Search

भारत के पूर्वी तट पर स्थित प्रमुख बंदरगाहों की सूची

भारत का मुख्या भूमि के साथ ही द्वीपों के साथ पश्चिम और पूर्वी क्ष्तेरो में फैला लगभग 7517 कि.मी. का लंबा तट है तथा यह देश के व्यापार का महत्वपूर्ण प्राकृतिक संसाधन हैl समुद्री परिवहन के माध्यम से मात्र के अनुसार देश का लगभग 95 प्रतिशत  तथा मूल्यों के अनुसार 68 प्रतिशत व्यापार किया जाता हैl प्रमुख बंदरगाहों को मुख्य बंदरगाह ट्रस्ट अधिनियम, 1963 के तहत केंद्र सरकार द्वारा नियंत्रित किया जाता है, जबकि मध्यम और छोटे बंदरगाह (समवर्ती सूची का हिस्सा) संबंधित राज्यों द्वारा प्रबंधित और प्रशासित किया जाता है।
Aug 17, 2017 01:00 IST
facebook Iconfacebook Iconfacebook Icon

भारत का मुख्या भूमि के साथ ही द्वीपों के साथ पश्चिम और पूर्वी क्ष्तेरो में फैला लगभग 7517 कि.मी. का लंबा तट है तथा यह देश के व्यापार का महत्वपूर्ण प्राकृतिक संसाधन हैl समुद्री परिवहन के माध्यम से मात्र के अनुसार देश का लगभग 95 प्रतिशत  तथा मूल्यों के अनुसार 68 प्रतिशत व्यापार किया जाता हैl प्रमुख बंदरगाहों को मुख्य बंदरगाह ट्रस्ट अधिनियम, 1963 के तहत केंद्र सरकार द्वारा नियंत्रित किया जाता है, जबकि मध्यम और छोटे बंदरगाह (समवर्ती सूची का हिस्सा) संबंधित राज्यों द्वारा प्रबंधित और प्रशासित किया जाता है। भारत के पूर्वी तट पर स्थित सात प्रमुख बंदरगाह हैं- तूतीकोरिन (तमिलनाडु), चेन्नई (तमिलनाडु), एनर्न (तमिलनाडु), विशाखापत्तनम (आंध्र प्रदेश), पारादीप (ओडिशा), हल्दिया और कोलकाता (पश्चिम बंगाल) और पोर्ट ब्लेयर (अंडमान एवं निकोबार द्वीप)

Port at east coast

हम यहाँ भारत के पूर्वी तट पर स्थित प्रमुख बंदरगाहों की सूची दे रहे हैं, जिसका प्रयोग विभिन्न प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी में अध्ययन सामग्री के रूप में किया जा सकता है।

भारत के पूर्वी तट पर स्थित प्रमुख बंदरगाहों की सूची

पूर्वी तट के प्रमुख बंदरगाह

विशेषताएँ

तूतीकोरिन (तमिलनाडु)

1. यह बंदरगाह तमिलनाडु राज्य के दक्षिणी छोर पर स्थित है।

2. यहां से नमक,मछली, सीमेंट,लिग्नाइट, तम्बाकू, चावल आदि निर्यात किया जाता है एवं मशीनें,उर्वरक,सूती वस्त्र इत्यादि वस्तुओं का आयात होता है।

चेन्नई (तमिलनाडु)

1. यह एक कृत्रिम बंदरगाह है और मुंबई के बाद भारत का दूसरा सबसे व्यस्त बंदरगाह है ।

एन्नोर (तमिलनाडु)

1. यह चेन्नई के निकट है जिसकी स्थापना चेन्नई बंदरगाह के जल परिवहन के भार को कम करने के लिए गया थाl   

2. यह भारत का पहला निगम आधारित बंदरगाह है।

विशाखापत्तनम (आंध्र प्रदेश)

1. यह भारत का सबसे गहरा बंदरगाह है।

2. यह जापान से लौह अयस्क का निर्यात संभालता है।

3. यह प्राकृतिक बंदरगाह है और 'डॉल्फिन नाक' नाम की पहाड़ी से मानसून के मंत्र को संरक्षित किया गया है।

4. यह जहाजों के निर्माण और मरम्मत के लिए प्रसिद्ध है।

पारादीप (ओडिशा)

1. यह भारत के पूर्वी तट के किनारे उड़ीसा राज्य में स्थित है।

2. यह कोलकाता तथा विशाखापत्तनम बंदरगाह के लगभग बीच में स्थित प्राकृतिक संरचना का बंदरगाह है।

3. इस बंदरगाह से उड़ीसा एवं बिहार के खनिजों का निर्यात किया जाता है तथा मशीनें,उर्वरक,गंधक, इंजीनियरिंग सामान आयत किए जाते हैं।

हल्दिया और कोलकाता (पश्चिम बंगाल)

1. कोलकाता बंदरगाह के दक्षिण में हुगली नदी पर कलकत्ता के भार को कम करने हेतु बनाया गया था।

2. ये दक्षिण-पूर्व एशियाई देशों के साथ व्यापार को नियंत्रित करता है।

3. यह कोलकाता के जहाज़ बनाने का स्थान अर्थात डायमंड हार्बर जुड़ा हैंl

4. यहां तेलशोधन कारखाना भी हैं।

 

पोर्ट ब्लेयर (अंडमान एवं निकोबार द्वीप)

1. यह भारत की 13 वीं प्रमुख बंदरगाह है।

2. इसके अधिकार क्षेत्र में 23 बंदरगाह हैं- पूर्वी बंदरगाह, डिगलीपुर बंदरगाह (कॉर्नवॉलिस), मयबंदर बंदरगाह, एल्फिन्स्टन हार्बर, रंगेट पोर्ट, हेवलॉक पोर्ट और नील द्वीप बंदरगाहl

उपरोक्त सूची पाठकों के सामान्य ज्ञान की बढ़ोतरी में सहायक होगा क्योंकि इसमें हमने भारत के पूर्वी तट पर स्थित प्रमुख बंदरगाहों के नाम तथा उनके बारे में विवरण को शामिल किया हैl

भारत के पश्चिमी तट पर स्थित प्रमुख बंदरगाहों की सूची