगा जिसमें अपनी एलिजिबिलिटी की जाँच करना बहुत जरुरी है. वैसे टॉप बिजनेस स्कूल्स के बिजनेस मैनेजमेंट प्रोग्राम पर अधिकांश बैंक लोन देने के लिए तैयार रहते हैं लेकिन इसके लिए आपके पास एलिजिबिलिटी भी होनी चाहिए. मुख्य एलिजिबिलिटी है -

नागरिकता : एमबीए एजुकेशन लोन लेने वाला अभ्यर्थी भारत का नागरिक होना चाहिए

एकेडमिक : एमबीए एजुकेशन लोन लेने वाले अभ्यर्थी के पास एमबीए प्रोग्राम में एडमिशन से सम्बन्धित सुरक्षित और प्रमाणित डॉक्यूमेंट होना चाहिए.

आयु : एमबीए एजुकेशन लोन लेने वाले अभ्यर्थी की आयु 16 से 35 वर्ष के बीच होनी चाहिए. (अनिवार्य नहीं)

आईआईएम अहमदाबाद, एक्सएलआरआई या जेबीआईएमएस आदि भारत के टॉप बिजनेस स्कूल हैं. ये इंस्टीट्यूट्स एजुकेशन लोन के जरिये पढ़ाई करने वाले छात्रों की जानकारी शेयर करते हैं.

अपने एमबीए प्रोग्राम के लिए उपलब्ध लोन की राशि को जानने की कोशिश करें

एक और महत्वपूर्ण पहलू जिसे एमबीए प्रोग्राम चुनते समय विचार करना चाहिए, वह है एमबीए प्रोग्राम्स (जिसमें आप एडमिशन लेना चाहते हैं) के लिए उपलब्ध लोन की राशि को जानना.

विभिन्न बी-स्कूलों और विभिन्न एमबीए प्रोग्राम्स  में एमबीए एजुकेशन के आधार पर लोन की अलग-अलग सीमाएं हैं तथा भिन्न भिन्न उम्मीदवारों के लिए अलग अलग लोन की राशि स्वीकृत की जाती है. उदाहरणतया प्रीमियम एमबीए कॉलेजों के लिए लिए गए एजुकेशन लोन पर इंटरेस्ट रेट 2 या 3 टियर लेवल के बी-स्कूलों की तुलना में कम होता है.

भारत के टॉप एमबीए प्रोग्राम्स तथा टॉप एमबीए कॉलेजों की रैंकिंग की सूची विभिन्न बैंकों द्वारा उनकी वेबसाइटों पर प्रकाशित की जाती है, जहां से उम्मीदवारों को एजुकेशन लोन की अधिकतम राशि पता चल सकती है जिसे वे स्वीकृत होने की उम्मीद कर सकते हैं. इन सभी जानकारी के आधार पर वे लोन राशि सैंक्शन होने की उम्मीद कर सकते हैं तथा बची हुई राशि की व्यवस्था करने में सक्षम हो सकते हैं.

एमबीए एजुकेशन लोन के तहत कवर किए गए व्यय को जानें

एजुकेशन लोन की राशि का मूल्यांकन करने के बाद आप अपनी एमबीए की पढ़ाई की शुरुआत कर सकते हैं. इस सन्दर्भ में दूसरी बात जो आपको जांचनी चाहिए वह है लोन के तहत कवर किया गया व्यय. आम तौर पर एमबीए प्रोग्राम रेसिडेंशियल प्रोग्राम होते हैं और इसलिए छात्रों के कुछ अन्य खर्चे भी होते हैं जिन्हें ट्यूशन शुल्क के अतिरिक्त कवर करने की आवश्यकता होती है. इसलिए  बैंक या उधार एजेंसियों ने बुनियादी कोर्स फीस से परे नॉन एकेडमिक कॉस्ट या व्यय को कवर करने के लिए अतिरिक्त लोन राशि भी शुरू कर दी है. एमबीए एजुकेशन लोन के तहत शामिल विभिन्न प्रकार के खर्चों में शामिल हैं:

  • ट्युशन फी
  • हॉस्टल / एकोमोडेशन
  • लाइब्रेरी और लेबोरेट्रीज फीस
  • एग्जाम फीस
  • स्टडी मटीरियल कॉस्ट (बुक्स , इक्विपमेंट्स, इंस्ट्रूमेंट्स आदि)
  • इंस्टीट्यूशंस बिल / सेक्युरिटी डिपोजिट की रिसिप्ट्स
  • ट्रेवेल एक्सपेंसेज
  • स्टडी टूर एक्सपेंसेज
  • प्रोजेक्ट वर्क / थीसिस एक्सपेंज  

