Jagran Josh Logo
  1. Home
  2. |  
  3. Board Exams|  

UP Board Class 11th Biology Syllabus 2018–2019

Jul 6, 2018 11:45 IST
    Class 11th Biology Syllabus
    Class 11th Biology Syllabus

    Get the Syllabus of UP Board Class 11th Biology subject for the academic session 2018‒2019. Through this article you will get a complete idea about this subject like name of the unit and their weightage in exam, description of the course and each and every topic and sub topic name. UP Board class 11th Biology syllabus will help you understand the course objectives and aid in effective learning. So start preparing your study plan with the help of this syllabus for your new session.

    The key contents of the syllabus issued by UP Board for Class 11th Biology are:

    Name of the Units and their Weightage in Board Exam

    Details of topics and sub-topics to be covered in each unit

    Question Paper Design for UP Board Class 11th Biology Board Exam (2018-19)

    The new revised syllabus for UP Board Syllabus Class 11th Biology is published by upmsp.edu.in Central Secondary Education. Earlier there were 2 papers for Biology that is botany and zoology and to cover whole syllabus students need to prepare both class 11 and class 12 syllabus. But now there will be only one paper which will be based on the class 11 syllabus only.

      आखिर क्यों है NCERT Book को पढ़ना बेहद ज़रूरी

    The complete revised syllabus is as follows:

    UP Board class 11th syllabus

    UP Board class 11th biology syllabus

    class 11th biology syllabus

    Biology syllabus for class 11th

    UP Board class 11th revised syllabus

    UP Board class 11th biology syllabus

    UP Board class 11th ncert syllabus

    UP Board Class 11th Mathematics Syllabus 2018–2019

    UP Board class 11th biology updated syllabus

    Previous year Biology syllabus we are providing over here, students can have a look if they want to co-relate both of them.

    उत्तर प्रदेश माध्यमिक शिक्षा परिषद्, इलाहाबाद
    कक्षा-11 जीव विज्ञान
    पाठ्यक्रम तथा पाठ्य–पुस्तकें

    इसमें 35-35 अंक के दो प्रश्न-पत्र एवं 30 अंक का प्रयोगात्मक होगा।

    प्रथम प्रश्न–पत्र
    (जन्तु विज्ञान)

    एकक संख्या

    शीर्षक

    निर्धारित अंक

    इकाई 1.

    सजीव जगत की विविधता

    08

    इकाई 2.

    जंतुओं की संरचनात्मक संघटना

    07

    इकाई 3.

    मानव कार्यिकी

    15

    इकाई 4.

    जनन एवं जनन स्वास्थ्य

    05



    कुल योग- 35

    इकाई-1. सजीव जगत की विविधता (08 अंक)

    • सजीव जगत की विविधता
      • सजीव क्या है?
      • जीवों में विविधता की संकल्पना
    • जीवधारियों का वर्गीकरण
      • वर्गीकरण की आवश्यकता
      • जीवन के तीन डोमेन
      • जीवन के पांच जगत एवं पांच जगत वर्गीकरण का आधार
      • वाइरस एवं वाइराइड्स
    • वर्गीकरण विज्ञान एवं द्विनाम पद्धति
      • वर्गिकी एवं वर्गीकरण विज्ञान
      • जातियों की संकल्पना एवं वर्गिकीय क्रमबद्धता
      • द्विनाम नामकरण पद्धति
      • मोनेरा का वर्गीकरण एवं प्रमुख लक्षण
      • जगत प्रोटिस्टा
      • जन्तुओं के प्रमुख लक्षण एवं वर्गीकरण-प्रमुख अकशेरूकी संघ एवं कशेरूकी वर्ग, तीन से पांच लक्षण एवं कम से कम दो उदाहरण।
      • जीवों में विविधता के अध्ययन हेतु साधन म्यूजियम, प्राणिपार्क।

    इकाई-2. जन्तुओं की संरचनात्मक संघटना (07 अंक)

    • जन्तु ऊतक
      • एक कीट (तिलचट्टा) की आकारिकी, शरीर रचना विभिन्न तंत्र (पाचन, परिसंचरण, श्वसन, तंत्रिका एवं जनन) का संक्षिप्त वर्णन एवं कार्य ।

    इकाई-3. मानव कार्यिकी (15 अंक)

