Search

ई-सिगरेट क्या है और भारत में इसे क्यों प्रतिबंधित किया गया है?

ई-सिगरेट (इलेक्ट्रॉनिक सिगरेट) एक डिवाइस है जो साधारण सिगरेट की तरह दिखता है. ई-सिगरेट का बाहरी भाग सिगरेट और सिगार के समान बनाया गया है. इलेक्ट्रॉनिक सिगरेट एक बैटरी से चलने वाला डिवाइस है जो निकोटीन के घोल को धुएं में परिवर्तित कर देता है.  इस धुएं को परम्परागत सिगरेट की तरह फेफड़ों तक लाया जा सकता है. ध्यान रहे कि ई-सिगरेट में तंबाकू नहीं होती है लेकिन इसके पीने वालों को यह एहसास होता है कि वे असली सिगरेट पी रहे हैं.
Oct 14, 2019 17:44 IST
facebook Iconfacebook Iconfacebook Icon
E-Cigarette
E-Cigarette

केंद्रीय मंत्रिमंडल ने 18 सितंबर 2019 से देश में ई-सिगरेट के उत्पादन, बिक्री, निर्यात, आयात, विज्ञापन, भंडारण पर प्रतिबंध लगाने का निर्णय लिया है. लेकिन क्या आप जानते हैं कि ई-सिगरेट क्या होती है और इस पर केंद्र सरकार ने प्रतिबंध क्यों लगाया है.

ई-सिगरेट का मतलब (Meaning of e-Cigarettes)

ई-सिगरेट (इलेक्ट्रॉनिक सिगरेट) एक ऐसा डिवाइस है जो एक साधारण सिगरेट की तरह दिखता है. ई-सिगरेट का बाहरी भाग सिगरेट और सिगार के समान बनाया जाता है. इलेक्ट्रॉनिक सिगरेट एक बैटरी से चलने वाला उपकरण है जो निकोटीन के घोल को धुएं में परिवर्तित कर देता है जिसे फेफड़ों में प्रवेश कराया जा सकता है. ई-सिगरेट में तंबाकू नहीं होता है.

क्या ई-सिगरेट हानिकारक होती है? (Is e-Cigarette harmful?)

किंग्स कॉलेज लंदन में तंबाकू एडिक्शन का अध्ययन करने वाले प्रोफेसर एन. मैकनील का कहना है कि "जब लोग तम्बाकू सिगरेट पीते हैं, तो वे अपने अंदर धुएं के 7,000 घटक अपने अन्दर ले जाते हैं, जिनमें से 70 को कैंसर पैदा करने वाला माना जाता है. ये तत्व ई-सिगरेट में कम मात्रा में होते हैं. इसलिए हम कह सकते हैं कि ई-सिगरेट तंबाकू सिगरेट की तुलना में कम हानिकारक है. लेकिन यह सच है कि ई-सिगरेट भी हानिकारक है

इस सिक्के का एक दूसरा पहलू यह है कि ई-सिगरेट; इनहेलर्स को असली सिगरेट की फीलिंग देता है लेकिन कुछ ब्रांड ई-सिगरेट में फॉर्मलाडेहाइड का इस्तेमाल करते हैं, जो बेहद खतरनाक और कैंसरकारी है.

ई-सिगरेट धूम्रपान; फेफड़ों की कोशिकाओं को नुकसान पहुंचा सकता है. ई-सिगरेट तम्बाकू सिगरेट के रूप में मसूड़ों और दांतों के लिए भी हानिकारक हैं.
कुछ अन्य शोधों के अनुसार, जो लोग ई-सिगरेट का उपयोग करते हैं, उनमें दिल का दौरा पड़ने का खतरा अधिक होता है और अवसाद की संभावना दोगुनी हो जाती है. यहां तक कि लंबे समय तक ई-सिगरेट के इस्तेमाल से भी रक्त के थक्के जमने की समस्या और कैंसर भी हो सकता है.

ई-सिगरेट नियम उल्लंघनकर्ताओं के लिए सजा (Punishment for e-Cigarette’s rule violators)

पहली बार ई-सिगरेट के लिए बनाये प्रतिबंधों का उल्लंघन करने वालों पर एक लाख रुपये का जुर्माना और एक साल की सजा हो सकती है. बार-बार अपराध करने वालों के लिए 3 साल की जेल और 5 लाख रुपये का जुर्माना होगा.
इसलिए उपरोक्त विवरण से यह स्पष्ट है कि ई-सिगरेट स्वास्थ्य के लिए भी हानिकारक है. शायद यही कारण है कि केंद्र सरकार ने देश में पूरी तरह से प्रतिबंध लगा दिया है.

जानिये कैसे स्मार्टफोन की लाइट आपके स्वास्थ्य के लिए हानिकारक है