जानें 10 IAS अधिकारियों के बारे में जो बाद में नेता बनें

आइये इस लेख में 10 ऐसे IAS अधिकारियों के बारे में जानते हैं जिन्होनें सिविल सर्विसेज में अपना योगदान देने के बाद राजनीती में कदम रखा और नेता बने. उनमें से कुछ ने इसके लिए अपनी नौकरी छोड़ दी और कुछ ने अपने जीवन में बाद में लोगों का प्रतिनिधि बनने का रास्ता चुना.
Created On: Dec 17, 2021 13:27 IST
Modified On: Mar 29, 2022 11:33 IST
IAS Officers who became Politicians
IAS Officers who became Politicians

UPSC सिविल सेवा को जॉइन करना बहुत से भारतीयों का सपना है और एक बड़ा सपना यह भी है कि वे लोगों का प्रतिनिधि बनें. ऐसा देखा गया है कि कई IAS अधिकारीयों ने सिविल सर्विसेज की नौकरी छोड़कर राजनीती में कदम रखा. इस लेख में हमने कुछ ऐसे अधिकारियों की रोचक कहानियों को संकलित किया है जो IAS बनने के बाद राजनीती में आए और नेता बने. आइये ऐसे IAS अधिकारियों के बारे में  जानते हैं.

READ| जानें कैसे IAS सर्जना यादव ने केवल सेल्फ स्टडी कर पास की थी UPSC परीक्षा!

10 IAS अधिकारियों की सूची जो बाद में नेता बने

1. अजीत जोगी (Ajit Jogi)

अजीत जोगी ने भोपाल के मौलाना आजाद कॉलेज ऑफ टेक्नोलॉजी से मैकेनिकल इंजीनियरिंग की पढ़ाई की, 1968 में यूनिवर्सिटी गोल्ड मेडल जीता. कॉलेज के बाद वे IAS अफ़सर बने. अजीत जी 1968 बैच के IAS ऑफिसर थे. नौकरी छोड़ने के बाद वे कांग्रेस पार्टी में शामिल हो गए थे. उसके बाद वे छत्तीसगढ़ के पहले मुख्यमंत्री बने. कभी गांधी परिवार के वफादार रहे, उन्हें भ्रष्टाचार और आपराधिक मामलों के आरोपों का सामना भी करना पड़ा. उन्होंने अंततः पार्टी छोड़ दी और ‘छत्तीसगढ़ जनता कांग्रेस’(Chhattisgarh Janata Congress) नामक अपनी पार्टी बनाई.

2. मणिशंकर अय्यर (Mani Shankar Aiyar)

मणिशंकर अय्यर का जन्म लाहौर में हुआ था. वह 1963 में भारतीय विदेश सेवा ( Indian Foreign Services) में शामिल हुए. वे 1991 में तमिलनाडु के मयिलादुतुरई (Mayiladuturai) से लोकसभा के लिए चुने गए. तब से उन्होंने कई विभागों में कार्य किया.

3. यशवंत सिन्हा (Yashwant Sinha)

चंद्रशेखर की केंद्रीय कैबिनेट में पहले वित्त मंत्री और एक लोकप्रिय नाम, यशवंत सिन्हा 1960 में सरकार में शामिल होने वाले IAS अधिकारी थे. वह 1984 तक अधिकारी बने रहे और भाजपा में जाने से पहले वे जनता दल में शामिल हुए थे. 2018 में, उन्होंने वर्तमान पार्टी नेतृत्व के साथ मतभेदों के परिणामस्वरूप भाजपा छोड़ दी. उनके बेटे जयंत सिन्हा नागरिक उड्डयन राज्य मंत्री थे.

4. मीरा कुमार (Meira Kumar)

मीरा कुमार 2009 से 2014 तक पहली महिला लोकसभा स्पीकर थीं. वह जगजीवन राम की बेटी हैं. जगजीवन राम जी ने भारत के चौथे उप प्रधान मंत्री के रूप में कार्य किया. मीरा कुमार 1973 में सिविल सेवा में शामिल हुईं और एक दशक से अधिक समय तक IFS अधिकारी के रूप में कार्य किया. वह 1985 में बिजनौर उपचुनाव में रामविलास पासवान और मायावती को हराकर राजनीति में शामिल हुईं.

5. नटवर सिंह (Natwar Singh)

वह 1953 में भारतीय विदेश सेवा (Indian Foreign Service) में शामिल हुए और 31 वर्षों तक IFS अधिकारी के रूप में कार्य किया. वह चीन और अमेरिका जैसे महत्वपूर्ण दूतावासों में तैनात थे. 1984 में, उन्होंने IFS छोड़ दिया और कांग्रेस में शामिल हो गए. वे राजस्थान के भरतपुर से आठवीं लोकसभा में चुने गए. उसी वर्ष, उन्हें पद्म भूषण से सम्मानित किया गया. उन्होंने मनमोहन सिंह की यूपीए सरकार में विदेश मंत्री के रूप में भी कार्य किया.

