1. Home
  2. Hindi
  3. Difference: जानें Brain और Mind में क्या होता है अंतर

Difference: जानें Brain और Mind में क्या होता है अंतर

Difference: हम कभी न कभी किसी से बात करते हुए Mind और Brain का जिक्र करते हैं। बातचीत के दौरान हम दोनों चीजों को एक ही मान लेते हैं, लेकिन क्या आपको पता है दोनों ही अलग-अलग चीजें हैं। इस लेख के माध्यम से हम इन दोनों के बीच के अंतर को समझेंगे।

Difference: जानें  Brain और Mind में क्या होता है अंतर
Difference: जानें Brain और Mind में क्या होता है अंतर

Difference: कई बार बातचीत के दौरान हम माइंड व ब्रेन को एक ही मान कर अपना तर्क रखने लगते हैं, लेकिन वास्तव में इन दोनों में अंतर होता है। यदि आपको भी इन दोनों के बीच का अंतर नहीं मालूम है, तो यह लेख आपके लिए उपयोगी साबित हो सकता है। इस लेख में हम जानेंगे कि आखिर माइंड व ब्रेन के बीच क्या अंतर होता है और यह दोनों शब्द एक दूसरे से क्यों अलग है। तो आइये जानते हैं, माइंड व ब्रेन के बीच का अंतर। 




क्या होता है Brain ?

 

मस्तिष्क हमारी खोपड़ी के अंदर स्थित अंग है, जिसका काम मानव शरीर के सभी शारीरिक कार्यों को नियंत्रित करना है। यह हमारे केंद्रीय तंत्रिका तंत्र का एक महत्वपूर्ण हिस्सा है, जो पूरे शरीर में सूचनाओं को इकट्ठा करने, व्यवस्थित करने और प्रसारित करने के केंद्र के रूप में कार्य करता है। मानव शरीर के अधिकतर अंग इसके नियंत्रण में रहते हैं।

 

आपको यह भी बता दें कि मस्तिष्क शरीर का सबसे जटिल अंग भी है। इसमें लगभग 86 अरब सक्रिय न्यूरॉन हैं, जो सर्किट बनाने और सूचना का आदान-प्रदान करने के लिए एक दूसरे के संपर्क में रहते हैं। मस्तिष्क के तीन प्रमुख भाग होते हैं, जो कि सेरिबैलम, सेरेब्रम और ब्रेन स्टेम है।



क्या होता है Mind ?

 

मन एक अवधारणा है, जिस पर सदियों से बहस और खोजबीन होती रही है। इसे मस्तिष्क की न्यूरोलॉजिकल गतिविधि से उत्पन्न होने वाली विचार प्रक्रियाओं और चेतना के जटिल नेटवर्क के रूप में परिभाषित किया जा सकता है। हम अपने मन को तीन परतों में विभाजित कर सकते हैं, जो कि चेतन, अचेतन और अवचेतन है।

 

चेतन परत में हमारे तात्कालिक विचार, भावनाएं और स्मृतियां होती हैं, जबकि अचेतन परत बुनियादी और प्रारंभिक उत्तेजना से बनी होती है और अवचेतन परत में वे यादें और व्यवहार होते हैं, जो हमें समय के साथ मिलते हैं।




 मस्तिष्क और मन के बीच मौजूद अंतर

-मन हमारे सोचने, महसूस करने और शारीरिक गतिविधियों में संलग्न होने की क्षमता रखता है, जबकि मस्तिष्क हमारे सिर में भौतिक अंग को बताता है, जो इन कार्यों का समर्थन करता है।

 

-मस्तिष्क न्यूरॉन्स और रक्त वाहिकाओं से बना है, जबकि मन अमूर्त है और किसी न्यूरॉन या रक्त वाहिकाओं से नहीं बना होता।

 

-मस्तिष्क किसी व्यक्ति की गतिविधियों, भावनाओं और विभिन्न शारीरिक कार्यों को नियंत्रित करता है, जबकि मन एक व्यक्ति की नैतिकता, तर्क और समझ को दर्शाता है।

 

-मस्तिष्क एक भौतिक अंग है, जिसे छुआ या देखा जा सकता है, जबकि मन अमूर्त है, इसे न तो छुआ जा सकता है और न ही देखा जा सकता है।



यहां यह भी समझना जरूरी है कि मन के कौशल को प्रशिक्षित किया जा सकता है, जबकि मस्तिष्क के कार्य को बदला नहीं जा सकता। किसी व्यक्ति की मानसिक प्रक्रियाओं की प्रभावशीलता को बढ़ाने के लिए निर्णय लेने, समस्या को सुलझाने, रचनात्मकता और संचार जैसे कौशल को समय के साथ प्रशिक्षित किया जा सकता है।

 

यानि मस्तिष्क एक भौतिक अंग है, जो हमारे शरीर में मौजूद है, जबकि मन भौतिक अंग नहीं है। हालांकि, दोनों ही व्यक्ति द्वारा कार्य करने के लिए बहुत जरूरी हैं।

 

Read: अच्छे दिमाग का संबंध दिल से