Search

बोधगया में महाबोधि मंदिर परिसर (एक विश्व विरासत स्थल): एक नज़र तथ्यों पर

महाबोधि मंदिर परिसर भगवान बुद्ध के जीवन से संबंधित चार पवित्र स्थानों में से एक है और विशेष रूप से इसे आत्मज्ञान की प्राप्ति के लिए जाना जाता है। पहले मंदिर का निर्माण स्रमाट अशोक ने तीसरी शताब्दी ई.पू किया था और वर्तमान मंदिरों को 5वीं या 6ठीं  शताब्दी ईसा पूर्व के दौरान निर्मित किया गया था। यह वह स्थान है जिसके बारे में कहा जाता है कि भगवान बुद्ध ने यहां ज्ञान प्राप्त किया था।
Aug 23, 2016 10:41 IST
facebook Iconfacebook Iconfacebook Icon

महाबोधि मंदिर परिसर भगवान बुद्ध के जीवन से संबंधित चार पवित्र स्थानों में से एक है और विशेष रूप से इसे आत्मज्ञान की प्राप्ति के लिए जाना जाता है। पहले मंदिर का निर्माण स्रमाट अशोक ने तीसरी शताब्दी ई.पू किया था और वर्तमान मंदिरों को 5वीं या 6ठीं शताब्दी ईसा पूर्व के दौरान निर्मित किया गया था। यह उन सबसे पुराने बौद्ध मंदिरों में से एक है जिसका निर्माण पूरी तरह से ईंटों द्वारा किया गया था जो गुप्त काल से अभी भी भारत में मौजूद है। यह वह स्थान है जिसके बारे में कहा जाता है कि भगवान बुद्ध ने यहां ज्ञान प्राप्त किया था।

महाबोधि मंदिर परिसर का स्थान:

Jagranjosh

तस्वीर स्त्रोत: www.hillmanwonders.com

महाबोधि मंदिर की तस्वीर:

Jagranjosh

तस्वीर स्त्रोत: krishnabhumi.in

महाबोधि वृक्ष की तस्वीर:

Jagranjosh

तस्वीर स्त्रोत: indiatoday.intoday.in

अजंता की गुफाएँ-

एक नजर महाबोधि मंदिर परिसर के तथ्य के बारे में:

1. यह बोधगया (बिहार) के गया जिले में स्थित है।

2. सम्राट अशोक ने 260 ईसा पूर्व के आसपास बोधगया का दौरा किया था और बोधिवृक्ष के पास एक छोटे से मंदिर का निर्माण किया था।

3. ईटों से बने 160 फुट ऊंचे महाबोधि मंदिर का निर्माण पहली से दूसरी ईस्वी  शताब्दी के दौरान किया गया था

फतेहपुर सीकरी-

4. मंदिर लगभग 4.8 हेक्टेयर के क्षेत्र में फैला हुआ है।

5. फाह्यान (एक चीनी पर्यटक) ने पहली बार मुख्य मंदिर और बोधि वृक्ष के बारे में 404-05 ईस्वी के दौरान वर्णन किया था।

6. ह्वेनसांग ने 637 ईस्वी के दौरान इस स्थल का दौरा किया था और बोधि वृक्ष के चारों ओर दीवारें होने की बात कही | उसने यह भी बताया कि महाबोधि मंदिर की ऊंचाई लगभग 160 फुट है |

7. जब दिल्ली सल्तनत ने इस क्षेत्र पर कब्जा किया था तो श्रद्धालुओं द्वारा इस मंदिर का बहिष्कार किया गया था |

8. 19 वीं शताब्दी के दौरान बर्मा के राजा द्वारा इसकी कुछ मरम्मत करायी गयी जिसे अंग्रेजों द्वारा 1884 तक जारी रखा गया।

9. मुख्य मंदिर की दीवार की औसत ऊंचाई 11 मीटर है और इसका निर्माण भारतीय मंदिर वास्तुकला के शास्त्रीय शैली में किया गया है।

10. इस पवित्र स्थान पर एक बुलंद सात मंजिला पिरामिड की आकृति का पंचशिखर डिजाइन है |

11. पवित्र बोधि वृक्ष मंदिर के पश्चिम भाग में स्थित है। इसे भारत में पीपल के वृक्ष (पीपल) के रूप में जाना जाता है। यह माना जाता है कि यह वही वृक्ष है जिसके नीचे भगवान बुद्ध को ध्यान से ज्ञान प्राप्त हुआ था।

12. 2002 में इसे यूनेस्को द्वारा विश्व विरासत स्थल का दर्जा दिया गया था।

13. महाबोधि मंदिर परिसर बिहार के राज्य सरकार की संपत्ति है। 1949 के बोधगया मंदिर अधिनियम के आधार पर राज्य सरकार, बोधगया मंदिर प्रबंधन कमेटी (बीटीएमसी) और सलाहकार बोर्ड के माध्यम से प्रबंधन और संपत्ति की सुरक्षा के लिए जिम्मेदार है।

