राष्ट्रीय स्वास्थ्य नीति, 2017: प्रमुख लक्ष्य एक नज़र में

राष्ट्रीय स्वास्थ्य नीति, 2017 को 15 मार्च, 2017 को “स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय” द्वारा शुरू किया गया था. इस नीति में सरकार का ध्यान “बीमार की देखभाल” से शिफ्ट होकर “बीमार के कल्याण” पर होगा. यह भारत सरकार की तीसरी राष्ट्रीय स्वास्थ्य नीति है. भारत की पहली स्वास्थ्य नीति 1983 में बनी थी जबकि दूसरी स्वास्थ्य नीति 2002 में बनी थी. तीसरी नीति में सरकार स्वास्थ्य क्षेत्र पर खर्च बढ़ाकर, सकल घरेलू उत्पाद का 2.5% करना चाहती है.
May 29, 2018 12:51 IST
    National Health Policy-2017

    भारत की पहली राष्ट्रीय स्वास्थ्य नीति (NHP) को 1983 में बनाया गया था जिसका मुख्य लक्ष्य 2000 तक सभी को प्राथमिक स्वास्थ्य सुविधाएँ उपलब्ध कराना था. भारत की दूसरी राष्ट्रीय स्वास्थ्य नीति, 2002 में लॉन्च की गई थी.
    स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय ने 15 मार्च, 2017 को भारत की तीसरी राष्ट्रीय स्वास्थ्य नीति की घोषणा की थी.

    ज्ञातव्य है कि पिछली स्वास्थ्य नीति को बने 15 वर्ष बीत गए हैं, और देश में बहुत सी चीजें (जैसे जनसँख्या, लोगों की प्रति व्यक्ति आय, बीमारियों की सघनता, स्वास्थ्य सेवाओं की उपलब्धता, तकनीकी इत्यादि) बदल गयी हैं, इसलिए नई राष्ट्रीय स्वास्थ्य नीति को भी बदलते समय की जरुरत के हिसाब से बदलना होगा और इसी के अनुसार लक्ष्य निर्धारित करने होंगे.

    नयी नीति का लक्ष्य: नयी राष्ट्रीय स्वास्थ्य नीति का लक्ष्य सभी उम्र के लोगों को निवारक और प्रोत्‍साहक स्‍वास्‍थ्‍य देखभाल दिशानिर्देश के माध्येम से स्वास्थ्य और कल्याण के उच्चतम संभव स्तर को प्रदान करना और इसमें किसी भी प्रकार की वित्तीय कठिनाई को दूर करना है.

    भारत की राष्ट्रीय विनिर्माण नीति क्या है?
    नीति के मुख्य उद्देश्य:
    राष्ट्रीय स्वास्थ्य नीति, 2017 का प्राथमिक उद्देश्य सार्वजनिक स्वास्थ्य देखभाल प्रणाली में आम आदमी के विश्वास को मजबूत करना है. इसमें एक ऐसी प्रणाली विकसित करने पर जोर दिया जायेगा जो कि  रोगी केंद्रित, कुशल, प्रभावी और किफायती हो, जिसमें सेवाओं और उत्पादों की इतनी व्यापकता हो कि लोगों की सभी त्वरित जरूरतों को पूरा किया जा सके और इन्हें इधर-उधर अस्पतालों के चक्कर ना काटने पड़ें.

    new health policy india
    राष्ट्रीय स्वास्थ्य नीति, 2017 के मुख्य लक्ष्य निम्नानुसार हैं;
    1. स्वास्थ्य व्यय को वर्तमान सकल घरेलू उत्पाद के 1.15% से बढाकर 2025 तक 2.5% करने के लक्ष्य.

    2. जन्म के समय जीवन प्रत्याशा को 67.5 वर्ष से बढ़ाकर वर्ष 2025 तक 70 वर्ष करने का लक्ष्य.

    3. कुल प्रजनन दर (TFR) को 2025 तक राष्ट्रीय और उप-राष्ट्रीय स्तर पर 2.1 के स्तर पर लाने का लक्ष्य है. वित्त वर्ष 2016 में, भारत में प्रति महिला TFR 2.3 थी.