विभिन्न लोन ऑफर्स की तुलना करें

सरकार तथा प्राइवेट बैंक्स के अतिरिक्त गैर-बैंकिंग वित्तीय इंस्टीट्यूट्स  भारत के टॉप बी-स्कूलों में एमबीए कोर्सेज के लिए एजुकेशन लोन की पेशकश करते हैं.लेकिन जब छत्रों के पसंद की बात आती है तो उस पर कोई विशेष ध्यान नहीं दिया जाता. वैसे एमबीए एजुकेशन लोन लेना एक समान खरीदने के समान ही है. इसलिए जब एमबीए एजुकेशन लोन की बात हो तो छात्रों को अवश्य ही अपनी इच्छाओं का भी ध्यान रखना चाहिए और इसके चयन से पूर्व उपलब्ध सभी विकल्पों पर विचार करना चाहिए.

मार्केट में उपलब्ध सभी लोन ऑफर की तुलना करनी चाहिए.इससे लोन से सम्बन्धित विभिन्न पहलुओं का मूल्यांकन करने में मदद मिलेगी और भविष्य में उसके अन्य प्रभावों को भी समझने में मदद मिलेगी. इसलिए छात्रों को अवश्य ही उनके लिए उपलब्ध विभिन्न एमबीए एजुकेशन लोन्स की तुलना करनी चाहिए और उनके  नियम और शर्तों, अधिकतम राशि, ब्याज की रियायती दर, सह उधारकर्ता के बंधन, मार्जिन और सुरक्षा की आवश्यकता जैसे कारकों का पूर्ण मूल्यांकन करना चाहिए. इससे उन्हें विकल्पों के चयन में सुविधा होगी.

एमबीए एजुकेशन लोन के लिए आवश्यक डॉक्यूमेंट

किसी भी अन्य लोन की पेशकश की तरह एजुकेशन लोन के प्रोसेसिंग में एक विस्तृत डॉक्यूमेंटेशन प्रक्रिया भी शामिल है, जो कभी-कभी काफी बोझिल हो जाती है. एमबीए एजुकेशन लोन डॉक्यूमेंटेशन प्रक्रिया की उचित समझ के अभाव में अक्सर छात्रों को बहुत भाग दौड़ करनी पड़ती है. इस भाग दौड़ से बचने के लिए छात्रों को नीचे दिए गए डॉक्युमेंट को अपने पास रखना चाहिए ताकि उनके एजुकेशन लोन के प्रोसेसिंग में कोई समस्या नहीं आये.

  • आवश्यक प्रारूप में लोन अप्लिकेशन फॉर्म
  • प्रवेश पत्र / एमबीए प्रोग्राम में एडमिशन का सबूत (प्रूफ)
  • पासपोर्ट आकार की तस्वीरें
  • एड्रेस प्रूफ  (वर्तमान और स्थायी दोनों)
  • एज प्रूफ (जन्म प्रमाण पत्र / एलसी)
  • एकेडमिक डाक्यूमेंट्स (कक्षा 10, कक्षा 12, ग्रेजुएशन और पोस्ट ग्रेजुएशन मार्कशीट)
  • पिछले 6 महीनों के बैंक स्टेटमेंट

इनके अलावा, बैंक उम्मीदवारों से डॉक्यूमेंट प्रोसेस के हिस्से के रूप में पिछले दो वर्षों के आयकर निर्धारण आदेश (टैक्स असेसमेंट ऑर्डर)या किसी  संपत्ति और देनदारियों के संक्षिप्त विवरण प्रस्तुत करने के लिए कह सकता है.

एमबीए एजुकेशन लोन के लिए आवेदन करने के मुख्य चरण

आजकल  ज्यादातर बैंक और एनबीएफसी लोन आवेदनों को प्रोसेस करने के लिए ऑनलाइन तकनीक का उपयोग करते हैं, खासकर जब एमबीए एजुकेशन लोन की बात हो तो और.इसलिए, एमबीए एजुकेशन लोन के लिए सफलतापूर्वक आवेदन करने हेतु उम्मीदवार को अपने संबंधित बैंक की वेबसाइट पर जाकर ऑनलाइन आवेदन करना होगा. अधिक विस्तृत जानकारी के लिए नीचे दिए गए विवरण को पढ़ें

