Positive India: जानें कैसे IAS सर्जना यादव ने केवल सेल्फ स्टडी कर पास की थी UPSC परीक्षा!

IAS सर्जना यादव ने कड़ी मेहनत और लगन से अपने तीसरे प्रयास में  2019 की UPSC परीक्षा पास की थी। उन्होंने यह सफलता बिना किसी कोचिंग की सहायता के हासिल की थी। 

Created On: May 18, 2021 10:08 IST
IAS Sarjana Yadav UPSC success story in Hindi
IAS Sarjana Yadav UPSC success story in Hindi

UPSC परीक्षा को पास करने की रणनीति के बारे में जानने का सबसे अच्छा स्रोत एक IAS अधिकारी की तैयारी की यात्रा के बारे में पढ़ना है। एक आईएएस उम्मीदवार को किसी IAS की जीवनी के माध्यम से बहुत सी चीजें सीखने को मिलती हैं, जैसे कि IAS अधिकारी द्वारा इस्तेमाल की जाने वाली रणनीति। इस तरह की योजना से उम्मीदवार UPSC परीक्षा की बेहतर तैयारी कर पाते हैं। उम्मीदवार उन गलतियों के बारे में भी सीखते हैं जो एक सफल IAS अधिकारी ने अपनी आईएएस बनने की तैयारी के समय की थी। यह आईएएस उम्मीदवार को उन गलतियों से अवगत कराता है जिनसे उन्हें बचना चाहिए। इस लेख में, आप एक आईएएस अधिकारी सरजना यादव की यात्रा के बारे में जानेंगे जिन्होंने सेल्फ स्टडी के माध्यम से UPSC सिविल सेवा परीक्षा पास की थी। 

Positive India: 5 बार हुई UPSC परीक्षा में फेल पर नहीं मानी हार, लास्ट अटेम्प्ट में हासिल की 11वीं रैंक - जानें नूपुर गोयल की कहानी

UPSC की तैयारी के लिए छोड़ी नौकरी 

सर्जना ने दिल्ली प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय (DTU) से इंजीनियरिंग में ग्रेजुएशन की पढ़ाई पूरी की। ग्रेजुएशन के बाद वह TRAI  में रिसर्च ऑफिसर के तौर पर काम करने लगीं। अपनी नौकरी के साथ-साथ ही सर्जना ने दो बार यूपीएससी की परीक्षा दी परन्तु वह असफल रहीं। इसीलिए परीक्षा की बेहतर तैयारी के लिए उन्होंने 2018 में अपनी नौकरी छोड़ दी जब उन्होंने गंभीरता से तैयारी शुरू की। वह कहती हैं कि नौकरी के साथ किये गए प्रयास में वह अपना पूरा ध्यान नहीं दे पा रही थी। लेकिन जब उन्होंने 2018 में अपनी नौकरी से इस्तीफा दे दिया तो उन्होंने पूर्णकालिक तैयारी शुरू कर दी।

UPSC की तैयारी के लिए कोचिंग नहीं है ज़रूरी 

सर्जना का सुझाव है कि यदि व्यक्ति को लगता है कि तैयारी करते समय उसे निरंतर मार्गदर्शन की आवश्यकता हो सकती है तो व्यक्ति को कोचिंग के लिए जाना चाहिए। यदि व्यक्ति को लगता है कि वे कक्षा के वातावरण में बेहतर प्रदर्शन करने में सक्षम होंगे, तो आपको कोचिंग की तैयारी के लिए जाना चाहिए। लेकिन अगर आप सेल्फ स्टडी में अच्छे हैं और आपको खुद पर विश्वास है कि आप अनुशासित और अपनी पढ़ाई के प्रति ईमानदार हैं तो आप सेल्फ स्टडी का विकल्प चुन सकते हैं। सर्जना ने UPSC की तैयारी की पूरी अवधि के लिए स्व-अध्ययन का विकल्प चुना था।

लिमिटेड स्टडी मटेरियल से ही होगी बेहतर तैयारी 

सर्जना का कहना है कि यूपीएससी का सिलेबस बहुत विशाल है और प्रत्येक विषय के लिए 2-3 किताबें पढ़ने से आपके लिए निर्धारित समय में सिलेबस पूरा करना मुश्किल हो जाएगा। उनका सुझाव है कि प्रत्येक विषय के लिए एक अच्छी किताब का चयन करना चाहिए और उसे अच्छी तरह से पढ़ना चाहिए। भले ही पुस्तक में एक से दो विषय न हों, आप उस विषय को Google पर खोज सकते हैं या किसी अन्य पुस्तक को पूरी तरह से संदर्भित करने के बजाय आसानी से उपलब्ध संसाधनों की तलाश कर सकते हैं। 

हर किताब से नोट्स बनाना नहीं है ज़रूरी 

सर्जना कहती हैं, प्रत्येक विषय के नोट्स बनाना मुश्किल है क्योंकि आईएएस उम्मीदवारों को मॉक टेस्ट भी देना होता है और उन्हें नियमित रूप से अवधारणाओं को संशोधित भी करना पड़ता है। सर्जना ने प्रत्येक विषय के नोट्स नहीं बनाए, जिन पुस्तकों का उत्तर बहुत ही संरचित था और जो समझने में आसान थीं, उनके नोट्स बनाने की आवश्यकता नहीं थी। उन्होंने केवल उन किताबों के लिए नोट्स बनाए जिनमें लंबे पैराग्राफ थे और जिन्हें पढ़ने में अधिक समय लगता था।

अखबार पढ़ने को बनाए रोज़ाना की आदत 

सर्जना कहती हैं कि अधिकांश आईएएस उम्मीदवार नौकरी कर रहे होते हैं या हाल ही में ग्रेजुएट होते है। इसलिए उन्हें रोजाना अखबार पढ़ने की आदत नहीं होती है। उनके लिए सर्जना ने सुझाव दिया कि एक ऑनलाइन वेबसाइट है जिसने उन्हें MCQ पढ़ने में मदद की जो डेली न्यूज पर आधारित थे। उन MCQs को पढ़ने से उन्हें करंट अफेयर्स पढ़ने में बहुत मदद मिली। इसलिए यदि आपको अखबार पढ़ने की आदत नहीं है, तो आप एक ऑनलाइन ई-समाचार पत्र का विकल्प चुन सकते हैं जिसे आपके फोन पर सिर्फ एक क्लिक से डाउनलोड किया जा सकता है। आप पत्रिकाएं भी पढ़ सकते हैं लेकिन देर-सबेर आपको रोजाना अखबार पढ़ने की आदत डालनी होगी। इसलिए आप जितनी जल्दी शुरुआत करें उतना ही अच्छा है।

UPSC परीक्षा उन कठिन परीक्षाओं में से एक है जिसे लाखों उम्मीदवार लेते हैं। बहुत सारे उम्मीदवार हैं जो एक आईएएस अधिकारी बनने का सपना देखते हैं और वे पूरे समर्पण के साथ काम करते हैं। ऐसी ही एक आईएएस अधिकारी हैं आईएएस सर्जना यादव जिन्होंने अपने सपने को साकार किया। अच्छी तैयारी के साथ उन्होंने UPSC  परीक्षा में उन्होंने 126वां स्थान हासिल किया था। 

LBSNAA - जहां पहुंचने का ख्वाब हर UPSC Aspirant देखता है: जानें इस अकेडमी से जुड़े 7 रोमांचक तथ्य

Comment ()

Related Categories

Post Comment

9 + 0 =
Post

Comments