READ|  5 बार हुई UPSC परीक्षा में फेल पर नहीं मानी हार, लास्ट अटेम्प्ट में हासिल की 11वीं रैंक - जानें नूपुर गोयल की कहानी

6. अरविंद केजरीवाल (Arvind Kejriwal)

वह एक आईआईटीयन, मैकेनिकल इंजीनियर थे. फिर उन्होंने सिविल सेवा परीक्षा उत्तीर्ण की और 1995 में सहायक आयकर आयुक्त के रूप में भारतीय राजस्व सेवा (IRS) में शामिल हुए. कुछ वर्षों के बाद वह सूचना के अधिकार के लिए भारतीयों के लिए एक प्रचारक बन गए और 2006 में इमर्जेंट लीडरशिप (Emergent Leadership) के लिए रेमन मैग्सेसे पुरस्कार (Ramon Magsaysay award) भी जीता.

वह 2011 में जन लोकपाल आंदोलन का एक चेहरा भी बने. उन्होंने 2012 में आम आदमी पार्टी की शुरुआत की. पार्टी 2013 में दिल्ली विधानसभा चुनाव में दूसरी सबसे बड़ी पार्टी के रूप में उभरी. अब वह 2013 से दिल्ली के मुख्यमंत्री हैं.

7. हरदीप सिंह पुरी (Hardeep Singh Puri)

हरदीप सिंह पुरी वर्तमान में आवास और शहरी मामलों के राज्य मंत्री हैं. वे 1974 में भारतीय विदेश सेवा (Indian Foreign Service) में शामिल हुए और उन्होंने UK और ब्राजील में एक राजदूत के रूप में कार्य किया. वह जिनेवा के साथ-साथ न्यूयॉर्क में संयुक्त राष्ट्र में भारत के स्थायी प्रतिनिधि भी थे. उन्होंने 2011-2012 में संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद काउंटर-टेररिज्म कमेटी (United Nations Security Council Counter-Terrorism Committee) के अध्यक्ष के रूप में भी कार्य किया.

8. राज कुमार सिंह (Raj Kumar Singh)

वह 1975 बैच के बिहार-कैडर के पूर्व IAS अधिकारी थे जिन्होंने केंद्रीय गृह सचिव के रूप में कार्य किया. वे 1990 में समस्तीपुर के जिला मजिस्ट्रेट थे. वे 2013 में भाजपा में शामिल हुए और वर्तमान में बिजली और नवीन और नवीकरणीय ऊर्जा (Power and new & renewable energy) राज्य मंत्री हैं.

9. सत्यपाल सिंह (Satyapal Singh)

वह एक पूर्व भारतीय पुलिस सेवा, महाराष्ट्र कैडर के 1980 बैच के IPS अधिकारी हैं. उन्होंने मुंबई के पुलिस आयुक्त के रूप में भी काम किया और 1990 के दशक में मुंबई में अपराध को खत्म करने में भूमिका निभाई. 2014 में, उन्होंने मुंबई पुलिस प्रमुख के पद से इस्तीफा दे दिया और भाजपा में शामिल हो गए. उन्होंने 2014 के आम चुनावों में बागपत सीट से चुनाव लड़ा और जीता. वह भारत के मानव संसाधन विकास राज्य मंत्री थे जो उच्च शिक्षा के लिए जिम्मेदार थे और जल संसाधन, नदी विकास और गंगा संरक्षण मंत्रालय में राज्य मंत्री भी थे.

10. अल्फोंस कन्ननथनम (Alphons Kannanthanam)

केरल के कोट्टायम जिले के रहने वाले अल्फोंस कन्ननथनम 1979 बैच के सेवानिवृत्त IAS अधिकारी हैं. वह उस वर्ष कोट्टायम में कांजीरापल्ली (Kanjirappally) से एक निर्दलीय विधायक के रूप में चुने गए थे, जिसमें लेफ्ट डेमोक्रेटिक फ्रंट का समर्थन था. वह 2011 में भाजपा में शामिल हुए और छह साल बाद राजस्थान से राज्यसभा सांसद बने.

READ| LBSNAA - जहां पहुंचने का ख्वाब हर UPSC Aspirant देखता है: जानें इस अकेडमी से जुड़े 7 रोमांचक तथ्य

 

Get the latest General Knowledge and Current Affairs from all over India and world for all competitive exams.
Comment (1)

Post Comment

3 + 7 =
Post
Disclaimer: Comments will be moderated by Jagranjosh editorial team. Comments that are abusive, personal, incendiary or irrelevant will not be published. Please use a genuine email ID and provide your name, to avoid rejection.
  • Jangid KumarDec 29, 2021
    Visit allthebestgk
    Reply

Related Categories