चरण 1: अपने बैंक की आधिकारिक वेबसाइट पर जाएं

चरण 2: वेबसाइट पर एजुकेशन लोन सेक्शन खोजें

चरण 3: एमबीए छात्रों के लिए एजुकेशन लोन से संबंधित विवरण प्राप्त करें

चरण 4: आवश्यक जानकारी प्राप्त करके ऑनलाइन आवेदन पत्र भरें

चरण 5: सभी विवरणों को पूरा करने के बाद फॉर्म जमा करें

फॉर्म जमा करने के बाद  बैंक अप्लिकेशन प्रोसेस को पूरा करने के लिए छात्र या उसके माता पिता से आवश्यक जानकारी हासिल करते हैं. सभी आवश्यक डाक्यूमेंट्स इकठ्ठा करने के लिए बैंक छात्र के घर अपना प्रतिनिधि भेजता है. इसके बाद बैंक लोन को प्रोसेस करता है और बैंक लोन से जुड़े सभी डिटेल छात्र के घर पोस्ट द्वारा भेजता है. उस डॉक्यूमेंट पर साइन कर उसे पुनः बैंक को वापस भेजना होता है. इसलिए उस पूरे डिटेल को सावधानी पूर्वक पढ़ने के बाद ही उस पर साइन करें. इसके बाद बैंक लोन देने की सारी औपचारिकताएं पूरी करता है. 

निगोसिएशन टिप्स

वैसे तो एजुकेशन लोन से संबंधित अधिकांश नियम और शर्तें एजुकेशन लोन समझौते के हिस्से के रूप में पहले ही तय की गई होती हैं लेकिन  कुछ ऐसे पहलू हैं जिनके लिए बैंक के साथ बातचीत की जा सकती है. एमबीए एजुकेशन लोन के लिए आपको अपने बैंक के साथ बातचीत या चर्चा करने के कुछ महत्वपूर्ण कारकों को नीचे सूचीबद्ध किया गया है जिस पर आप चर्चा कर सकते हैं :

  • एमबीए कोर्स अवधि के दौरान लोन की कोई चुकौती है या नहीं
  • अगर पाठ्यक्रम पूरा होने से पहले पुनर्भुगतान किया जाय तो लोन इंटरेस्ट में राहत
  • अगर माता-पिता सह-उधारकर्ता बन जाते हैं, तो लोन इंटरेस्ट रेट में कमी
  • किसी भी तरह का लोन प्रोसेसिंग फी नहीं
  • रेट ऑफ इंटरेस्ट
  • आगर मार्जिन राशि लागू हो तो उसपर बातचीत करें

एमबीए एजुकेशन लोन : कोलेट्रल

सामान्यतः भारत के टियर 1 तथा टॉप 50 बी स्कूलों में एमबीए कोर्सेज की फीस 12 से 25 लाख के बीच हो सकती है.लेकिन हर कोर्स के लिए 100 प्रतिशत लोन नहीं मिलता है. 10 लाख तक का लोन लगभग हर बैंक एमबीए एजुकेशन के लिए प्रोसेस कर सकते हैं.

लोन राशि और जिस इंस्टीट्यूट से एमबीए करना है, उसके आधार पर बैंक 100 प्रतिशत भी फंड कर सकते हैं. अधिकांश बैंक एजुकेशन लोन के लिए 4 लाख रुपये तक किसी मार्जिन राशि की मांग नहीं करते हैं.4 लाख से 8 लाख रुपये तक के लोन के लिए एजुकेशन लोन की प्रोसेसिंग के लिए तीसरे पक्ष की गारंटी की जरुरत पड़ती है.8 लाख रुपये से अधिक के लोन के लिए  बैंक आम तौर पर कोलेट्रल के बारे में पूछते हैं.

 छात्रों को यह हमेशा ध्यान में रखना चाहिए कि मार्जिन मनी, गारंटी और कोलेट्रल एक विकल्प है और केवल तभी प्रदान किया जाना चाहिए जब विशेष रूप से एजुकेशन लोन में इसका वर्णन किया गया हो. ऐसे कई बैंक हैं जो एमबीए एजुकेशन लोन प्रदान करते हैं और उन्हें इन तीनों में से किसी भी घटक की आवश्यकता नहीं होती है.

भारत में एमबीए की पढ़ाई पूरा करने में मदद करने हेतु एमबीए एजुकेशन लोन एक परफेक्ट टूल है. इसलिए एजुकेशन लोन, प्रोसेसिंग डिटेल,डॉक्यूमेंट प्रोसेस आदि सभी पहलुओं के बारे में व्यापक और सही जानकारी से छात्रों को व्यवस्थित तरीके से लोन के लिए बैंकों से संपर्क करने में बहुत मदद मिलेगी. इतना ही नहीं इससे छात्रों के समय और मेहनत की भी बचत होगी. एमबीए एजुकेशन लोन तथा अन्य फंडिंग रिसोर्सेज की पूर्ण जानकारी के लिए कृपया www.jagranjosh.com/mba पर लॉगइन करें.

Latest Videos

Register to get FREE updates

    All Fields Mandatory
  • (Ex:9123456789)
  • Please Select Your Interest
  • Please specify

  • ajax-loader
  • A verifcation code has been sent to
    your mobile number

    Please enter the verification code below

Newsletter Signup
Follow us on
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK
X

Register to view Complete PDF