    4. वर्ष 2025 तक पांच वर्ष से कम की उम्र के बच्चों की मृत्यु दर को 23 प्रति हजार जीवित जन्म पर लाना जबकि मातृ मृत्यु दर को वर्तमान के 167 से घटाकर 100 पर लाना. ज्ञातव्य है कि भारत में पांच वर्ष से कम उम्र के बच्चों की मृत्यु दर (Under Five Mortality Rate) 2015 में 29 प्रति हजार थी.

    5. वर्ष 2025 तक पांच वर्ष से कम उम्र के बच्चों में बौनेपन या बृद्धि रोक (stunting) की समस्या को 40% तक कम करना है.

    6. शिशु मृत्यु दर (IMR) को 2019 तक 28 तक घटाना. भारत में वर्ष 2016 में IMR 34 प्रति 1000 जीवित जन्म थी.

    7. 2025 तक नवजात मृत्यु दर को 16 और जन्म दर को "एकल अंक" में लाने का लक्ष्य है. वर्ष 2013 में भारत में नवजात मृत्यु दर (NMR) 28 प्रति 1000 जीवित जन्म थी.

    9. वर्ष 2025 तक दृष्टिहीनता के प्रसार को घटाकर 0.25/1000 करना तथा रोगियों की संख्या को वर्तमान स्तर से घटाकर 1/3 करना.

    10. वर्ष 2018 तक कुष्ठ रोग, वर्ष 2017 तक कालाजार तथा वर्ष 2017 तक लिम्फेटिक फाइलेरियासिस का उन्मूलन करना तथा इस स्थिति को बनाए रखना.

    11. वर्ष 2025 तक हृदय रोगों, मधुमेह या पुराने श्वसन रोगों और कैंसर जैसी बीमारियों से होने वाली समयपूर्व मृत्यु दर को 25% तक कम करने का लक्ष्य.

    12. क्षयरोग (टीबी) के नए मामलों में 85% तक कमी लाना और इस कमी दर को बनाये रखकर 2025 तक क्षयरोग का उन्मूलन करना.

    13. 2025 तक मौजूदा स्तर से सार्वजनिक स्वास्थ्य सुविधाओं का उपयोग 50% बढ़ाने का लक्ष्य निर्धारित.

    14. वर्ष 2025 तक एक वर्ष की उम्र के 90% बच्चों का पूरी तरह से टीकाकरण करना.

    15. वर्ष 2025 तक 90% बच्चों का जन्म प्रशिक्षित दाइयों/नर्सों के द्वारा या उनकी निगरानी में  कराये जाने का लक्ष्य.

    16. तम्बाकू के इस्तेमाल के वर्तमान प्रसार को 2020 तक 15% और 2025 तक 30% तक कम करना.

    18. वर्ष 2020 तक व्यावसायिक चोट की घटनाओं में 50% कमी लाना.वर्तमान में यह दर कृषि क्षेत्र में 334/लाख श्रमिक है.

    19. वर्ष 2020 तक राज्यों को अपने बजट का 8% स्वास्थ्य सेवाओं पर खर्च करना होगा.

    20. वर्ष 2025 तक परिवारों के स्वास्थ्य व्यय में वर्तमान स्तर से 25% की कमी लाना.

    उपरोक्त बिंदुओं को पढ़ने के बाद यह निष्कर्ष निकाला जा सकता है कि राष्ट्रीय स्वास्थ्य नीति, 2017 का मुख्य ध्यान देश में स्वास्थ्य सेवा प्रणाली के समग्र विकास को बढ़ावा देना है. सरकार देश के स्वास्थ्य संस्थानों में कुशल डॉक्टरों, पर्याप्त दवाओं और आम लोगों के विकास को बढ़ाना चाहती है. मुझे आशा है कि नई राष्ट्रीय स्वास्थ्य नीति, 2017; देश की स्वास्थ्य प्रणाली की उन्नति में एक मील का पत्थर साबित होगी.

    निपाह वायरस क्या है और कैसे फैलता है?

    Loading...

    Register to get FREE updates

      All Fields Mandatory
    • (Ex:9123456789)
    • Please Select Your Interest
    • Please specify

    • ajax-loader
    • A verifcation code has been sent to
      your mobile number

      Please enter the verification code below

    Loading...
    Loading...