भारत के हवाई अड्डों में वर्ष, 2022 से शुरू हो जायेगी फेस रिकग्निशन स्कैनिंग

भारत के हवाई यात्री भी वर्ष, 2022 से अपने बोर्डिंग पास के रूप में फेस स्कैन का उपयोग कर सकते हैं. भारत में यह सुविधा शुरू करने वाले पहले हवाई अड्डे कोलकाता, पुणे, वाराणसी और विजयवाड़ा हैं.

Indian Airports to get facial recognition from 2022
Indian Airports to get facial recognition from 2022

भारत के हवाई यात्री भी वर्ष, 2022 से अपने बोर्डिंग पास के रूप में फेस स्कैन का उपयोग कर सकते हैं. भारत में यह सुविधा शुरू करने वाले पहले हवाई अड्डे कोलकाता, पुणे, वाराणसी और विजयवाड़ा हैं.

फेस रिकग्निशन स्कैनिंग योजना के बारे में प्रमुख बातें

  • इस परियोजना को लागू करने के लिए भारतीय विमानपत्तन प्राधिकरण द्वारा NEC कारपोरेशन प्राइवेट लिमिटेड को चुना गया है.
  • इस फेस रिकग्निशन डाटा का विवरण डिजी यात्रा सेंट्रल इकोसिस्टम में संग्रहित किया जाना है.
  • इस सेवा का लाभ उठाने के लिए, यात्री को मोबाइल एप्लिकेशन के माध्यम से प्रस्थान करने वाले हवाई अड्डे के बायोमेट्रिक बोर्डिंग सिस्टम पर पीएनआर, पैक्स विवरण और चेहरे की बायोमेट्रिक्स भेजनी होगी. प्रत्येक यात्री ‘सेवा का विकल्प नहीं चुनने’ का विकल्प भी चुन सकता है.
  • नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ स्टैंडर्ड एंड टेक्नोलॉजी द्वारा डिजाइन किए गए इस सॉफ्टवेयर का उपयोग करके चेहरे की पहचान की जानी है.

डिजी यात्रा नीति का हिस्सा

इस परियोजना को भारत सरकार की डिजी यात्रा नीति के एक हिस्से के रूप में लागू किया जाना है. यह नीति नागरिक उड्डयन मंत्रालय द्वारा लागू की जा रही है. इसके तहत मंत्रालय का लक्ष्य हवाई अड्डों पर यात्रियों की बायोमेट्रिक आधारित डिजिटल प्रोसेसिंग उपलब्ध कराना है. यह यात्रियों को सुरक्षा स्कैनर के माध्यम से तेजी से चलने में मदद करता है. यह अतिरेक को दूर करता है और संसाधन उपयोग को बढ़ाता है.

ग्रामीण विकास मंत्रालय और फ्लिपकार्ट ने किये स्थानीय व्यवसायों के सशक्तिकरण के लिए समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर

मार्च, 2022 में कोलकाता, पुणे, वाराणसी और विजयदा हवाई अड्डों को मिल सकता है फेशियल रिकग्निशन बोर्डिंग सिस्टम

भारत जे चार हवाईअड्डों पर इस प्रणाली का शुभारंभ डिजी यात्रा क्रियान्वयन का पहला चरण होगा. वर्ष, 2020 में भारत की एक एयरलाइन कंपनी ‘एयर एशिया इंडिया’ ने अपने यात्रियों के लिए चेहरे की पहचान प्रक्रिया (फेस रिकग्निशन प्रोसेस) शुरू की थी जो उन्हें एयरलाइन या हवाई अड्डे के कर्मचारियों के संपर्क में आए बिना चेक-इन करने की अनुमति देगी. यह एक बायोमेट्रिक प्रणाली है जो यात्रियों को बोर्डिंग औपचारिकताओं के साथ आगे बढ़ने के लिए अपने चेहरे को स्कैन करने की अनुमति देती है. जुलाई, 2019 में विस्तारा के लिए भी यही तकनीक शुरू की गई थी.

फेस रिकग्निशन प्रक्रिया के काम करने का तरीका

इस तक पहुंचने के लिए यात्रियों को सबसे पहले डिजी यात्रा पर अपना पंजीकरण कराना होगा. एक बार पंजीकरण हो जाने के बाद, यात्रियों को अपने बोर्डिंग पास को स्कैन करना होगा और चेहरे के बायोमेट्रिक्स से मिलान करना होगा. सुरक्षा अधिकारी आपकी साख की जांच करेंगे और; आगे यह सुनिश्चित करेंगे कि केवल वे ही यात्री, जिन्हें सिस्टम द्वारा मंजूरी दी गई है, उड़ान में सवार हों. इस साफ्टवेयर के माध्यम से यात्रियों को प्रत्येक टचपॉइंट पर, केवल एक बार गेट पर पंजीकरण करने के बाद, सत्यापित किया जाएगा.

NHAI ने लगाए 2.23 करोड़ पौधे, ताकि हो सके पारिस्थितिक नुकसान की भरपाई

Take Weekly Tests on app for exam prep and compete with others. Download Current Affairs and GK app

एग्जाम की तैयारी के लिए ऐप पर वीकली टेस्ट लें और दूसरों के साथ प्रतिस्पर्धा करें। डाउनलोड करें करेंट अफेयर्स ऐप

AndroidIOS
Read the latest Current Affairs updates and download the Monthly Current Affairs PDF for UPSC, SSC, Banking and all Govt & State level Competitive exams here.
Jagran Play
खेलें हर किस्म के रोमांच से भरपूर गेम्स सिर्फ़ जागरण प्ले पर
Jagran PlayJagran PlayJagran PlayJagran Play