    • पाचन एवं अवशोषण
      • मानव आहारनाल एवं पाचक ग्रंथियाँ
      • पाचक एन्जाइम्स एवं आहारनाल की श्लेष्मिका द्वारा स्त्रावित हारमोन्स
      • क्रमाकुंचन
      • प्रोटीन, कार्बोहाइड्रेट, वसा का पाचन, अवशोषण एवं स्वांगीकरण
      • प्रोटीन, काबोहाइड्रेट, वसा का कैलोरिक महत्व
      • बहिःक्षेपण
      • पोषण एवं पाचन तंत्र की विकृतियां – PE M, अपच, कब्ज, उल्टी, पीलिया
    • साँस लेना एवं श्वसन
      • जन्तुओं में श्वसनाग (Recall only)
      • मानव का श्वसन तन्त्र
      • मानव में सॉस लेने की प्रक्रिया एवं इसका नियंत्रण
      • मानव में गैसों का आदान प्रदान, गैसों का परिवहन एवं श्वसन का नियंत्रण
      • श्वसनीय आयतन (Respiratory Volumes)
      • श्वसन से सम्बन्धित विकृतियाँ – अस्थमा, Emphysema, Occupational Respiratory Disorders.
    • परिसंचरण एवं देह तरल
      • रूधिर की संरचना, रूधिर वर्ग, रूधिर का जमना
      • लसिका की संरचना एवं कार्य
      • मनुष्य के हृदय की संरचना एवं रूधिर वाहिकाएं
      • Cardiac Cycle, Cardiac output, ECG
      • दोहरा परिसंचरण
      • हृदय की गतिविधियों पर नियंत्रण
      • परिसंचरण तंत्र की विकृतियाँ-उच्चरक्तचाप, Coronary artery disease, Angina pectoris, heart failure.
    • उत्सर्जी उत्पाद एवं निष्कासन
      • उत्सर्जन की विधियां – एमीनोटेलिज्म, यूरिओटेलिज्म यूरिकोटेलिज्म ।
      • मानव उत्सर्जी तंत्र की संरचना और कार्य।
      • मूत्र निर्माण, परासरण नियंत्रण
      • उत्सर्जन में अन्य अंगों का महत्व
      • विकृतियाँ Uraemia, Renal failure, Renal calculi, Nephritis,
      • डाइलिसिस एवं कृत्रिम वृक्क
    • प्रचलन एवं गति
      • गति के प्रकार – पक्ष्माभि (Ciliary) कशाभि (flagellar) पेशीय (muscular)
      • कंकाल पेशियां – संकुचनशील प्रोटीन एवं पेशी संकुचन
      • कंकाल तंत्र एवं इसके कार्य
      • संधियां
      • पेशी एवं कंकाल तंत्र की विकृतियाँ
      • Myasthenia gravis. Tetany, Muscular Dystrophy, Arthritis, Osteoporosis, Gout.
    • तंत्रिकीय नियंत्रण एवं समन्वयन
      • न्यूरान एवं तंत्रिकाएँ
      • मानव का तंत्रिका तंत्र
      • केन्द्रीय तंत्रिका तंत्र, परिधीय तंत्रिका तंत्र, विसरल तंत्रिका तंत्र
      • प्रतिवर्ती क्रिया
      • संवेदी अंग
      • संवेदी अनुभव
      • आँख एवं कान की प्रारम्भिक संरचना एवं अन्य संवेदी अंगों का सामान्य ज्ञान।
    • रासायनिक समन्वयन एवं नियंत्रण
      • अन्तःस्त्रावी ग्रंथियां  एवं हारमोन्स
      • मानव अन्तःस्त्रावी तंत्र
      • हाइपोथैलेमस, पीयूष, पीनियल, थायराइड, पैराथायराइड, एड्रीनल, अग्नाशय, जनद
      • हारमोन्स की क्रियाविधि
      • दूतवाहक एवं नियंत्रक के रूप में हारमोन्स का कार्य
      • अल्प एवं अतिक्रियाशीलता एवं सम्बन्धित सामान्य रोग जैसे- बौनापन, एक्रोमिगेली, क्रिटिनिज्म, ग्वॉइटर, एक्सोप्थैलेमिक ग्वॉइटर, मधुमेह, एडीसन रोग।

    विशेष: मानव कार्यिकी से सम्बन्धित रोग संक्षेप में पढ़ाये जायें।

    इकाई 4. (05 अंक)

    • मानव जनन
      • नर एवं मादा जनन तंत्र
      • वृषण एवं अंडाशय की सूक्ष्मदर्शीय शरीर रचना
      • युग्मकजनन- शुक्राणुजन एवं अंडजनन
      • मासिक चक्र
      • निषेचन, अंतर्रोपण, भ्रूणीय परिवर्धन (ब्लास्टोसाइट निर्माण तक)
      • सगर्भता एवं प्लेसेंटा निर्माण (सामान्य परिचय)
      • प्रसव एवं दुग्ध स्त्रवण (सामान्य परिचय)
    • जनन स्वास्थ्य
      • जनन स्वास्थ्य की आवश्यकता एवं यौन संचरित रोगों की रोकथाम,
      • परिवार नियोजन – आवश्यकता एवं विधियां
      • गर्भ निरोध एवं चिकित्सीय सगर्भता समापन (MTP)
      • Aminocentesis
      • बंध्यता एवं सहायक जनन प्राद्यौगिकियां – IVF, ZIFT, GIFT (का सामान्य ज्ञान)

    द्वितीय प्रश्नपत्र
    (वनस्पति विज्ञान)

    UP Board Syllabus for Class 11 Jeev vigyaan (Biology)

    एकक संख्या

    शीर्षक

    निर्धारित अंक

    इकाई 1.