भारतीय इतिहास पर क्विज हल करने के लिए यहाँ क्लिक करें

यूनेस्को की विश्व धरोहर सूची के लिए 15 भारतीय स्थलों की दावेदारी

यूनेस्को द्वारा घोषित भारत के 32 विश्व धरोहर स्थल

महाबोधि मंदिर परिसर भगवान बुद्ध के जीवन से संबंधित चार पवित्र स्थानों में से एक है और विशेष रूप से इसे आत्मज्ञान की प्राप्ति के लिए जाना जाता है। पहले मंदिर का निर्माण स्रमाट अशोक ने तीसरी शताब्दी .पू किया था और वर्तमान मंदिरों को 5वीं या 6ठीं शताब्दी ईसा पूर्व के दौरान निर्मित किया गया था। यह उन सबसे पुराने बौद्ध मंदिरों में से एक है जिसका निर्माण पूरी तरह से ईंटों द्वारा किया गया था जो गुप्त काल से अभी भी भारत में मौजूद है। यह वह स्थान है जिसके बारे में कहा जाता है कि भगवान बुद्ध ने यहां ज्ञान प्राप्त किया था।

महाबोधि मंदिर परिसर का स्थान:

तस्वीर स्त्रोत: www.hillmanwonders.com

महाबोधि मंदिर की तस्वीर:

Image source: krishnabhumi.in

महाबोधि वृक्ष की तस्वीर:

तस्वीर स्त्रोत: indiatoday.intoday.in

अजंता की गुफाएँ-

एक नजर महाबोधि मंदिर परिसर के तथ्य के बारे में:

1.      यह बोधगया (बिहार) के गया जिले में स्थित है।

2.      सम्राट अशोक ने 260 ईसा पूर्व के आसपास बोधगया का दौरा किया था और बोधिवृक्ष के पास एक छोटे से मंदिर का निर्माण किया था।

3.      ईटों से बने 160 फुट ऊंचे महाबोधि मंदिर का निर्माण पहली से दूसरी ईस्वी  शताब्दी के दौरान किया गया था

फतेहपुर सीकरी-

4.      मंदिर लगभग 4.8 हेक्टेयर के क्षेत्र में फैला हुआ है।

5.      फाह्यान (एक चीनी पर्यटक) ने पहली बार मुख्य मंदिर और बोधि वृक्ष के बारे में 404-05 ईस्वी के दौरान वर्णन किया था।

6.      ह्वेनसांग ने 637 ईस्वी के दौरान इस स्थल का दौरा किया था और बोधि वृक्ष के चारों ओर दीवारें होने की बात कही | उसने यह भी बताया कि महाबोधि मंदिर की ऊंचाई लगभग 160 फुट है |

7.      जब दिल्ली सल्तनत ने इस क्षेत्र पर कब्जा किया था तो श्रद्धालुओं द्वारा इस मंदिर का बहिष्कार किया गया था |

8.      19 वीं शताब्दी के दौरान बर्मा के राजा द्वारा इसकी कुछ मरम्मत करायी गयी जिसे अंग्रेजों द्वारा 1884 तक जारी रखा गया।

9.      मुख्य मंदिर की दीवार की औसत ऊंचाई 11 मीटर है और इसका निर्माण भारतीय मंदिर वास्तुकला के शास्त्रीय शैली में किया गया है।

10.  इस पवित्र स्थान पर एक बुलंद सात मंजिला पिरामिड की आकृति का पंचशिखर डिजाइन है |

11.  पवित्र बोधि वृक्ष मंदिर के पश्चिम भाग में स्थित है। इसे भारत में पीपल के वृक्ष (पीपल) के रूप में जाना जाता है। यह माना जाता है कि यह वही वृक्ष है जिसके नीचे भगवान बुद्ध को ध्यान से ज्ञान प्राप्त हुआ था।

12.  2002 में इसे यूनेस्को द्वारा विश्व विरासत स्थल का दर्जा दिया गया था।

13.  महाबोधि मंदिर परिसर बिहार के राज्य सरकार की संपत्ति है। 1949 के बोधगया मंदिर अधिनियम के आधार पर राज्य सरकार, बोधगया मंदिर प्रबंधन कमेटी (बीटीएमसी) और सलाहकार बोर्ड के माध्यम से प्रबंधन और संपत्ति की सुरक्षा के लिए जिम्मेदार है।

भारतीय इतिहास पर क्विज हल करने के लिए यहाँ क्लिक करें

यूनेस्को की विश्व धरोहर सूची के लिए 15 भारतीय स्थलों की दावेदारी

यूनेस्को द्वारा घोषित भारत के 32 विश्व धरोहर स्थल