    कोशिका: संरचना और कार्य

    12

    इकाई 2.

    वनस्पतियों में विविधता

    10

    इकाई 3.

    पौधों की संचरनात्मक संघटना

    13



    कुल योग-35

    इकाई-1. कोशिकासंरचना और कार्य  (12 अंक)

    कोशिका और इसके तीन प्रमुख भाग- कोशिका कला, साटोप्लाज्म और केन्द्रक

    • कोशिका सिद्धान्त एवं कोशिका जीवन की आधारभूत इकाई।
    • प्रोकैरियोटिक एवं यूकैरियोटिक कोशिका की संरचना।
    • पादप एवं जन्तु कोशिका (संक्षेप में)।
    • कोशिका envelope कोशिका झिल्ली, कोशिका भित्ती।
    • कोशिका अंगक – संरचना एवं कार्य : माइटोकान्ड्रिया, गाल्जीकाय अन्तःप्रदव्यी जालिका,
    • राइबोसोम्स, लाइसोसोम्स, रिक्तिका, लवक, माइक्रोबाडीज।
    • कोशिका कंकाल – सीलिया, फ्लैजिला, तारककेन्द्र (संरचना) और कार्य।
    • केन्द्रक – केन्द्रककला, क्रोमेटिन, केन्द्रिक।
    • सजीव कोशिकाओं का रासायनिक संगठन।
    • जैविक अणु – प्रोटीन कार्बोहाइड्रेट, वसा, न्यूक्लिक अम्ल की संरचना और कार्य।
    • एन्जाइम्स – प्रकार, गुणधर्म एवं एन्जाइम्स क्रिया।
    • कोशिका विभाजन – कोशिका चक्र, सूत्री एवं अर्द्धसूत्री विभाजन में अन्तर एवं महत्व।

    इकाई-2. वनस्पतियों में विविधता  (10 अंक)

    • फंजाई प्रमुख समूह
    • पौधों के प्रमुख लक्षण एवं प्रमुख समूहों में वर्गीकरण
    • एल्गी, ब्रायोफाइट्स, टेरिडोफाइट्स
    • लाइकेन्स
    • अनावृतबीजी और आवृतबीजी – तीन से पांच प्रमुख एवं विभेदीकरण लक्षण एवं प्रत्येक के कम से कम दो उदाहरण।
    • आवृतबीजी – वर्ग तक वर्गीकरण, लक्षण एवं उदाहरण
    • विविधता के अध्ययन हेतु साधन- हरबेरियम पादप उद्यान

    इकाई-3-पौधों की सरंचनात्मक संघटना (13 अंक)

    • वनस्पति ऊतक
    • पुष्पी पादपों के विभिन्न भागों जड़, तना, पत्ती, पुष्पक्रम पुष्प, फल और बीज की आकारिकी (रुपान्तरण सहित) शरीर रचना और कार्य (प्रयोगात्मक पाठ्यक्रम के सम्बन्धित प्रयोगों के साथ कराया जाय)
    • पुष्म कुल-क्रूसीफेरी, सोलेनेसी, फेबेसी, लिलिएसी, मालवेसी का अध्ययन।

    प्रयोगात्मक परीक्षा
    प्रयोगात्मक परीक्षा का अंक विभाजन निम्नवत् होगा–

    अधिकतम अंक – 30
    न्यूनतम् उत्तीर्णांक – 10 
    समय – घंटे

    निर्धारित अंक

    1. सेक्शन काटना (01 अंक सेक्शन, 01 अंक चित्र, 01 अंक वर्णन पर)  (03 अंक)
    2. वनस्पति सज्जा (01 अंक)
    3. पुष्प कुल (02 अंक)
    4. स्पाट पहचान (03 अंक जंतु, 03 अंक वनस्पति) (06 अंक)
    5. मौखिकी (03 अंक)
    6. प्रोजेक्ट कार्य व उस पर आधारित मौखिकी (4+1 = 05 अंक)
    7. प्राणि एवं वनस्पति शरीर क्रिया विज्ञान (दो प्रयोग) (2+2 = 04 अंक)
    8. सत्रीय कार्य एवं संग्रह (4+2 = 06 अंक)

    प्रयोग सूची–

    1. द्विबीजपत्री और एक बीज पत्री जड़ और तने की अनुप्रस्थ काट तैयार करना और उनका अध्ययन करना।
    2. चार सामान्य पुष्पी पौधों (क्रूसीफेरी), सोलेनेसी, फेबेसी लिलिएसी का अध्ययन एवं वर्णन, पुष्प का विच्छेदन एवं पुष्पीय चक्रों का प्रदर्शन तथा परागकोष एवं अंडाशय के कक्षों का प्रदर्शन।
    3. आलू के कंद की काट में ल्यूकोप्लास्ट, लाल मिर्च का छिलका या टमाटर के गूदे में क्रोमोप्लास्ट, मॉस की पत्ती में क्लोरोप्लास्ट का आरोपण।
    4. समसूत्री विभाजन का अध्ययन करने के लिए प्याज के मूलाग्र की अस्थायी, स्लाइड बनाना।
    5. अंडे की सफेदी पर पेप्सिन का प्रभाव ।
    6. लार का मण्ड पर प्रभाव।
    7. ग्लूकोज, सूक्रोज, स्टार्च, वसा तथा प्रोटीन की परीक्षण द्वारा पहचान।
    8. मनुष्य के घुटने का झटका तथा ऑख की पुतली पर प्रतिवर्ती क्रिया।
    9. प्रतिरूपों का अध्ययन एवं पहचान-अमीबा, कोई स्पंज, हाइड्रा, लीवर फ्लूक, एस्केरिस, जोंक, केंचुआ, झींगा, रेशम कीट, पाइला, स्नेल, स्टारफिश, शार्क, रोहू, मेंढक, छिपकली, कबूतर, खरगोश।
    10. प्रतिरूपों का अध्ययन एवं पहचान-जीवाणु, औसिलेटोरिया, स्पाइरोगाइरा, राइजोपस, मशरूम, यीस्ट, लिवरवर्ट, मौस, फर्न, पाइन, एक-एकबीजपत्री पौधा तथा द्विबीजपत्री पौधा लाइकेन।
    11. ऊतकों तथा पादप एवं जंतु कोशिकाओं की आकृतियों में पाई जाने वाली विविधता का अस्थायी/स्थायी स्लाइडों द्वारा अध्ययन–पेलिसेड कोशिकाएँ द्वार कोशिकाएं, पेरेन्काइमा, कोलेन्काइमा, स्केलेरेन्काइमा, जाइलम, फ्लोएम, शल्कीएपीथीलियम पेशीरेशे और स्तनधारी के रूधिर की स्लाइड।
    12. स्थायी स्लाइड की सहायता से प्याज के मूलाग्र की कोशिकाओं एवं जंतु कोशिका (टिड्डे) की कोशिकाओं में सूत्री एवं अर्द्ध सूत्री विभाजन का अध्ययन।
    13. स्थायी स्लाइडों की सहायता से वृषण और अंडाशय की अनुप्रस्थ काट में युग्मक परिवर्धन की विभिन्न अवस्थाओं का अध्ययन (किसी स्तनधारी), ब्लास्टुला की अनुप्रस्थ काट का अध्ययन।
    14. किसी एक स्तनधारी के अस्थि विज्ञान का अध्ययन।
    15. जड़, तने और पत्तियों के विभिन्न रूपान्तरों का अध्ययन।
    16. माडलों की सहायता से केंचुए, तिलचट्टे और मेंढक की वाह्य आकारिकीका अध्ययन।

    टिप्पणी– प्रत्येक विद्यार्थी के पास जीव विज्ञान की एक प्रयोगात्मक नोटबुक होगी जिसमें प्रयोगात्मक कार्य का दैनिक रिकार्ड दर्ज किया जायेगा। इसके अतिरिक्त विद्यार्थियों को संग्रह एवं चार्ट तैयार करने का कार्य भी दिया जाय और प्रयोगात्मक परीक्षा के समय प्रस्तुत किया जाय। शिक्षक छात्रों की रूचि को दृष्टिगत रखते हुए पाठ्यक्रमानुसार प्रोजेक्ट कार्य का विषय निर्धारित कर सकते हैं|

    UP Board Class 11th Physics Syllabus 2018–2019

    UP Board Class 11th Chemistry Syllabus 2018–2019

    Latest Videos

    Register to get FREE updates

      All Fields Mandatory
    • (Ex:9123456789)
    • Please Select Your Interest
    • Please specify

    • By clicking on Submit button, you agree to our terms of use
      ajax-loader
    • A verifcation code has been sent to
      your mobile number

      Please enter the verification code below

    Newsletter Signup
    Follow us on
    X

    Register to view Complete PDF